unemployment in india

अक्टूबर में घटने की बजाय और बढ़ गई बेरोजगारी, लॉकडाउन की पाबंदियां हटने के बाद भी बढ़ रहा संकट

भारत में बेरोजगारी की दर अक्टूबर महीने में सितंबर के मुकाबले बढ़ते हुए 6.98 पर्सेंट के लेवल पर पहुंच गई है। सितंबर महीने में देश में बेरोजगारी की दर 6.67 पर्सेंट ही थी, जिसमें अब 0.31 पर्सेंट का इजाफा दर्ज किया गया है।

बिहार में पूरे देश के मुकाबले ज्यादा तेजी से बढ़ रही है बेरोजगारी, चुनाव में भी अहम हो सकता है यह मुद्दा

फिलहाल राज्य में बेरोजगारी की दर तेजी से कम होते हुए 12 फीसदी ही रह गई है, लेकिन राष्ट्रीय औसत के मुकाबले अब भी यह करीब दोगुनी दर है। देश भर में फिलहाल बेरोजगारी की दर 6.7 फीसदी है।

देश भर में घटी बेरोजगारी, पर इन राज्यों में अब भी 22 पर्सेंट तक है बेरोजगारी की दर, बिहार में भी 11 पर्सेंट लोगों पर काम नहीं

पहाड़ी राज्य हिमाचल प्रदेश में बेरोजगारी की दर 12 फीसदी है, जबकि उत्तराखंड का अनएंप्लॉयमेंट रेट 22.3 पर्सेंट है। इसके अलावा त्रिपुरा में बेरोजगारी की दर 17.4 फीसदी, गोवा में 15.4 पर्सेंट और जम्मू-कश्मीर में 16.2 फीसदी लोग बेरोजगार हैं।

अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना के तहत नौकरी छूटने पर अब मिलेगी 50 पर्सेंट तक सैलरी, बढ़ी स्कीम की तारीख

अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना को अगले साल 30 जून तक के लिए बढ़ा दिया है। इसके अलावा कोरोना संकट के दौरान नौकरी गंवाने लोगों को इस स्कीम के तहत राहत पाने के लिए शर्तों में छूट भी दी गई है।

कोरोना काल में दुनिया भर में गईं 50 करोड़ नौकरियां, अकेले भारत में ही सैलरीड क्लास के 2 करोड़ लोगों पर गाज

दुनिया भर में इस संकट के चलते 50 करोड़ लोगों को अपना रोजगार खोना पड़ा है। इसमें से 2 करोड़ लोग अकेले भारत से ही हैं। हालांकि भारत का यह आंकड़ा और ज्यादा हो सकता है क्योंकि CMIE के डाटा में संगठित उद्योग को लेकर ही यह बात कही गई है।

सिर्फ 4 महीनों में बेरोजगार हुए 66 लाख इंजीनियर, टीचर, अकाउंटेंट जैसे पेशवर लोग, मजदूरों पर भी बड़ी मार

50 लाख औद्योगिक मजदूरों को इन 4 महीनों के दौरान अपने रोजगार खोना पड़ा है। सीएमआईई के कन्ज्यूमर पिरामिड हाउसहोल्ड सर्वे के अनुसार इस दौरान नौकरियों का सबसे ज्यादा नुकसान वाइट कॉलर प्रोफेशनल्स को उठाना पड़ा है।

अगस्त में और बढ़ गई बेरोजगारी, शहर में हर 10वें शख्स पर काम नहीं, गांवों में भी बढ़ रहा संकट: रिपोर्ट

बेरोजगारी का सबसे ज्यादा असर हरियाणा पर पड़ा है, जहां अगस्त में बेरोजगारी दर 33.5 फीसदी रही यानी सूबे का हर तीसरा आदमी बेरोजगार है।हरियाणा कृषि प्रधान राज्य है और इस में बेरोजगारी दर में लगातार बढ़ोतरी गांवों में बढ़ती बेरोजगारी की ओर इशारा कर कर रही है।

कोरोना काल में नौकरी गंवाने वाले कर्मचारियों को सरकार ने दी राहत, तीन महीने तक मिलेगा 50 फीसदी वेतन

एक अनुमान के मुताबिक, ईएसआईसी से जुड़े औद्योगिक क्षेत्र के करीब 41 लाख कर्मचारियों को इस फैसले से राहत मिलेगी।

बेरोजगारों को बड़ी राहत देने की तैयारी, 6 महीने तक मिलेगा आखिरी वेतन के 50 पर्सेंट के बराबर भत्ता

अप्रैल में पूरे महीने लॉकडाउन था और इसके चलते 121 मिलियन यानी 12.1 करोड़ लोगों को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी है। हालांकि मई और जून में इसकी रिकवरी शुरू हुई और अब तक 9.1 करोड़ लोगों को रोजगार वापस मिला है।

गांव से शहर तक बेरोजगारी में फिर हुआ तेजी से इजाफा, देश में करीब 9 फीसदी लोगों को काम की तलाश

म्मीद की जा रही थी कि लॉकडाउन खुलने के बाद बेरोजगारी में कमी आएगी और अर्थव्यवस्था में सुधार देखने को मिलेगा। लेकिन उलटे बेरोजगारी दर बढ़ने से चिताएं बढ़ गई हैं।

गरीब कल्याण रोजगार अभियान में बढ़ सकती है जिलों की संख्या, योजना में शामिल न करने पर पश्चिम बंगाल ने किया था विरोध

Garib Kalyan Rojgar Abhiyan implementation: कुछ सप्ताह तक स्कीम चलने के बाद आकलन किया जाएगा और अन्य जिलों को भी जोड़ा जा सकता है। 20 जून को गरीब कल्याण रोजगार अभियान की लॉन्चिंग की गई है।

गरीब कल्याण रोजगार अभियान से दूर रखने पर पश्चिम बंगाल सरकार ने उठाए सवाल, कहा- जिलों की लिस्ट भी नहीं मांगी गई

Garib Kalyan Rojgar Abhiyaan: पश्चिम बंगाल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि केंद्र की ओर से उन जिलों की लिस्ट भी नहीं मांगी गई, जहां स्कीम के तहत काम कराए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम नहीं जानते कि आखिर क्यों केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल को लिस्ट में शामिल नहीं किया है।

देश में बेरोजगारी की दर में आई बड़ी गिरावट, सिर्फ 11.6 पर्सेंट लोगों के पास ही अब नहीं कोई रोजगार: CMIE

जून के दूसरे सप्ताह में बेरोजगारी की दर 11.6 पर्सेंट ही रह गई है, जबकि पहले वीक में यह 17.5 फीसदी थी। यही नहीं अप्रैल और मई में बेरोजगारी की दर लगातार 23.5 पर्सेंट बनी हुई थी।

अनलॉक का असर: शहरों में तेजी से कम हो रही बेरोजगारी की दर, गांवों में अब भी खराब हैं हालात

अब शहरों में बेरोजगारी की दर राष्ट्रीय औसत और गांवों में बेरोजगारी की दर के मुकाबले कम हो गई है। फिलहाल बेरोजगारी का राष्ट्रीय औसत 17.51% है, जबकि गांवों में यह दर 17.71% है।

रिपोर्ट में दावा- देश में मई माह में बढ़ी 2 करोड़ से ज्यादा नौकरियां, फिर भी बेरोजगारी दर बहुत ज्यादा

रिपोर्ट में बताया गया है कि मई में जो 2.1 करोड़ जॉब बढ़ी हैं, उनमें से 1.44 करोड़ छोटे दुकानदार और दिहाड़ी मजदूर हैं। अब जब सरकार लॉकडाउन में छूट दे रही है तो स्वरोजगार करने वाले लोग वापस काम पर लौट आए हैं।

नौकरी गंवाने वालों में युवाओं की संख्या ज्यादा, 20 से 30 साल तक की आयु के 2.7 करोड़ लोग हुए बेरोजगार: सर्वे

lockdown impact on indian economy: नौकरी खोने वाले लोगों की बात करें तो 52 फीसदी लोग ऐसे ही हैं, जिनकी आयु 40 साल से कम की है। इसके उलट कुल रोजगार के अवसरों में 56 फीसदी की हिस्सेदारी रखने वाले 40 साल से अधिक आयु वाले लोगों में से 48 पर्सेंट ऐसे हैं, जिन्हें नौकरी के संकट का सामना करना पड़ा है।

देश में बेरोजगारी की दर में करीब 200 फीसदी का इजाफा, हर चौथे भारतीय पर काम नहीं, कई राज्यों में 50 फीसदी के करीब लोग बेरोजगार

Unemployment rate in india: पंजाब में बेरोजगारी की दर महज 2.9 फीसदी ही है, जबकि छत्तीसगढ़ में 3.4 पर्सेंट है। तेलंगाना में 6.2 फीसदी है। दक्षिण भारतीय राज्यों की बात करें तो तमिलनाडु में हालात बेहद विपरीत देखने को मिले हैं।

दुनिया में 1.6 अरब श्रमिकों की कोरोना वायरस के संकट से छिन जाएगी आजीविका, खाने तक के लाले: अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन

संयुक्त राष्ट्र की संस्था ने कहा कि लॉकडाउन लंबा खिंचने के चलते ऑफिसों के बंद होने और प्लांट्स में काम ठप होने के चलते यह संकट लगातार गहरा रहा है। वर्किंग आवर्स में लगातार कमी देखनो को मिल रही है।

ये पढ़ा क्या?
X