Sahitya Academy Award

मशहूर लेखिका कृष्णा सोबती का निधन, 2015 में लौटा दिया था साहित्य अकादमी पुरस्कार

हिंदी की मशहूर लेखिका कृष्णा सोबती का शुक्रवार सुबह निधन हो गया। वे 93 साल की थीं। सोबती का जन्म फरवरी 1925 में गुजरात-पंजाब प्रांत में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में है।

साहित्य अकादमी पुरस्कारों का ऐलान, चित्रा मुद्गल को हिंदी, उर्दू में रहमान अब्बास को सम्मान

हिंदी जगत की जानी-मानी लेखिका चित्रा मुद्गल को उपन्यास ‘नाला सोपारा बोस्ट बॉक्स नंबर 203’ के लिए चुना गया है।

साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार 2015 घोषित, पाने वालों में साइरस मिस्‍त्री-के आर मीरा, लौटाए गए अवॉर्ड वापस नहीं लेगी अकादमी

साइरस मिस्‍त्री को उनके अंग्रेजी उपन्‍यास ‘क्रॉनिकल ऑफ कॉर्प्‍स बेयरर’ जबकि साहित्‍यकार के आर मीरा को उनके मलयाली उपन्‍यास ‘आराचार’ के लिए इस साल का साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार मिला है।

‘अवॉर्ड लौटाकर कहीं हम अधिकार तो नहीं छोड़ रहे हैं’: गुलज़ार

साहित्यकारों के अवार्ड वापस किये जाने को लेकर फिल्मकार और शायर गुलजार ने चिंता जाहिर करते हुए शुक्रवार को कहा कि अवार्ड लौटाकर कहीं हम अधिकार तो नहीं छोड़ रहे हैं।