Modi Govt

PMSVANidhi: स्ट्रीट वेंडरों को कर्ज देने में यूपी टॉप पर, बंगाल रहा सबसे फिसड्डी; देखिए लिस्ट

प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि योजना शहर के स्ट्रीट वेंडरों के लिए केंद्र की माइक्रो क्रेडिट स्कीम है।

सरकार को ‘कैड़ापन’ दिखाना चाहिए, हम तो नरम आदमी हैं…अड़ियल रुख के आरोप पर बोले टिकैत

किसान नेता राकेश टिकैत ने अड़ियल रुख के आरोप के जवाब में कहा कि सरकार को कड़ा होना चाहिए। सरकार को कैड़ापन दिखाना चाहिए।

‘किसानों का हुआ सियासी इस्तेमाल’, बोले कृषि मंत्री- कल क्या होगा मुझे नहीं पता, पर आशा पर टिका है आसमान

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मीटिंग के बाद कहा कि हमने किसान यूनियन को कहा कि जो प्रस्ताव आपको दिया है उस पर फिर से विचार करें।

ट्रैक्टर रैली की आड़ में गड़बड़ी हुई तो किसान जिम्मेदारी लेंगे? पूर्व DCP के सवाल का किसान नेता ने दिया यह जवाब…

आज तक पर डिबेट के दौरान पूर्व डीसीपी एलएन राव ने कहा कि अगर 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली में कोई गड़बड़ी होती है तो क्या किसान नेता इसकी जिम्मेदारी लेंगे?

विरोधियों को योगेंद्र यादव का जवाब- मैं पहले चुनाव विश्लेषक था अब जितना राजनाथ जी किसान हैं उतना मैं भी हूं, 4 एकड़ जमीन है

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन में सक्रिय दिखने वाले योगेंद्र यादव ने आज कहा कि जो कहते हैं मैं किसान नहीं हूं उनको मेरा जवाब यही है कि जैसे किसान राजनाथ सिंह हैं वैसा किसान मैं भी हूं।

मीटिंग के बाद बोले किसान नेता, सरकार डेढ़ साल के लिए कानूनों को लागू नहीं करने को तैयार

बुधवार को सरकार ने विरोध प्रदर्शन करने वाली यूनियनों के साथ 10 वें दौर की वार्ता में तीन विवादास्पद कृषि कानूनों में संशोधन करने की पेशकश की लेकिन किसान नेताओं ने कानूनों को पूरी तरह से निरस्त करने की अपनी मांग दोहराई।

सरकार के साथ बातचीत से पहले बोले राकेश टिकैत, सच कहा तो सजा निश्चित, हन्नान ने कहा- कोई उम्मीद नहीं है

किसान नेता राकेश टिकैत का कहना है कि किसानों की लड़ाई भी आजादी की लड़ाई जैसी है। जो किसान आंदोलन में आ रहा है सरकार उनको गुनहगार समझ रही है।

कम्युनिस्ट किसान आंदोलन से बाहर हो जाएं तो कल ही हो जाएगा समाधान, केंद्रीय मंत्री बोले- किसानों के मुद्दे तो हल हो चुके

केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी का कहना है कि कम्युनिस्ट किसान आंदोलन से बाहर हो जाएं तो कल ही समस्या का समाधान हो जाएगा।

किसान आंदोलन: कानून पर रोक के बावजूद प्रदर्शन क्यों? राजनीतिक विश्लेषक के सवाल का प्रियंका राणा ने दिया जवाब…

सरकार का दावा है कि वे कानून से बिचौलियों को खत्म कर देगी वहीं किसानों का कहना है कि ये कानून किसानों को कॉरपोरेट के भरोसे छोड़े देंगे और एमएसपी को खत्म कर देंगे।

सुप्रीम कोर्ट से नाखुश किसान नेता राकेश टिकैत बोले- कानून वापसी थी हमारी मांग, इसके बिना हिलेंगे तक नहीं

मालूम हो कि आज सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों को लागू किए जाने पर रोक लगा दी। मुद्दे को सुलझाने के लिए कोर्ट ने एक समिति का गठन किया है।

कांग्रेस पार्टी से आप समझदारी की उम्मीद क्यों करते हैं? डिबेट में बोले राजनीतिक विश्लेषक

कांग्रेस ने आज दावा किया कि कृषि कानूनों पर गतिरोध को सुलझाने के लिए सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित समिति के सभी चार सदस्यों ने कानूनों का समर्थन किया है।

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों की तरह हमें नहीं हटा सकेगी, हल्के में न ले सरकार- किसान नेता ने चेताया

कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने शुक्रवार को कहा कि मोदी सरकार किसानों को शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों की तरह समझती है जिन्हें वे हटाने में सफल रही थी। पर ऐसा होने वाला नहीं है।

RTI में खुलासा, केंद्र के पास कृषि कानून लागू करने से पहले किसानों से हुई बातचीत का रिकॉर्ड नहीं

एक महीना हो चुका है और किसान दिल्ली की सीमा पर डटे हुए हैं। किसान केंद्र द्वारा लाए गए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं और चाहते हैं कि सरकार इनको वापिस ले।

नए कृषि कानूनों के जरिए सीधे Walmart और Amazon तक पहुंच बना पाएंगे किसान- US ट्रेड संस्था का बयान

नए कानून के बारे में अमेरिकी कारोबारी और निवेशक सोचते हैं कि इससे भारतीय किसानों को अधिक कमाने का विकल्प मिलेगा।

अराजकता के सितारे…आपने कब हल चलाई है, बीच डिबेट में अर्नब गोस्वामी ने लगा दी पैनलिस्ट की क्लास

कांग्रेस प्रवक्ता को जवाब देते हुए अर्नब ने कहा, ‘अराजकता के सितारे, शहरी नक्सलियों के समर्थक, माओवादियों के समर्थक आपने कब हल चलाई।’

किसान आंदोलन पर SC ने कहा-किसानों को है प्रदर्शन करने का अधिकार, CJI ने हरीश साल्वे की दलील पर दिया ये जवाब

सुप्रीम कोर्ट ने आज किसान आंदोलन के मुद्दे पर सुनवाई की। कोर्ट का कहना है कि किसानों को विरोध जारी रखा जाना चाहिए लेकिन दिल्ली को ब्लॉक नहीं किया जा सकता है।

ये पढ़ा क्या?
X