Nagaland peace accord

नगालैंड: मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ीं, NSCN-IM ने कहा- अलग ध्वज और संविधान बिना केंद्र से समझौता नहीं

एनएससीएन-आईएम का कहना है कि बिना अलग झंडे और संविधान के भारत की केंद्र सरकार के साथ शांति समझौते का सम्मानजनक समाधान नहीं निकलेगा।

राजनीति: नगा शांति वार्ता की कठिन राह

अब एनएससीएन (आइएम) की समानांतर सरकार पर शिकंजा कसता जा रहा है। असम राइफल्स और भारतीय सेना ने इस संगठन की समानांतर सरकार की रीढ़ माने जाने वाले हर जिला मुख्यालय स्थित ‘टाउन कमांड’ को खत्म कर दिया। दूसरी बड़ी बात यह कि एनएससीएन (आइएम) को नगा-समस्या का एकमात्र ‘भागीदार’ न मानते हुए अन्य संगठनों और नागरिक समाज को भी शांति-वार्ता में शामिल करने की पहल हुई है। इससे एनएससीएन (आइएम) का बौखलाना स्वाभाविक है।

नगा समझौते से उम्मीदें कम, आशंकाएं ज्यादा: कहीं होम करते जल ना जाए हाथ

केंद्र सरकार और नगा उग्रावदी संगठन नेशनल सोशलिस्ट कौंसिल आफ नगालैंड (एनएससीएन) के इसाक-मुइवा गुट के बीच सोमवार को हुए समझौते को भले ऐतिहासिक कहा जा रहा हो, नगालैंड और उसके तीन पड़ोसी राज्यों में इसे लेकर उम्मीदें कम हैं, आशंकाएं ज्यादा।

ये पढ़ा क्या?
X