Shivpal yadav

चाचा-भतीजे फिर आएंगे एकसाथ, शिवपाल ने 2022 चुनाव मिलकर लड़ने के दिए संकेत

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के लिए राजनीतिक कवायदें शुरू हैं। इस दौरान समाजवादी पार्टी से अलग हो चुके शिवपाल यादव ने दोबारा अपने भतीजे और पूर्व सीएम अखिलेश यादव के साथ हाथ मिलाकर चुनाव लड़ने का इशारा किया है।

दिल्ली से सैफई तक मुलायम ने लगाया जोर, पर सपा में पार्टी का विलय करने से शिवपाल का इनकार

मुलायम की कोशिशें फिलहाल कामयाब होती नहीं दिखाई दे रही हैं क्योंकि शिवपाल ने अपनी ‘प्रगतिशील समाजवादी पार्टी’ का सपा में विलय से इनकार कर दिया है।

शिवपाल का छलका दर्द, बोले- मुलायम को चिढ़ाने के लिए अखिलेश ने मेरी कुर्सी छिनी, शकुनि बने रामगोपाल

अखिलेश ने अपने से बड़ों का आदर करना छोड़ दिया। सबसे बड़ी बात उन्होंने सपा के लाखों कार्यकर्ताओं की भावनाओं का भी ख्याल नहीं रखा।

फिरोजाबाद से चुनाव लड़ेंगे शिवपाल यादव, भतीजे अक्षय यादव से होगा सामना

फिरोजाबाद सीट पर समाजवादी पार्टी का अच्छा-खासा प्रभाव है और बीते आम चुनावों में मोदी लहर के बावजूद सपा फिरोजाबाद सीट पर जीत हासिल करने में कामयाब रही थी।

शिवपाल का अखिलेश पर तंज- नेताजी ने मायावती को बहन माना ही नहीं तो बबुआ की बुआ कैसे?

सपा से अलग हो चुके शिवपाल यादव ने भतीजे अक्षय के खिलाफ फिरोजाबाद सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया। इस दौरान उन्होंने अखिलेश यादव पर भी निशाना साधा।

भतीजे अखिलेश को शिवपाल यादव की सलाह- मायावती भरोसे लायक नहीं, मुझ पर लगाए थे यौन शोषण के आरोप

‘बहनजी (मायावती) ने मेरे ऊपर यौन शोषण का आरोप लगाया था। हालांकि मैंने उसी समय कहा था कि मैं नार्को टेस्ट के लिए तैयार हूं। लेकिन इसके लिए केवल एक शर्त है मायावती को भी नार्को टेस्ट कराना होगा’।

भतीजे से मेल के संकेत? शिवपाल बोले- हमारे बिना पूरा नहीं होगा गठबंधन!

शिवपाल यादव अपने भतीजे अखिलेश यादव से नजदीकी बढ़ाने के मूड में हैं। उन्होंने सपा-बसपा गठबंधन पर कहा कि प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के बिना यह गठबंधन अधूरा है।

सपा से निष्कासित पूर्व कैबिनेट मंत्री ने प्रसपा का थामा दामन…

समाजवादी पार्टी को अलविदा कहते हुए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का दामन थाम सकते हैं कई मंत्री और नेता।

भतीजे को पटखनी देने को राहुल से हाथ मिला सकते हैं शिवपाल, दो दिन पहले कांग्रेसी नेताओं से की लंबी बात

खबर के अनुसार, बीते 2 दिन पहले ही शिवपाल यादव ने कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता के साथ मुलाकात की। यह मुलाकात काफी देर तक चली।

शिवपाल संग मुलायम: पीएसपी की रैली में हुई नारेबाजी तो बोले पूर्व सीएम- नहीं सुनना चाहते तो वापस चले जाओ

मुलायम सिंह यादव बगावत के बाद सपा से टूटकर अलग बनी पीएसपी की रैली में शिरकत करने पहुंचे थे। लेकिन, उनके भाषण में सपा का मोह अटका हुआ दिखाई दिया। कई बार उन्होंने पीएसपी की जगह सपा को मजबूत करने का आह्वान कर दिया। हालांकि, इस दौरान मंच पर शिवपाल यादव ने उन्हें एक चिट पकड़ाया। जिसके बाद उन्होंने पीएसपी के संदर्भ में बातें कहनी शुरू की।

बीच सड़क पर भिड़ा ‘मुलायम परिवार’, शिवपाल समर्थकों ने अखिलेश समर्थक को गाड़ी से खींच की पिटाई

समाजवादी सेक्युलर मोर्चा गठित करने वाले शिवपाल यादव के समर्थकों की गाड़ियों का काफिला रास्ते से गुजर रहा था तभी समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के समर्थक की एक गाड़ी शिवपाल समर्थकों के गाड़ियों के काफिले के बीच में आ गई। इस पर शिवपाल समर्थकों का गुस्सा भड़क उठा।

समाजवादी पार्टी के अंदर सियासी खेल, मुलायम के बाद छोटी बहू ने भी किया शिवपाल संग मंच साझा

लखनऊ में समाजवादी क्रांतिकारी समाजवादी पार्टी के 15वें स्थापना समारोह के मौके पर अपर्णा यादव ने शिवपाल के साथ मंच साझा किया। इस मौके पर अपर्णा ने शिवपाल की तारीफ में कसीदे भी पढ़े। उन्होंने शिवपाल को मुलायम सिंह के बाद उनका सबसे चहेता नेता बताया और कहा कि वह चाहती हैं कि सेक्युलर मोर्चा आगे बढ़े।

अखिलेश, डिंपल के खिलाफ उम्‍मीदवार उतारेंगे शिवपाल, बोले- अब पीछे हटने का सवाल ही नहीं

शिवपाल ने सोमवार (18 सितंबर) को यूपी के मैनपुरी के कस्बा करहल में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि समाजवादी सेक्युलर मोर्चा आगामी लोकसभा चुनाव में राज्य की सभी 80 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगा। अखिलेश, डिंपल के अलावा परिवार के धर्मेंद्र यादव के खिलाफ भी मोर्चा उम्मीदवार उतारेगा।

शिवपाल यादव ने बनाया ‘समाजवादी सेक्‍युलर मोर्चा’, हाशिए पर चल रहे नेताओं को दी जाएगी तरजीह

मोर्चे के गठन पर शिवपाल बोले, “सपा में हाशिए पर ढकेले गए नेताओं और बाकी छोटे दलों को इससे जोड़ने काम होगा।” हालांकि, अभी उन्होंने सपा से अपना नाता नहीं तोड़ा है और न ही उस बारे में कोई ऐलान किया है।

उप्र सरकार के मंत्री शिवपाल यादव और भाजपा सांसद मनोज तिवारी समेत पांच के खिलाफ गैरजमानती वारंट

आरोप है कि साल 2009 में चुनाव प्रचार के दौरान शहर के अजीम उल्लाह चौराहा पर प्रशासन की इजाजत के बगैर सभा का आयोजन किया गया था जिसमें सपा के तत्कालीन स्टार प्रचारक मनोज तिवारी भी शरीक हुए थे।

शिवपाल ने सर सैयद अहमद खान से की आजम की तुलना

उत्तर प्रदेश के मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने अपने कैबिनेट सहयोगी आजम खान की तुलना सर सैयद अहमद खान से करते हुए कहा कि जौहर विश्वविद्यालय की स्थापना करने की दिशा में किए गए प्रयासों के लिए आजम खान को भी याद किया जाएगा ।