Politics

मजबूरी के चलते तेजस्वी यादव को क्रिकेट से करना पड़ा था किनारा, हालात ने बनाया पॉलीटिशियन; फेल का ठप्पा लगने पर दी थी सफाई

तेजस्वी इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का भी हिस्सा रह चुके हैं। वह 2008, 2009, 2011 और 2012 के सीजन में दिल्ली कैपिटल्स (तत्कालीन दिल्ली डेयरडेविल्स) का हिस्सा रहे थे। हालांकि, उन्हें एक भी मैच में खेलने का मौका नहीं मिला।

‘प्रवास’ के जरिए निगम चुनाव की जमीन तैयार करेगी भाजपा

निगम चुनाव के लिए भाजपा ने जमीनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। इस बार निगम से नए कार्यकर्ताओं को जोड़ने के लिए पार्टी ‘प्रवास’ मुहिम की शुरुआत करेगी।

सम-सामयिक,दलाई लामा : क्यों भिड़ गए अमेरिका और चीन

केंद्रीय तिब्बती प्रशासन के प्रधानमंत्री लोबसांग सांगे ने नवंबर 2020 में अमेरिका की यात्रा की थी। उन्होंने वाइट हाउस में बैठक की थी। साठ साल में वह ऐसा करने वाले निर्वासित केंद्रीय तिब्बती प्रशासन के पहले प्रधानमंत्री थे। अब अमेरिका की ट्रंप सरकार ने तिब्बत को लेकर आने वाली बाइडेन सरकार के सामने रोडमैप रख दिया है।

‘तुम सबकुछ छोड़ सकते हो, लेकिन कुर्सी नहीं’, कपिल शर्मा के शो पर नवजोत सिंह सिद्धू ने लिए थे मनोज तिवारी के मजे

मनोज तिवारी एक बार सेलिब्रिटी लीग का प्रमोशन करने के लिए कपिल शर्मा के शो पर गए थे। उनके साथ सुनील शेट्टी, सोहैल खान और दिनेल लाल यादव ‘निरहुआ’ के साथ कई एक्टर्स गए थे। शो पर पूर्व क्रिकेटर और कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू भी थे।

चौपाल: जनता की जिम्मेदारी

जिस तरह जनता ने अपनी आवश्यकताओं का मूल्यांकन करने की क्षमता खो दी है और आस्था के नाम पर राजनीतिक दलों के हाथों की कठपुतली बनती जा रही है, वह अत्यंत दुखद और भयावह है। भारत महान था और रहेगा, लेकिन इसकी जिम्मेदारी केवल राजनीतिकों की ही नहीं, बल्कि जनता की भी है।

संपादकीय: घाटी से संकेत

जम्मू-कश्मीर में जिला विकास परिषद यानी डीडीसी का चुनाव कई दृष्टि से महत्त्वपूर्ण है। राज्य की स्वायत्तता समाप्त होने के बाद यह पहला चुनाव है, जिसमें वहां के सभी राजनीतिक दलों ने भागीदारी की और लोगों में मतदान को लेकर उत्साह दिखाई दिया।

राजनीति: चिकित्सा सहायकों की जरूरत

विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रपट के मुताबिक कोविड संकट में करीब चौवालीस फीसद मरीज नर्सों के सेवाभावी समर्पण से ही स्वस्थ हो रहे हैं। ऐसे में एकीकृत नर्सिंग सेवा संवर्ग या मानक सेवा शर्तों का निर्धारण किया जाना वक्त की मांग है। भारतीय निवेश आयोग के अनुसार इस क्षेत्र में बड़े निवेश की आवश्यकता है, क्योंकि यह बारह फीसद की दर से बढ़ता हुआ क्षेत्र है।

चौपाल: सहभागी राजनीति

राष्ट्रीय हितों के संदर्भ में अंतरराष्ट्रीय परिस्थितियों के अनुसार लिए जाने वाले महत्त्वपूर्ण निर्णयों में भी समस्त राजनीतिक दलों की भागीदारी अपेक्षित होती है। लेकिन इसमें भी राजनीतिक पूर्वाग्रह आड़े आता है।

अखाड़े से निकल राजनेता बनीं बबीता फोगाट ने शादी में 7 की जगह लिए थे 8 फेरे, जानिए क्या थी वजह

बबीता की शादी की कहानी भी काफी रोचक है। विवेक अखाड़े में पहलवानी करते थे। दोनों की मुलाकात 2014 में सोनीपत के साईं सेंटर में कुश्ती खिलाड़ियों के लिए लगे एक नेशनल शिविर के दौरान हुई थी। वहीं से ये लव स्टोरी शुरू हुई। बबीता और विवेक ने नच बलिए 9 में भी हिस्सा लिया था।

राजनीति: अंतरिक्ष में बढ़ती ताकत

आज दुनिया में जिस तरह के हालात बनते जा रहे हैं, अमेरिका, रूस, चीन जैसे दुनिया के कुछ ताकतवर देश जिस प्रकार पिछले कुछ दशकों में मजबूत अंतरिक्ष शक्ति के रूप में उभरे हैं और अंतरिक्ष में अपने हथियारों की तैनाती कर रहे हैं, उससे भविष्य में अंतरिक्ष युद्ध की आशंका से इंकार
नहीं किया जा सकता।

संपादकीय: बिहार की कमान

नीतीश कुमार सातवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। इतने समय तक सत्ता में रह कर वे अच्छी तरह जानते हैं कि बिहार में कहां किस चीज की जरूरत है। लालू प्रसाद यादव को नकार कर वहां के लोगों ने नीतीश कुमार को इसलिए कमान सौंपी थी कि उनकी छवि एक कुशल प्रशासक के रूप में बनी हुई है। सुशासन बाबू के नाम से उन्हें जाना जाता है।

चौपाल: पद की गरिमा

आमतौर पर यह देखा गया है कि राज्यपालों ने समय-समय पर अपनी संवैधानिक प्रतिबद्धताओं के ऊपर अपने राजनीतिक रुझानों को अधिक वरीयता दी है।

क्रिकेट से पॉलिटिक्स में कदम रखने वाले अनुराग ठाकुर के खून में है राजनीति, ‘सेना’ में ‘अफसर’ बनने वाले पहले भाजपा सांसद हैं वित्त राज्य मंत्री

अनुराग सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। ट्विटर पर उनके 15 लाख से ज्यादा फॉलोअर हैं। अनुराग के पिता प्रेम कुमार धूमल दो बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं।

कभी नाम बदलने तो कभी सरेआम मनचले को सबक सिखा रही हैं चर्चा में, जानिये- कौन हैं खुशबू सुंदर

दक्षिण की मशहूर एक्ट्रेस खुशबू सुंदर (Kushboo Sundar) ने साल 2014 में कांग्रेस का हाथ थामा था। उस वक्त खुशबू ने कहा था कि कांग्रेस ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो जातियों और पंथों के बीच एकता और सद्भावना बना सकती है।

PR छोड़ पॉलिटिक्स में आईं तो पति हो गए थे खिलाफ, ऐसी है प्रियंका चतुर्वेदी की लाइफस्टाइल और निजी जिंदगी

प्रियंका चतुर्वेदी के पति विक्रम नहीं चाहते थे कि वे राजनीति में आएं। रिपोर्ट्स के मुताबिक जब उन्हें प्रियंका के राजनीति में आने का पता चला तो बिफर गए।

भारतीय फुटबॉलर का 24 घंटे में ही हुआ भाजपा से मोहभंग, फैंस से मांगी माफी; राजनीति को कहा गुडबाय

राजनीति छोड़ने वाले मेहताब हुसैन मोहन बागान के लिए 2018-19 में खेल चुके हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मेरी पत्नी मौमिता, बच्चे जिदान और जावी ने भी मेरे इस फैसले का समर्थन नहीं किया। वे दोनों भी इस फैसले से निराश हुए थे। इसी कारण मैं अब राजनीति से दूर हो रहा हूं।’’

चौपाल: बदलती राजनीति

देश और समाज के विकास में कर्तव्यों के आक्सीजन की कमी नजर नहीं आती। इसके बावजूद राजनीति को पारदर्शिता से पूर्ण नहीं बनाया जाता। राजनीति में जन-सेवा भाव और विकास और प्रगति के पहलुओं को शामिल होना ही चाहिए। यही राजनेताओं के कर्तव्य का पालन है।

सियासी विरोध दरकिनार कर ठहाके लगाते दिखे नितिन गडकरी और शशि थरूर! केंद्रीय मंत्री के पंजाबी तड़के में पक्ष-विपक्ष का ‘महामिलन’

इस पंजाबी तड़के में बीजेपी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, पीयूष गोयल, रविशंकर प्रसाद, एस जयशंकर, सुब्रमण्यम स्वामी, शिवसेना के संजय राउत, कांग्रेस के शशि थरूर, राजीव शुक्ला, हंसराज हंस आदि मौजूद रहे।

ये पढ़ा क्या?
X