sudhir pachauri bakhabar blog

बाखबरः दिल्ली दर्प दलन

एक देसी टीका ‘एक्सपर्ट’ लगभग रो रहा था और हमारे कुछ एंकर टीका विज्ञानी बन कर तरह-तरह के सवाल तरह-तरह के विशेषज्ञों से उठवा रहे थे और खेद की बात कि सरकार का एक भी बंदा देसी के पक्ष में न दहाड़ा! न कोई एंकर दहाड़ा!

बाखबरः ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है

किसान सम्मान निधि की भूरि भूरि प्रशंसा करते एक प्रवक्ता ने फरमाया : आज हम अठारह हजार करोड़ रुपए नौ करोड़ किसानों को दे रहे हैं! एक युवा किसान नेता ने तुरंत इस पर ‘कट’ लगाया : इतने में तो हमारा डीजल तक नहीं आता। एक अन्य किसान ने इस पर कटाक्ष किया : इसमें ऐसा क्या कमाल है? हम एक लाख करोड़ रुपए की तो जीएसटी देते हैं।

बाखबर: जुमलों के बीच आंदोलन

ये किसान कुछ अलग हैं। वे अपने आंदोलन की हर खबर और अपने धरने के असर के प्रति भी बाखबर हैं। ये न प्रेमचंद के किसान हैं और न राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त के किसान हैं। ये नए ‘उत्तर हरित क्रांति’ के खाते-पीते और राजनीतिक रूप से जागरूक किसान हैं, जिनके पास सरकारी प्रवक्ताओं की हर बात का एक ही जवाब है : पहले कानून रद्द करो, फिर बात करेंगे!

बाखबर: आमार सोनार बांग्ला

फिर एक दिन ‘आधे दिन’ का भारत बंद! चैनलों के लिए ‘आधा अधूरा’! कहीं बंद, कहीं खुला! बंद के दिन ही सरकार किसानों के विचार के लिए दस बिंदुओं वाला प्रस्ताव भेजती है। कई एंकर संशोधनों पर चर्चा कराते हंै, लेकिन किसान प्रस्ताव को सीधे खारिज कर देते हैं। एंकर चिंतित कि ऐसे कब तक चलेगा?

बाखबर: दिल्ली चलो

दो महीने से अपने ‘अन्नदाता’ नाराज हैं। वे दो महीने से कह रहे हैं ‘दिल्ली चलो’, लेकिन हरियाणा पुलिस उनको दिल्ली की सीमाओं पर, कभी गैस गोले मार कर, कभी पानी की बौछार मार कर, कभी लाठी मार करके, रोके हुए है।

बाखबर: संभल जाओ चमन वालों

कुछ बड़बोले चैनलों को फिर रक्षात्मक होना पड़ा! फिल्म प्रोड्यूसर गिल्ड ने कोर्ट से प्रार्थना की कि बॉलीवुड को गंजेड़ी, नशेड़ी, चरसी आदि कह कर ‘बदनाम’ करने वाले चार चैनलों पर ऐसी खबर देने पर पाबंदी लगाई जाए! इसके बाद चैनलों में सन्नाटा छा गया!

बाखबर: काजर की कोठरी में

चैनल वही बताते हैं, उतना ही बताते हैं और उसी तरह से बताते हैं जिस तरह से उनके ऊपर वाले चाहते हैं, इसीलिए आजकल हर कहानी तार-तार बिखेरी जाती है, ताकि आप बटोरते रहें चिंदियां!

बाखबरः हिरासत में कॉमेडी

कॉमेडियन कीकू को एक बाबाजी की नकल उड़ाने के अपराध में अचानक पुलिस ने धर लिया, तो धरे जाने की खबर बनी। बाबा का मजाक उड़ाने पर भी किसी कॉमेडियन को गिरफ्तार किया जा सकता है! एंकर चिंता में दिखे कि क्या अब कॉमेडियनों को जेलों में डाला जाएगा?

ये पढ़ा क्या?
X