papur mob lynching

झारखंड में मॉब लिंचिंंग: मुसलमान न होता तो आज जिंदा होता मेरा भतीजा- अंसारी के चाचा ने कहा, तीन महीने पहले ही हुई थी शादी

शनिवार(22 जून) को जूडिशल कस्टडी में रखे गए तबरेज की हालत खराब हुई और उसे तुरंत सदर अस्पताल और उसके बाद टाटा मेन हॉस्पिटल जमशेदपुर रेफर किया गया। लेकिन, उसकी हालत इतनी खराब थी कि डॉक्टर उसे बचा नहीं पाए।

हापुड़ मॉब लिंचिंग: FIR में लिखा- गोहत्या नहीं घटना की वजह, नए वीडियो में नजर आई दूसरी सच्चाई

19 जून को इंडियन एक्सप्रेस ने रिपोर्ट की थी कि घटनास्थल से पुलिस को कोई बाइक नहीं मिली। पीड़ित परिवारों और गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों के मुताबिक भी हत्या गाय से जुड़े मामले की वजह से की गई।

ये पढ़ा क्या?
X