ताज़ा खबर
 

कविताएंः ‘बाबा को पहले फसल, फिर खाद बनते देखा है..’

नीरज द्विवेदी की कविताएं

कविता

नीरज द्विवेदी

(१)

बाबा किसान थे,
पर चाहते थे कि वो
परिवार के आखिरी किसान हों….

बाबा मुझे,
खेतों मे नहीं ले जाते थे कभी,
डरते थे,
मुझे, परती से प्रेम न हो जाये कहीं..
(गोया कई आषाढ़ पहले उन्हें हो गया था कभी)

ज़िद मे, चोरी से..
ग़र कभी पहुँच भी जाता मैं खेत तक
तो बाबा, मेढ़ो को मेरे लिये सरहद बना देते…
मैने,
मेढ़ पर बैठे बैठे ही
बाबा को,पहले फसल..
फिर, खाद बनते देखा !!

बाबा के बाद,
सबने मिलकर, बहुत कुछ उगाया खेतों मे,
पर परिवार का ‘आखिरी किसान’ तो बाबा ही रहे !!!

Read Also: कालनेमिः जो भज रहे हैं राम को ताकि राम को ही हरा सकें..
(२)

जिस वक्त,
संविधान को खीसे मे डाल, और
लोकतंत्र के चबूतरे पर बैठ,
नेतागण सब दे रहे होंगे लंबे लंबे भाषण…
मार्क्स और लेनिन के लड़ाके
कर रहे होंगे कागज़ों पर क्रांतियाँ…
मूछों पर ताव देते फेसबुकिये कवि,
लिख रहे होंगे अपनी टूटही रचनायें…
मैं,
एक सिपाही..
आठ बाइ आठ के तंबू में बैठ़कर,
ढूंढ़ रहा होउंगा
तुम्हारे प्रेम में डुबी,
अपनी एक-बटा-चार कविताओं का
नया अर्थ…
और ,
जोड़ रहा होउंगा, अपने जीवन का हासिल..

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 25799 MRP ₹ 30700 -16%
    ₹4000 Cashback
  • Coolpad Cool C1 C103 64 GB (Gold)
    ₹ 11290 MRP ₹ 15999 -29%
    ₹1129 Cashback

Read Also: कविताः तो लौट जाऊंगा सिद्धार्थ बनकर अपनी यशोधरा के पास, हमेशा के लिए

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App