provident fund balance withdrawal

पीएफ में योगदान कम होने से कितनी बढ़कर आएगी आपकी टेक होम सैलरी? जानें- पूरा कैलकुलेशन

सरकार का कहना है कि इससे एक तरफ नियोक्ता यानी कंपनियों पर बोझ कम होगा और दूसरी तरफ कर्मचारियों की टेक होम सैलरी में इजाफा होगा। सरकार के इस फैसले का देश के 4.3 करोड़ पीएफ सबस्क्राइबर्स पर असर पड़ने वाला है।

पीएफ खाते में जमा हैं 2 लाख रुपये तो कितने निकाल सकते हैं आप? जानें- क्या है तरीका और क्या हैं नियम

provident fund withdrawal process: पीएफ खाते के जरिए 75 पर्सेंट तक की रकम या फिर तीन महीने की सैलरी के बराबर की पूंजी, जो भी कम हो, आप कोरोना के इस संकट में निकाल सकते हैं। पीएफ निकासी के लिए यह आवेदन ऑनलाइन किया जा सकता है।

प्रोविडेंट फंड में तीन महीने की छूट ज्यादा कंपनियों को दे सकती है सरकार? स्टाफिंग फेडरेशन ने उठाई मांग

सरकार ने जो आदेश दिया है, उसके मुताबिक यदि किसी कंपनी के 90 फीसदी कर्मचारियों की सैलरी 15,000 रुपये से ज्यादा नहीं है तो उसे पीएम गरीब कल्याण योजना के तहत लाभ मिलना है।

कोरोना संकट में काम आ रहा प्रोविडेंट फंड, ईपीएफओ ने 1.37 लाख क्लेम पर जारी किए 280 करोड़ रुपये

कोरोना के चलते निकासी करने वाले पीएफ खाताधारकों के मामलों को प्राथमिकता के आधार पर सेटल किया जा रहा है। ईपीएफओ ने कहा, ‘इस योजना की शुरुआत के बाद से देशभर में ईपीएफओ ने 1.37 लाख क्लेम के मामलों के प्रोसेस किया है।

कोरोना के संकट में ऑनलाइन निकालें पीएफ, सिर्फ तीन दिनों में खाते में आ जाएगी रकम, जानें- क्या है पूरी प्रक्रिया

Online Provident fund withdrawal: ईपीएफओ ने अपने पोर्टल पर भी कोरोना संकट में पीएफ की ऑनलाइन निकासी के फीचर को अपडेट कर दिया है। कोरोना के संकट में नौकरी जाने या फिर किसी भी मजबूरी में इस सुविधा का इस्तेमाल किया जा सकता है।

अटका 6 लाख मजदूरों का प्रोविडेंट फंड, आधार और UAN में मेल न होने के चलते बढ़ा संकट, अपनी ही पूंजी पाने में बेबस

Provident Fund withdrawal: 6 लाख मजदूरों का पीएफ लटका हुआ है। इसकी वजह उनके यूनिवर्सल अकाउंट नंबर और आधार की डिटेल में अंतर पाया जाना है। इसके चलते बीते 6 महीनों से पीएफ की राशि इनके खाते में नहीं ट्रांसफर हो सकी है।

वरिष्ठ नागरिक कल्याण फंड की ब्याज दर में बड़ी कटौती, 7.9 पर्सेंट की बजाय 6.85 फीसदी हुआ इंटरेस्ट

फाइनेंस एक्ट, 2015 के तहत सीनियर सिटिजंस वेलफेयर फंड की स्थापना की गई थी। इसकी स्थापना इसलिए की गई थी ताकि बुजुर्गों से संबंधित तमाम योजनाओं को उनके हित में इस्तेमाल किया जा सके।

पीएफ पर लगातार 11 साल तक मिला था 12 पर्सेंट का ब्याज, फिर अटल सरकार में हो गई कटौती

Provident Fund interest rate: करीब 11 सालों तक पीएफ की ब्याज दर 12 फीसदी ही बनी रही और यह दौर था, 1989-90 से 1999 तक का। ईपीएफओ के इतिहास में यह पीएफ के ब्याज की यह सबसे ऊंची दर थी।

Employee’s Provident Fund Organisation: प्रोविडेंट फंड पर ब्याज में कटौती की तैयारी, इस साल इन्क्रीमेंट भी कम होने की आशंका

Employee’s Provident Fund Organisation: ईपीएफओ की ओर से पीएफ अकाउंट में जमा राशि पर ब्याज दर को फाइनेंशियल ईयर 2020 के लिए घटाकर 8.5 पर्सेंट करने पर विचार किया जा रहा है। फिलहाल पीएफ अकाउंट पर ईपीएफओ की ओर से 8.65 फीसदी का ब्याज दिया जा रहा है।

EPFO, ESIC payroll data: दिसंबर में 12.67 लोगों को मिली नौकरी, नवंबर के मुकाबले करीब 2 लाख की आई कमी

EPFO, ESIC payroll data: नवंबर के मुकाबले यह 1 लाख 92 हजार कम है, तब 14.59 लाख लोगों को नौकरी मिली थी। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के पेरोल डेटा में यह आंकड़ा सामने आया है।

Provident Fund balance withdrawal: जल्द UAN से लिंक कराएं Aadhar Card, रिटायरमेंट के दिन ही मिलेगा पूरा PF, पेंशन भी हो जाएगी तुरंत चालू

Employees Provident Fund: ईपीएफओ ने ई-इंस्पेक्शन सिस्टम लॉन्च करने का फैसला लिया है। इससे यह पता लगाया जा सकेगा कि आखिर कंपनी तय समय पर राशि जमा कर रही है या नहीं।

Provident Fund Balance check: कंपनी ने आपका पीएफ जमा किया या नहीं, जानें- कैसे एक मेसेज से चलेगा पता

Provident Fund Deposit and Balance: ईपीएफओ उस स्थिति में भी खाताधारकों को मेसेज भेजता है, जब एंप्लॉयर की ओर से उसका हिस्सा जमा न किया गया हो। कंपनियां 15 तारीख तक अपने हिस्से का पीएफ जमा करती हैं।

Employee Provident Fund balance transfer: अब खुद दर्ज कर सकते हैं नौकरी छोड़ने की तारीख, आसान होगा PF निकालना और बैलेंस ट्रांसफर

Provident Fund withdrawal: समस्या का समाधान करते हुए EPFO ने एक नया फीचर लॉन्च किया है। इसके जरिए कर्मचारी पिछली कंपनी में अपने आखिरी दिन को खुद ही अपडेट कर सकते हैं।

पुराने ऑफिस से स्‍टांप लगवाए बिना अब निकाल सकेंगे PF का पैसा

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के अशंधारक अब भविष्य निधि (पीएफ) की निकासी के लिए आवेदन अपने नियोक्ता (कंपनी) के सत्यापन के बिना ही जमा करा सकते हैं।