Markandey Katju Blog

मस्जिद, मंदिर या चर्च नहीं, अच्‍छे स्‍कूल और वैज्ञानिक संस्‍थान बनाइए

Markandeya Katju’s Blog: सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कण्‍डेय काटजू ने तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन द्वारा प्रसिद्ध हागिया सोफिया को मस्जिद में बदलने के फैसले को प्रतिक्रियावादी, देश को काले अतीत मेें ले जाने वाला और नाकामी छिपानेे के मकसद से उठाया गया कदम बताया हैै।

चीन को रोकने के लिए अमेरिका व अन्‍य देशों का साथ ले भारत

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कण्‍डेय काटजू का मानना है कि आर्थिक मकसद साधने के लिए चीन भारतीय इलाकों में घुसपैठ से बाज नहीं आएगा। उसकी विस्‍तारवादी नीतियों पर लगाम लगाने के लिए अमेरिका व उस जैसे अन्‍य देशों की मदद लेना ही भारत के लिए एक मात्र विकल्‍प है।

शुद्ध धोखा है ओबीसी आरक्षण, मंडल कमीशन पर फैसला देने वाले जज के सामने नहीं रखे गए थे ये तथ्‍य

उन्होंने लिखा है, वी पी सिंह सरकार ने ओबीसी को आरक्षण देने की सिफारिश इंदिरा साहनी के मामले में फैसला आने के बाद साल 1993 में ही लागू कर दी थी लेकिन 1993 में यादवों, कुर्मियों आदि को पिछड़ा नहीं कहा जा सकता था (जैसा कि ऊपर बताया गया है), भले ही वे 1947 से पहले पिछड़े थे।

USCIRF को वीजा से इनकार….सही नहीं सरकार

यूएससीआईआरएफ द्वारा अमरीकी प्रशासन को सिफारिश की गई है कि भारत को “विशेष चिंता का देश” के रूप में नामित किया जाए, 2002 के गुजरात दंगों के बाद ऐसा पहली बार हुआ है।

‘ब्रिटिश एजेंट थे सावरकर, मुस्लिमों के खिलाफ उगलते थे जहर’, जयंती पर बोले SC के पूर्व जज

काटजू ने कहा कि सावरकर सिर्फ 1910 तक ही राष्ट्रवादी थे, बाद में वे ब्रिटिश सरकार के एजेंट बन गए।

‘एक कश्मीरी राजा और उसका  न्याय’

जस्टिस गुप्ता ने अपने भाषण में कहा था कि भारतीय न्यायिक प्रणाली आज गरीबों के खिलाफ और अमीरों की पक्षधर हो गयी है। जबकि वास्तव में न्यायिक प्रणाली इसकी उलटी होनी चाहिए गरीबों के पक्ष में, क्योंकि सुरक्षा की आवश्यकता गरीबों को है अमीरों को नहीं।

‘मानहानि केस का डर है इसलिए सीएम को मॉडर्न नीरो नहीं कह पा रहा हूं’, SC के पूर्व जज का योगी आदित्यनाथ पर निशाना

काटजू ने कहा कि मानहानि केस का डर है इसलिए मैं योगी आदित्यनाथ को मॉडर्न नीरो नहीं कह पा रहा हूं। काटजू ने योगी के अलावा राज्य के कई डीएम को शाहंशाह बताया। उन्होंने लिखा कि इस प्रदेश की धरती ऐसे कई शाहंशाहों की ब्रीडिंग कर रही है।

हिटलर के शासनकाल से मौजूदा दौर की तुलना कर बोले जस्टिस मार्कण्डेय काटजू- संभल जाओ इंडिया, आने वाले हैं बुरे दिन

काटजू ने लिखा कि जनवरी 1933 में हिटलर के सत्ता में आने के बाद लगभग पूरा जर्मनी पागल हो गया था, हर तरफ लोगों ने ‘हेल हिटलर’ के नारे लगते हुए उस पागल आदमी को महान बना दिया था।

गौ हत्या पर प्रतिबंध राजनीतिक साज़िश: मार्केंडय काटजू

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्केडेय काटजू ने गौ हत्या पर लगे प्रतिबंध को राजनीतिक साजिश कहकर एक और विवाद को जन्म दे दिया है। उन्होंने गौ मांस पर बैन का विरोध करते हुए कहा कि मैं क्या खाता हूं इसका फैसला मैं करूंगा। गौ मांस को प्रोटीन का सस्ता स्रोत बताते हुए काटजू ने […]