Sonia Gandhi

पीड़ित परिवारों की आवाजों को दबाया जा रहा है यह कौन सा राजधर्म है? सोनिया गांधी ने पीएम मोदी पर उठाए सवाल

सोनिया गांधी ने कहा कि अब तो भारत सरकार अपनी संवैधानिक जिम्मेदारियों से भी पीछे हट गयी है। जीएसटी में प्रांतों का हिस्सा तक नहीं दिया जा रहा। प्रांतीय सरकारें इस संकट की घड़ी में अपने लोगों की मदद कैसे करेंगी? देश में सरकार द्वारा फैलाई जा रही अफरा-तफरी और संविधान की अवहेलना का यह नया उदाहरण है।’’

डिबेट में अर्णब ने कहा- जय श्री राम, महंत ने बता दिया सोनिया गांधी को ‘ताड़का’, बोले- राक्षसी की आवाज नहीं निकली…

महंत परमहंस दास यहीं नहीं रुके और प्रियंका गांधी की तुलना सूपर्णखा से और राहुल गांधी की तुलना मामा मारीच से कर डाली।

कुछ लोग ‘भ्रम और भय’ का माहौल पैदा कर सरकार चला रहे हैं : सोनिया गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार पर साधा निशाना

सोनिया गांधी ने सवाल किया कि जब कांग्रेस देश के ग्रामीण क्षेत्र की बेरोजगारी को दूर करने के लिये ‘मनरेगा’ लाई तो किसने विरोध किया, किसने मजाक उड़ाया। उन्होंने कहा कि अगर मनरेगा नहीं होती तो कोविड-19 के समय में बड़ी संख्या में लोग मुखमरी का शिकार होते।

कृषि विधानों को निष्प्रभावी करने को कांग्रेस सरकारे ला सकती हैं नया कानून, सोनिया गांधी ने मुख्यमंत्रियों से कहा-संभावना पर करें विचार

कांग्रेस के संगठन महासचिव वेणुगोपाल ने कहा कि यह अनुच्छेद इन ‘कृषि विरोधी एवं राज्यों के अधिकार क्षेत्र में दखल देने वाले’ केंद्रीय कानूनों को निष्प्रभावी करने के लिए राज्य विधानसभाओं को कानून पारित करने का अधिकार देता है।

Congress के लिए झंडे गाड़ने वाले मनमोहन सिंह श्रेय न मिलने पर होते थे दुखी? देखें, संजय बारू ने क्या बताया

Manmohan Singh Birthday Special: साल 1948 में मनमोहन सिंह के पिता चाहते थे कि बेटा साइंस पढ़कर डॉक्टर बने। पिता की चाह का सम्मान रखते हुए मनमोहन ने दो महीने तक कोशिश की, पर वे पीछे हटे और इकनॉमिक्स की तरफ वापस लौटे। आज (26 सितंबर, 2020) उनका 88वां जन्मदिन है।

संसद के मानसून सत्र के पहले चरण में नहीं शामिल होंगे सोनिया और राहुल, रूटीन चेकअप के लिए विदेश गईं कांग्रेस अध्यक्ष

सोनिया गांधी अपने रूटीन चेकअप के लिए विदेश चली गईं है। वे वहां दो हफ्तों के लिए गए हैं। सोनिया के साथ उनेक बेटे राहुल गांधी भी गए हैं।

संसद में पहला ही दिन और सीएम के ख़िलाफ़ बयान देने पर अमरिंदर सिंह को इंदिरा गांधी ने कर लिया था तलब…जानिए क़िस्सा

अमरिंदर सिंह ने कहा कि “क्या उन नेताओं ने (चिट्ठी लिखने वाले नेता) सोनिया गांधी को या राहुल गांधी को इस बारे में बताया और ये कहा कि वह इन मुद्दों पर चर्चा करना चाहते हैं।

परिवार के मोह से ऊपर उठकर चलाएं Congress- पार्टी से निष्कासित 9 नेताओं का सोनिया गांधी को खत

इन नेताओं की दलील है कि वे अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के सदस्य हैं लिहाजा उत्तर प्रदेश में पार्टी की अनुशासन समिति उन्हें निष्कासित नहीं कर सकती है।

चौपाल: कांग्रेस की दशा

कार्यकतार्ओं का असंतोष कहीं न कहीं पार्टी के पतन का कारण बनता है। कांग्रेस को सबसे पहले आंतरिक अनुशासन को मजबूत करने पर बल देना चाहिए, ताकि आने वाले समय में वह मजबूत विपक्ष के तौर पर जन समुदाय का नेतृत्व कर सके।

सोनिया गांधी के ऑर्डर को तीन दिन लटकाए रखे थे केसी वेणुगोपाल, चिट्ठी लिखने वाले नेताओं का असल निशाना हैं राहुल के ‘दरबारी’

राहुल गांधी के करीबी माने जाने केसी वेणुगोपाल और राजीव सातव दोनों ने साल 2019 में लोकसभा चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था। हालांकि पार्टी की तरफ से इन्हें चुनाव लड़ने के निर्देश थे।

वक्त की नब्ज: मजबूत विपक्ष की जगह

सवाल सिर्फ नेतृत्व का नहीं, सवाल है उन सिद्धांतों का भी, जिनके चलते कांग्रेस दशकों तक सत्ता में डट कर रह सकी है। सेक्युलर और उदारवादी सोच को भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता रोज गाली देते हैं, लेकिन इनकी जरूरत है भारत में बहुत ज्यादा। कांग्रेस को दुबारा बनना पड़ेगा इन विचारों का प्रतीक।

संकट में अभिव्यक्ति की आजादी, पर वे चाहते हैं देश मुंह रखे बंद- सोनिया गांधी का सरकार पर निशाना

सोनिया गांधी ने कहा कि पिछले कुछ समय से हमारे देश को पटरी से उतारने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा ‘‘हमारे लोकतंत्र के सामने नई चुनौतियां खड़ी हुई है। आज देश विरोधी, गरीब विरोधी तथा लोगों को एक दूसरे से लड़ा कर राज करने वाली ताकतें देश में नफरत और हिंसा का जहर घोल रही हैं।’

बोलीं सोनिया गांधी- GST का मुआवजा न दे छल कर रही मोदी सरकार, BJP सांसद ने कहा- झूठ फैक्ट्री की अगुवा हैं Congress चीफ

सोनिया ने आरोप लगाया कि राज्यों को जीएसटी का मुआवजा देने से इनकार करना राज्यों और भारत के लोगों के साथ छल के अलावा कुछ नहीं है। उन्होंने यह दावा भी किया कि केंद्र सरकार एकतरफा उपकर लगाकर मुनाफा कमा कर रही है और राज्यों के साथ मुनाफा साझा नहीं किया जा रहा है।

तय कीजिए, मोदी सरकार से डरिएगा या लड़िएगा? सोनिया के साथ बैठक में बोले उद्धव ठाकरे, ममता बोलीं- चलिए सुप्रीम कोर्ट

बैठक में ममता बनर्जी ने कहा कि कोरोना महामारी को देखते हुए राज्यों को नीट और जेईई की परीक्षा को टालने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख करना चाहिए। बैठक में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमें यह तय करना होगा कि केंद्र से डरना है या लड़ना है।

खरी-खरी: चिट्ठी को तार समझना

कांग्रेस में दो अलग-अलग शक्ति केंद्रों का असर संगठन के तौर पर भी नीचे तक विभाजन के रूप में दिखाई दे रहा था। छोटे नेता और कार्यकर्ता पार्टी से उम्मीद खो रहे थे। उम्मीद कर सकते हैं कि इस संकट से जिस तरह बचा गया उसका सबक आगे बढ़ाया जाएगा। शक्ति के केंद्र अलग-अलग हो पार्टी को तोड़ने के बजाए सांगठनिक तरीके से जोड़ने की ओर कैसे बढ़ें इस पर फौरी कदम उठाते हुए चिट्ठी को तार समझा जाए और सुधार की दिशा में कोई देर न की जाए।

वरिष्ठ कांग्रेसी बोले- सोनिया, राहुल से आसानी से नहीं मिल पातें हैं पार्टी के नेता

अनिल शास्त्री ने कहा कि यदि कांग्रेस पार्टी का कोई वरिष्ठ नेता जैसे सोनिया गांधी और राहुल गांधी पार्टी नेताओं के साथ बैठक करना शुरू कर दें तो आधी समस्याएं ही खत्म हो जाएंगी।

कांग्रेस बनाम कांग्रेस: शशि थरूर की डिनर पार्टी में हुई थी सोनिया को ख़त लिखने की बात?

शशि थरूर की उस डिनर पार्टी में पूर्व केन्द्रीय मंत्री पी.चिदंबरम, उनके बेटे कार्ति चिदंबरम, सचिन पायलट, अभिषेक मनु सिंघवी और मणिशंकर अय्यर जैसे नेता शामिल हुए थे लेकिन उन्होंने चिट्टी पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं।

CWC बैठकः 7 घंटे में भी न निकला हल, सोनिया गांधी को खून से लिखा खत हो रहा वायरल

इसी बीच, CWC सदस्य पी.एल. पुनिया ने बताया कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी की आज लंबी बैठक हुई। सभी ने सोनिया गांधी जी और राहुल गांधी जी में संपूर्ण आस्था व्यक्त की और सोनिया गांधी जी को कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष बने रहने का अनुरोध किया। जो उन्होंने स्वीकार किया।

ये पढ़ा क्या?
X