ताज़ा खबर
 

Writers

ravivari, yaad, chandra trikha, chandra trikha articles, jansatta epaper

यादः एक गुमशुदा कलमकार

यह अविश्वसनीय लगता है, पर तथ्य है। किसी एक नाटक को देश में चार हजार बार खेला गया। यह सिलसिला जारी है।

‘अवॉर्ड लौटाकर कहीं हम अधिकार तो नहीं छोड़ रहे हैं’: गुलज़ार

साहित्यकारों के अवार्ड वापस किये जाने को लेकर फिल्मकार और शायर गुलजार ने चिंता जाहिर करते हुए शुक्रवार को कहा कि अवार्ड लौटाकर कहीं हम अधिकार तो नहीं छोड़ रहे हैं।

X