potential

तीरंदाज: पुरुषार्थी का पुरुषार्थ

मान्यवर मुस्कराए- दाढ़ी कर्म का नहीं, बल्कि मन का पुरुषार्थ है। मन चंगा तो कठौती में गंगा। अर्थात कुछ करो या न करो, कठौती में पानी जरूर बनाए रहो। दाढ़ी पुरुषार्थ की कठौती का पानी है।

ये पढ़ा क्या?
X