shani jayanti 2020

Shani Aarti: जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी…शनिदेव की आरती

Shani Dev Ki Aarti: शनि की महादशा 19 वर्ष तक रहती है। शनिदेव न्यायप्रिय राजा हैं। ये अच्छे कर्मों का अच्छा तो बुरे कर्मों का बुरा फल देते हैं। शनि जयंती (Shani Jayanti) पर शनिदेव की पूजा के बाद इस आरती को जरूर करें।

Shani Chalisa: जयति जयति शनिदेव दयाला, करत सदा भक्तन प्रतिपाला… संपूर्ण शनि चालीसा यहां पढ़ें

Shree Shani Chalisa: हर साल शनि भगवान का जन्मोत्सव ज्येष्ठ अमावस्या के दिन मनाया जाता है। इस दिन मंदिरों में विशेष तौर पर भक्तों की भीड़ उमड़ती है। लेकिन इस बार कोरोना महामारी के चलते लोग घर पर रहकर ही पूजा अर्चना कर रहे हैं।

Shani Jayanti 2020: इन 5 राशि वालों पर है शनि की बुरी नजर, इन ज्योतिषी उपायों से कष्ट दूर होने की है मान्यता

शनि जयंती हर साल ज्येष्ठ अमावस्या (Amavasya 2020) के दिन आती है। इसी दिन वट सावित्री व्रत (Vat Savitri Vrat) भी रखा जाता है। शनि जयंती (Shani Jayanti) को शनि दोष से मुक्ति पाने के लिए काफी खास माना गया है। कहते हैं कि शनिदेव की जिन पर अच्छी दृष्टि पड़ जाए उन्हें जीवन के तमाम सुख प्राप्त होते हैं तो वहीं जिन लोगों पर इनकी बुरी दृष्टि पड़ जाती है उन जातकों को कई तरह के कष्टों का सामना करना पड़ता है। जानिये शनिदेव के उपाय…

आज का पंचांग, 22 मई 2020: शनि जयंती और वट सावित्री व्रत आज, जानिये पूजा का शुभ मुहूर्त और राहुकाल

22 May 2020 Panchang: आज नक्षत्र कृत्तिका, योग शोभन है। सूर्य और चंद्र वृषभ राशि में रहेंगे। अमावस्या तिथि की शुरुआत 21 मई से हो चुकी है और इसकी समाप्ति 22 मई यानी आज रात 11 बजकर 08 मिनट पर होगी। आज तमिल हिंदुओं द्वारा मनाया जाने वाला त्योहार मासिक कार्तिगाई भी है। जानिए 22 मई 2020 का पंचांग विस्तार से…

Shani Jayanti 2020: 59 साल बाद शनि जयंती पर अद्भुत संयोग, 5 राशि वालों को मिलेगा फायदा

Shani Birthday 2020: ज्येष्ठ अमावस्या के दिन शनि जयंती (Shani Jayanti) मनाई जाती है। साथ ही इस दिन महिलाएं वट सावित्री व्रत (Vat Savitri Vrat) भी रखती हैं। मान्यताएं हैं इस व्रत को रखने से अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है। मेष, वृषभ, मिथुन, कन्या और मकर वालों के लिए शनि जयंती का दिन बेहद ही खास रहने वाला है।

Shani Jayanti 2020: शनि के प्रकोप से मुक्ति पाने के लिए शनि जयंती पर ऐसे करें पूजा अर्चना

Shani Jayanti Puja Vidhi And Upay: ऐसी मान्यता है कि इस दिन शनिदेव की पूजा करने से शनि साढ़ेसाती, ढैय्या और महादशा से मुक्ति मिल जाती है। इस दिन शनि चालीसा और शनि स्त्रोत का पाठ करना भी काफी फलदायी माना गया है।