Religion

Balaram jayanti 2020: 9 अगस्त को है बलराम जयंती, जानिये इस दिन कैसे करें श्रीकृष्ण के दाऊ बलराम की पूजा

Balaram Jayanti Puja Vidhi: मान्यता है कि त्रेता युग में भगवान राम के छोटे भाई लक्ष्मण शेषनाग का अवतार ही थे। इसी प्रकार द्वापर में जब भगवान विष्णु धरती पर श्री कृष्ण अवतार में आए तो शेषनाग भी यहां उनके बड़े भाई के रूप में अवतरित हुए।

स्वप्नशास्त्र: बार-बार दिख रहे हैं ऐसे सपने तो जल्द लग सकती नौकरी

स्वप्न शास्त्र की इस स्पेशल स्टोरी में जानिए ऐसे कौन-से सपने हैं जिनसे आप जान सकते हैं अपनी नौकरी में तरक्की, व्यवसाय में उन्नति और नई नौकरी का अवसर मिलने के बारे में –

सत्संग-भजन से इकट्ठे पैसों का क्या करती हैं साध्वी जया किशोरी? जानिए

जया किशोरी (Jaya Kishori) जब नौ साल की थीं तभी रामाष्टकम्, लिंगाष्टकम और शिव तांडव स्तोत्र का पाठ कर लिया करती थीं। अध्यात्म में आगे बढ़ने के लिए उन्होंने पण्डित गोविंदराम मिश्र से आध्यात्मिक दीक्षा ली।

संकष्टी चतुर्थी की ये प्राचीन कथा पढ़ने-सुनने से मनोकामना पूरी होने की है मान्यता 

मान्यता है कि संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi) कथा को सुनने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और मनचाहा फल प्राप्त होता है। यह कथा शुभ भी माना जाता है। जानिये पूरी व्रत कथा…

संकष्टी चतुर्थी पर करें भगवान गणेश के इन मंत्रों का जाप, धन प्राप्ति से लेकर गृह क्लेश तक दूर होने की है मान्यता

संकटहर्ता भगवान श्री गणेश से संकटों से मुक्त करवाने की कामना के साथ यह व्रत किया जाता है। संकष्टी चतुर्थी पर जानिए भगवान गणेश को प्रसन्न करने के ऐसे मंत्र जिनके जाप से सभी मनोकामनाएं पूरी होने की है मान्यता

Kajari Teej 2020: कजरी तीज को बूढ़ी तीज भी कहते हैं, जानिये क्या है इससे जुड़ी मान्यता और महत्व

Kajari Teej 2020 Significance, History, Vrat Katha, Date: यह व्रत उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और बिहार के कई क्षेत्रों में रखा जाता है। इस व्रत को रखने वाली सुहागिन स्त्रियों की इसमें बहुत अधिक श्रद्धा होती है।

Kajari Teej 2020: कजरी तीज पर क्या करें और किन चीजों से बचें, पढ़ें- पूरी व्रत कथा यहां

Kajari Teej 2020: व्रती महिलाओं और कन्याओं को व्रत के दिन सफेद रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए। इस दिन श्रृंगार का महत्व बहुत ज्यादा है। इसलिए इस दिन महिलाओं को अधिक श्रृंगार करना चाहिए।

Kajari Teej: अखंड सौभाग्य के लिए कैसे रखें कजरी तीज, जानिये पूजा विधि, मुहूर्त और सभी जरूरी बातें

Kajari teej 2020 Date, Time, Muhurat, Puja Vidhi: मान्यताओं के अनुसार कजरी तीज के दिन सुहागिन स्त्रियां निर्जला व्रत रखती हैं और भगवान शिव और देवी पार्वती से अपने और पति की लम्बी उम्र और समृद्धि की कामना करती हैं।

अयोध्या देखकर कई लोगों को लगेगी मिर्ची, उनके लिए बनाऊँगा दवा- राम मंदिर के आलोचकों पर रामदेव का तंज

बाबा रामदेव ने कहा राम इसलिए नहीं पूजे जाते कि वे अयोध्या के राजा थे, बल्कि इसलिए पूजे जाते हैं कि उन्होंने वनवास लिया, रावण का संहार किया, उन्होंने एक पति, पुत्र और राजा का धर्म निभाया।

सावन विशेषः विभिन्न धर्मों में निहित है समान विचारधारा

दिव्य संत ने कहा- बेटा, जबकि स्वामी श्रीयुक्तेश्वर उनसे दुगुनी उम्र के थे, अनेक के दोष के कारण सभी को दोषी मत मानो। इस जगत में हर चीज मिश्रित रूप में है, शक्कर और रेत के मिश्रण की तरह। चींटी की भांति बुद्धिमान बनो, जो केवल शक्कर के कणों को चुन लेती हैं और रेत के कणों को स्पर्श किए बिना छोड़ देती है।

छत्तीसगढ़ः हरेली तीज पर लाठियों के साथ करतब करते दिखे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

Hariyali Teej: बता दें कि इसी आयोजन में सीएम बघेल ने अपने गोधन योजना का भी उद्घाटन किया, राज्य के लोग इस त्योहार को बड़े धूमधाम से मनाते हैं

संवत्सर का हृदय: शिव आराधना का मास श्रावण

शिव पूजा करने वाला पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुंह करके बैठे और शुद्ध जल से अपना पवित्रीकरण करे। आचमन करने के बाद प्राणायाम करके अपना नाम और गोत्र बोलकर संकल्प करे। मस्तक पर त्रिपुंड्र तिलक लगाने के बाद हाथ में अक्षत और पुष्प लेकर सबसे पहले प्रथमपूज्य भगवान गणपति का पूजन करे।

श्रीकृष्ण से प्रेम करती थीं राधा फिर उनके गोकुल छोड़ने पर क्यों किया अभिमन्यु से विवाह? जानिए रहस्य

राधा रानी कहती हैं। ‘आश्लिष्य वा पाद-रतां पिनष्टु माम् अदर्शनान्मर्म-हताम्-हतां करोतु वा यथा तथा वा विदधातु लम्पटो मत्प्राण-नाथस्तु स एव नापरः॥’ वो मेरे पास रहें या दूर रहें, मुझसे प्रेम करें या न करें, प्रेम का मतलब है हर स्थिति में हम आपसे प्रेम करते हैं।

न्याय के देवता शनि को इन मंत्रों के जाप से प्रसन्न करने की है मान्यता, जानिये पूजा के समय किन बातों का रखना चाहिए ध्यान

Shani Upay: कभी भी शनि महाराज की पूजा उनकी मूर्ति के सामने नहीं करना चाहिए। शनिदेव की पूजा वहीं करें जहां उनकी शिला मौजूद हो

हेल्थ से लेकर वेल्थ तक, तरक्की में सहायक माने जाते हैं ये रत्न; जानिये- आपको कौन सा करेगा शूट

अपनी राशि और जन्मतिथि के मुताबिक रत्न धारण करना चाहिए, इससे आपको फायदा मिलने की ज्यादा संभावना रहती है। याद रहे, रत्न को धारण करने से पहले ज्योतिषी से सलाह लें…

व्यंग्य: स्वर्ग के गेट से लौटाए गए जुम्मन, चित्रगुप्त ने कहा- अभी दिन पूरे नहीं हुए

जुम्मन ने कहा, “बात यह थी कि जन्नत में हूर होती हैं, शानदार शराब होती है। ये सब छोड़कर बाबा के शिवधाम कैसे चला जाता।

Chanakya Niti: बच्चों को बनाना चाहते हैं संस्कारवान, तो इन बातों का ध्यान रखना जरूरी

Chanakya Niti In Hindi: माता-पिता सदैव यही चाहते हैं कि वो अपने बच्चों को अच्छे संस्कार दे सकें ताकि बच्चों के आचरण से वो गर्व महसूस कर पाएं और उनका भविष्य भी बेहतर बने

Shani Jayanti 2020: राशि के अनुसार ये उपाय करने से शनिदेव होंगे प्रसन्न, जानिये

Shani Jayanti 2020: धनु राशि के लोगों को शनि जयंती पर ज्योतिष चीटियों को चीनी या फिर आटा खिलाने की सलाह देते हैं, कुंभ राशि के लोग नीलम रत्न पहन सकते हैं

ये पढ़ा क्या...
X