migrant worker

Coronavirus: 4 महीने में ही रोजगार और राशन पर खर्च हो गया साल भर का 45 फीसदी बजट

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (MGNREGA) के जरिए 9 करोड़ घरों को अप्रैल और जुलाई में काम मिला। इसी तरह राष्ट्रीय खाद्य अधिनियम (NFSA) के तहत रियायती दरों पर 7.20 करोड़ लोगों को अप्रैल-जुलाई के बीच हर महीना राशन दिया गया।

बिहार में 22 दिन में तिगुने हो गए कोरोना मरीज, प्रवासी मजदूरों ने नहीं फैलाया मर्ज, लैटेस्ट डेटा बता रहे नीतीश सरकार की नाकामी की कहानी

शुरुआत में राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश में कोरोना फैलने के आधे से भी ज्यादा मामलों के लिए प्रवासी मजदूरों को जिम्मेदार ठहराया था। हालांकि कहानी कुछ और ही है…

रोजी-रोटी के लिए फिर दिल्ली लौट रहे प्रवासी मजदूर लेकिन अनलॉक होने के बावजूद नहीं मिल रहा काम, मजदूरों ने बयां किया दर्द

पिछले महीने बवाना इंडस्ट्रियल एरिया में सॉफ्ट ड्रिंक्स मैन्युफैक्चरिंग यूनिट से हरिंदर कुमार के मालिक का फोन आया और काम पर वापस लौटने के लिए कहा गया। मगर एक सप्ताह बाद यूनिट बंद हो गई।

बंगाल को नहीं मिलेगा गरीब कल्याण रोजगार योजना का लाभ, केंद्रीय वित्त मंत्री ने कहा- राज्य ने नहीं दिए प्रवासियों के आंकड़े

तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने ‘गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ का लाभ राज्य को नहीं देने के लिए हाल में केंद्र सरकार की आलोचना की थी।

हाईकोर्ट की लताड़ के बाद कर्नाटक सरकार ने वापस लिया मजदूर विरोधी ऑर्डर, हटा दिया था 72 साल पुराने कानून का प्रावधान

सरकार ने यह कदम तब उठाया है जब कर्नाटक हाईकोर्ट ने 9 जून को सुनवाई के दौरान कहा था कि सरकार अगर यह अधिसूचना वापस नहीं लेती है तो कोर्ट खुद अगले सुनवाई से पहले इस पर रोक लगा देगी।

‘केंद्र पूरा वेतन देने को नहीं कर सकता बाध्य’, SC ने कहा- अपने आदेश पर हलफनामा दायर करे सरकार

गृह मंत्रालय ने 29 मार्च को एक सर्कुलर जारी कर सभी कंपनियों और नियोक्ताओं को निर्देश दिया था कि वे अपने यहां कार्यरत सभी श्रमिकों और कर्मचारियों को बगैर किसी कटौती के लॉकडाउन की अवधि में पूरे पारिश्रमिक का भुगतान करें।

कोरोना संकटः 15 दिन में प्रवासियों को पहुंचाएं घर, सारे केस भी लीजिए वापस- SC का सरकारों को आदेश

बकौल सुप्रीम कोर्ट, ‘केंद्र और राज्य इसके लिए व्यवस्थित ढंग से लिस्ट तैयार कर प्रवासी मजदूरों की सूची तैयार करें। इनके लिए रोजगार की व्यवस्था को लेकर भी योजना बनाई जाए।’

कई बार रेप हुआ और बेची गईं, रेपिस्ट से बचने को मजदूरों की भीड़ में छिपकर निकलीं 3 महिलाएं

क्रूरता को याद करने हुए 22 वर्षीय पीड़िता ने बताया कि मुझे 53 साल के नंदलाल यादव को 1.5 लाख रुपए में बेचा गया। उसने मेरे साथ बलात्कार किया और कैद कर लिया। मैं वहां से भागना चाहती थी मगर उसने मुझे शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया।

कोरोना, लॉकडाउन का प्रभावः 8 साल में पहली बार मई में NREGA की रही सर्वाधिक डिमांड, 2.19 करोड़ परिवारों ने लिया लाभ

Coronavirus Lockdown 5.0: रोजगार ना होने के चलते मई में 2.19 करोड़ से अधिक परिवारों ने ग्रामीण गांरटी योजना का उपयोग किया, जो कि मई माह के लिए पिछले आठ वर्षों में सबसे अधिक है। एक आधिकारिक डेटा से ये जानकारी मिली है।

IPL 2020 LIVE
X