meghalaya

अर्नब गोस्वामी के लिए आवाज उठाई, मेरी गिरफ्तारी पर चुप्पी- एडिटर्स गिल्ड पर आरोप लगा संपादक ने दिया इस्तीफा

मुखिम ने बयान में कहा, “हाईकोर्ट का ऑर्डर गिल्ड के साथ साझा कर उम्मीद जताई थी कि वह इस आदेश की आलोचना में एक बयान जारी करेगा, पर संस्था ने इस पर बिल्कुल चुप्पी साध ली।”

मेघालय : भूस्खलन के चलते महिला क्रिकेटर की मौत, पांच लापता

मेघालय क्रिकेट एसोसिएशन के महासचिव गिडिओन खारकोंगोर ने कहा कि रजिया 2011-12 से राष्ट्रीय स्तर के विभिन्न टूर्नामेंट में राज्य का प्रतिनिधित्व कर रही थीं।

‘अब जिंदगी में आराम करने का वक्त’, दो साल में तीन तबादले के बाद बोले गवर्नर सत्यपाल मलिक, पहले भी हुई आलोचना

गोवा के सीएम प्रमोद सावंत के साथ मतभेदों के बारे में पूछे जाने पर मलिक ने कहा, “मुझे अच्छा ‘व्यक्तिगत तालमेल’ पसंद है।

CAA विरोध में बांग्लादेश सीमा के करीब हिंसा, मेघालय में तीन मौतें, कर्फ्यू, इंटरनेट बंदी

ये हिंसा कथित रूप से पूर्वी खासी हिल्स जिले में गैर आदिवासी भीड़ द्वारा खासी व्यक्ति लुरशाई हायनिवता की मौत के बाद भड़की। इसमें असम के बरपेटा जिले के रहने वाले 29 वर्षीय रूपचंद दीवान की भी मौत हो गई।

CAA पर अब मेघालय में उबाल, एक की मौत; खासी छात्रों और गैर आदिवासी गुटों में झड़प, इंटरनेट बंद

मेघालय के ईस्ट खासी हिल्स जिले में सीएए और इनर लाइन परमिट (आईएलपी) पर एक बैठक के दौरान केएसयू सदस्यों और गैर आदिवासियों के बीच झड़प हो गई। जिसके बाद शिलॉन्ग में कर्फ्यू लगा दिया गया था और छह जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई थी।

CAA विवादः ‘शाहीन बाग में 50 दिन से चल रही नौटंकी’, मेघालय के राज्यपाल का बयान

तथागत रॉय, पूर्व BJP नेता हैं और वह अपने हैरान करने वाले और विवादित बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहते हैं।

मेघालय में एक दिन से ज्यादा ठहरने पर पर्यटकों को कराना होगा रजिस्ट्रेशन! ऐसे नियम बनाने वाला देश का पहला राज्य

डिप्टी चीफ मिनिस्टर ने आगे बताया ‘अगर कोई व्यक्ति मेघालय का नागरिक नहीं है तो उसे राज्य में 24 घंटे से ज्यादा रुकने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

बस में मिले 5900 डेटोनेटर, पूरा शहर तबाह कर सकता था विस्फोटक का इतना बड़ा जखीरा, यह थी प्लानिंग

असम से मेघालय से आ रही एक बस में विस्फोटकों का जखीरा मिला है। पुलिस ने मामले में 2 यात्रियों को भी गिरफ्तार किया है।

UP-बिहार व गुजरात नहीं, नरेंद्र मोदी सरकार में असम-मेघालय कैडर के IAS अधिकारियों का है बोलबाला

असम और मेघालय कैडर के अलावा अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मिजोरम और केंद्र शासित प्रदेश (एजीएमयूटी) के कैडरों का भी इस बाबत (सरकार में वरिष्ठ पदों पर) ठीक-ठाक प्रतिनिधित्व है।

Assam: खतरे के निशान से ऊपर बह रही ब्रह्मपुत्र नदी, 3 सेंटीमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से बढ़ रहा पानी

भारी बारिश के चलते राज्य के 33 में से 31 जिलों में जनजीवन पर बुरा असर पड़ा है। लगातार बिगड़ते जा रहे हालातों से करीब 26.5 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। असम में हर साल बाढ़ से स्थिति बिगड़ती है लेकिन इस बार हालात तेजी से बिगड़ रहे हैं।

Indian Railways: तपती गर्मी में हो आइए ‘स्कॉटलैंड ऑफ ईस्ट’, पैकेज में हवाई टिकट भी शामिल; जानें बाइक टूर के डिटेल्स

Indian Railways: दरअसल, रेलवे एडवेंचरस मेघालय बाइक टूर (फ्लाइट के जरिए) लेकर आया है, जिसमें पर्यटकों को साइट सीइंग के साथ ढेर सारी एडवेंचर एक्टिविटीज, खाने-पीने की व्यवस्था और स्थानीय कार्यक्रमों व पर्वों का आनंद लेने का मौका मिलेगा।

मेघालय जनजातीय परिषद चुनाव: सत्ता में रहकर भी हारी बीजेपी, जीत से उत्साहित कांग्रेस

कांग्रेस ने खासी हिल्स जिला परिषद में 29 में से 10 सीटें जीतीं, जबकि नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) – जिसने एमडीए का नेतृत्व किया – सात और सहयोगी यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी (यूडीपी) ने छह जीत हासिल की।

मेघालय खदान मामलाः 34वें दिन बरामद हुआ पहला शव, 14 मजदूरों का अब भी पता नहीं

खदान में काम कर रहे 15 मजदूर 13 दिसंबर को अचानक पास में बहने वाली नदी का पानी घुस जाने से फंस गए थे। रिपोर्ट्स के मुताबिक 370 फीट गहरी इस खदान में 100 फीट से भी ज्यादा तक पानी भरा है।

Meghalaya Mining Incident: 13 दिसंबर से फंसे हैं 15 खनिक, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- कोशिश जारी रखो, चमत्कार भी होते हैं

सुप्रीम कोर्ट ने आज (शुक्रवार) केन्द्र और मेघालय सरकार को कहा कि वो पूर्वी जयंतिया हिल्स में खदान में फंसे खनिको को निकालने के लिए कोशिश जारी रखें और साथ ही विशेषज्ञों की मदद लें।

मेघालय खदान मामलाः 27 दिन बाद भी खाली हाथ रेस्क्यू टीम, 15 मजदूरों बचाने की जद्दोजहद अब भी जारी

चार हफ्तों से चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन में कुछ मजदूरों के हेलमेट छोड़कर रेस्क्यू टीम को कुछ नहीं मिला। 370 फीट गहरी इस खदान में 100 फीट तक पानी भरा है।

अवैध कोयला खदान से मिले दो खनिकों के शव, एनजीटी ने पूर्वोत्तर राज्य पर लगाया 100 करोड़ का जुर्माना

दरअसल मीडिया रिपोर्ट की मानें तो साल 2014 के प्रतिबन्ध के पहले कोयला खनन उद्योग से राज्य में सालाना 700 करोड़ रुपए तक राजस्व आता था। लेकिन प्रतिबन्ध के कारण इस अवैध खनन से होने वाली कमाई में कमी आ गई। हालाँकि इस पर रोक लगाने का एक मुख्य कारण खनिकों सुरक्षा भी थी।

केंद्र से बोला कोर्ट- गैरकानूनी खदान का खाका न होने से बाधित हो रहा बचाव कार्य

लगभग तीन हफ्ते से खदान में फंसे लोगों के लिए ‘‘प्रत्येक मिनट कीमती’’ है। पीठ ने केंद्र का प्रतिनिधित्व कर रहे सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को शुक्रवार तक सरकार के उन कदमों से न्यायालय को अवगत कराने का निर्देश दिया था जो वह इस मामले में उठाने के लिए सोच रही है।

खदान में फंसे मजदूरों पर मेघालय सरकार को SC की फटकार- ‘जिंदा हैं या नहीं, जैसे भी हैं बाहर निकालो, हम रेस्क्यू से संतुष्ट नहीं’

जिस 370 फीट गहरी खदान में मजदूर फंसे हैं उसमें 70 फीट तक पानी भरा है। एनजीटी ने इस खदान से खनन पर रोक लगाने का आदेश दिया था। इसके बावजूद यहां से खनन जारी था।

ये पढ़ा क्या?
X