nagaland politics

राजनीति: नगा शांति वार्ता की कठिन राह

अब एनएससीएन (आइएम) की समानांतर सरकार पर शिकंजा कसता जा रहा है। असम राइफल्स और भारतीय सेना ने इस संगठन की समानांतर सरकार की रीढ़ माने जाने वाले हर जिला मुख्यालय स्थित ‘टाउन कमांड’ को खत्म कर दिया। दूसरी बड़ी बात यह कि एनएससीएन (आइएम) को नगा-समस्या का एकमात्र ‘भागीदार’ न मानते हुए अन्य संगठनों और नागरिक समाज को भी शांति-वार्ता में शामिल करने की पहल हुई है। इससे एनएससीएन (आइएम) का बौखलाना स्वाभाविक है।

नागालैंड के नवनिर्वाचित विधायकों की मांग, चाहिए 22 लाख की ये लग्जरी कार

नागालैंड में फरवरी में विधानसभा चुनाव हुए थे जिनके नतीजे 3 मार्च को घोषित किए गए थे। इन चुनावों में नागा पीपल्स फ्रंट पार्टी को 27 सीटें मिली जिसके बाद यह पार्टी राज्य में एकल बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। इतनी सीट जीतने के बाद भी पार्टी राज्य में सरकार नहीं बना पाई।

पूर्वोत्तर के लिए मोदी सरकार ने खोला खजाना

पूर्वोत्तर भारत को विकास का तोहफा देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को नई रेलवे लाइनें बिछाने के लिए 28 हजार करोड़ रुपए और इलाके को 2जी मोबाइल सुविधा से लैस करने के लिए पांच हजार करोड़ रुपए देने की घोषणा की। पूर्वोत्तर की अपनी तीन दिन की यात्रा के अंतिम चरण में सोमवार […]

ये पढ़ा क्या?
X