ravivari stambh

राष्ट्र सारा देखता है

एक सरकारी प्रवक्ता घोषणा करता है : अभी तीसरी लहर भी आनी है, लेकिन कब? नहीं जानते! जब नहीं जानते कि कब आएगी तो...

बकबक का नशा

भगौने का भविष्य तय हो गया था। बेसुर बकबक का नशा परोसने की भट्टी उसकी जीभ में जन्मजात लगी हई थी। उसको भड़काते रहना...

जवाबदेही किसकी है?

सच तो यह है कि भारतीय जनता पार्टी खुद बंगाल की सभ्यता नहीं समझ पाई है। इस राज्य के इतिहास में हिंदुओं और मुसलमानों...

मोदी बनाम दीदी और दूसरे मुकाबले

एक बार फिर यह साबित हो गया कि क्षेत्रीय दलों का लोगों से जुड़ाव ज्यादा है। राष्ट्रीय दलों का स्वरूप काफी बड़ा होता है,...

कार्य-संस्कृति की शिथिलता

कोरोना ने मनुष्यों को बहुत कुछ सिखाया-पढ़ाया है। अब यह मनुष्य पर है कि वह इसमें से कितना कुछ समझ पाता है और व्यावहारिक...

सच के सामने

फिजूल की चीजों में उलझने के बदले हमारे राजनेताओं को अपना पूरा ध्यान देना चाहिए महामारी को काबू करने पर, लोगों का दर्द समझने...

आपदा से तबाही तक

सबसे बड़ी चिंता टीकों की पर्याप्त आपूर्ति नहीं होने को लेकर है। प्रतिष्ठित अस्पतालों तक से टीके की कमी की खबरें आ रही हैं।...

जिंदगी की तस्वीर

मैंने कहा- ‘पर देखो, माली बहुत सारे फूलों को बेवक्त तोड़ कर लिए जा रहा है। उसको रोको।’ उसने कहा- ‘बहुत सारे उसकी पहुंच...

कोविड आपातकाल

एक लड़की रो रही है। उसकी मां मर रही है, मर गई है, वहीं अस्पताल के सामने। एक मंत्री एक मरीज को आॅक्सीजन देने...

जवाबदेही के बजाय

जब तक भारतीय जनता पार्टी शासित राज्यों में बेहाल अस्पताल और श्मशान नहीं दिखने लगे, केंद्र सरकार के मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के...

सात साल बाद गरीबी, बीमारी और मौत

एक मंत्री विदेशी टीकों के आयात को मंजूरी दिए जाने के सुझाव का उपहास उड़ाता है (वह विदेशी दवा कंपनियों को लिए लामबंदी कर...

डर का बाजार

हर खबर चैनल कोरोना ही मुख्य खबर बनाने लगता है। उसके आंकड़े दिए जाने लगते हैं। विशेषज्ञ जनता के सवालों का जवाब देने लगते...

स्त्रियों के हक में

सार्वजनिक जीवन में सक्रिय स्त्रियां किसी भी देश की प्रगति का पैमाना होती हैं। इस संदर्भ में आंबेडकर ने कहा था- ‘मैं समाज की...

लापरवाही का संक्रमण

साबित यह भी हो गया है कि इस तरह की पूर्णबंदी से संक्रमण को नुकसान कम होता है और अर्थव्यवस्था को ज्यादा। अभी से...

अब कम स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव

चुनाव आयोग का जो सबसे ज्यादा खराब काम रहा, वह पश्चिम बंगाल में चुनाव कार्यक्रम को आठ चरणों और तैंतीस दिन में फैला देने...

महामारी पर भारी सियासत

चैनलों की सभी ऐसी बहसें एक-सी दिखती हैं : विपक्ष दनदनाता है कि कोविड बढ़ रहा है। वैक्सीन विदेश क्यों भेजा? दूसरा कहता है,...

अथ बकरी-बैल कथा

एक बात मैं तुम्हें बता दूं- बकरियों को बैल बनाने के आश्वासन पर राज चलता है। मुझे राज करना है। मैं इन्हें बैल बनाता...

जरूरत नई रणनीति की

विदेशी टीकों का आयात भी खोलने की जरूरत है, इसलिए कि इस युद्ध में आत्मनिर्भता का कोई काम नहीं है। इस युद्ध में बल्कि...

यह पढ़ा क्या?
X