mahabharat

32 साल से जी रहे हैं वहम में- महाभारत के ‘भीष्म पितामह’ मुकेश खन्ना पर ‘धर्मराज’ गजेंद्र चौहान का पलटवार

गजेंद्र चौहान ने दावा किया कि डीडी किसान में उनकी नियुक्ति के बाद खुद मुकेश खन्ना ने दो बार उन्हें फोन किया था और एक सीरियल पास कराने की सिफारिश की थी…

The Kapil Sharma Show को मुकेश खन्ना ने बताया वाहियात तो भड़के महाभारत के ‘युधिष्ठिर’, कहा- अंगूर खाने को नहीं मिले तो…

मुकेश खन्ना ने द कपिल शर्मा शो को फूहड़ बताते हुए कहा कि शो में मर्दों का औरतों के कपड़े पहनाकर घटिया हरकतें करना अश्लील है। इस पर गजेन्द्र चौहान ने करारा जवाब दिया।

राजकाज: बर्बरीक बोध

हारने वाले के साथ खड़े रहने की नैतिकता हासिल करने के लिए किसी वरदान की जरूरत नहीं होती। लेकिन नैतिकता तभी ताकत बन पाती है जब उसे एक रणनीति मिले जो पक्ष और विपक्ष, हारने वाला-जीतने वाला जैसी तात्कालिक चीज नहीं धर्म स्थापना जैसे अमर लक्ष्य की ओर चले। बिना नीति और रणनीति के धर्म की जीत नहीं हो सकती है। धर्म की स्थापना के लिए दोनों एक साथ जरूरी है।

राजकाज: बेबाक बोल-भीमासुर

मानव जीवन के संघर्ष के हर पहलू को उजागर करने के कारण आधुनिक रंगमंच की दुनिया में भी महाभारत के पात्र पहली पसंद रहे हैं। इससे दुनिया भर के नाटककार प्रभावित रहे हैं। जापान के हिरोशी कोइके के द्वारा निर्देशित महाभारत बहुप्रशंसित है। इस नाटक को चार अध्यायों में पूरा किया गया है जो महाभारत के विभिन्न वृत्तांतों की व्याख्या करते हैं। कंबोडिया से शुरू कर भारत, जापान और मलेशिया में भी इस नाटक का मंचन हुआ।

Shri Krishna: फिर टॉप पर पहुंचा रामनंद सागर का ‘श्री कृष्णा’, 25 वें हफ्ते में मारी बाज़ी ‘महाभारत’ को मिला दूसरा स्थान…

Shri Krishna: दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले सीरियल श्री कृष्णा अपने 25वें हफ्ते में बार्क की रेटिंग्स में टॉप पर काबिज़ है। वहीं दूसरे और तीसरे पायदान पर इन धारावाहिकों को…

बेबाक बोलः भीष्म संदेश

भीष्म महाभारत के वो नायक हैं जो सबसे ज्यादा अनिर्णय की स्थिति में रहते हैं। वे भी अर्जुन की तरह ‘मैं’ से ग्रसित हैं। उन्हें लगता है कि वे अपने अनुसार युद्ध का रुख मोड़ सकते हैं और इस कारण श्रीकृष्ण के धर्म की पुनर्स्थापना के लक्ष्य में सबसे बड़े बाधक बन जाते हैं। अर्जुन के बाद भीष्म वो दूसरे व्यक्ति हैं जिन्हें कृष्ण कुरुक्षेत्र के मैदान में उपदेश के लिए चुनते हैं लेकिन रौद्र रूप में। अर्जुन के विपरीत कृष्ण भीष्म को शस्त्र त्यागने के लिए कह उनका वध तय करते हैं। धर्म का मार्ग समय की तरह गतिशील होता है और भीष्म अपनी प्रतिज्ञा के कारण धर्म और अधर्म की ध्रुवीय दूरी में तटस्थ बने रहने का प्रयत्न कर रहे थे। यही तटस्थता नियति की योजनाओं को नकार रही थी। बेबाक बोल में भीष्म के जीवन संदेश पर बात। यह संदेश स्व के ऊपर सामूहिकता के स्वीकार की बात करता है, जिसमें जीवन और धर्म की गतिशीलता में ही भारत का भविष्य देखा गया। 

‘शक्तिमान-भीष्म पितामह के हैंगओवर से बाहर निकलो’, शख्स ने किया ट्रोल तो मुकेश खन्ना बोले- मैं करोड़ों कमाने के लिए…

मुकेश खन्ना ने यूं तो बॉलीवुड की तकरीबन 60 फिल्मों में काम किया है। लेकिन उनको आज भी लोग ‘भीष्म पितामह’ और ‘शक्तिमान’ के किरदार से पहचानते हैं। हाल ही में एक यूजर उन्हें इसे लेकर ट्रोल करने की कोशिश की, तो एक्टर ने जवाब देते हुए कहा…

इस बात से नाराज हो गए थे महाभारत के ‘भीम’, शो छोड़ने तक पहुंच गई थी बात

प्रवीण कुमार हिंदी डायलॉग ठीक से नहीं बोल पाते थे। लिहाज उनके डायलॉग को डब करने की बात उठी जिसपर प्रवीण कुमार काफी गुस्सा हो गए थे। उन्होंने शो छोड़ने की बात तक कह डाली थी।

महाभारत में युद्ध के दौरान ‘कर्ण’ की आंख के पास लग गया था तीर, दो बार लगवाने पड़े थे टांके

Mahabharat एक ऐसा शो है जो साल 2020 में भी रीटेलिकास्ट हुआ और तो और जबरदस्त टीआरपी के साथ फिर से हिट हुआ। इस शो के कलाकारों ने महाभारत को हिट शो बनाने के लिए कड़ी मेहनत की थी और अपना खून पसीना तक बहाया था।

महाभारत के सेट पर जूता पहनना था मना, लगता था जुर्माना, ‘शकुनि’ गुफी पेंटल ने सुनाया किस्सा

गुफी ने महाभारत की शूटिंग के दिनों को याद करते हुए एक रोचक किस्सा शेयर किया। उन्होंने बताया कि महाभारत के सेट पर कोई भी अभिनेता जूते पहन कर अंदर नहीं जा सकता था।

‘महाभारत’ से पहले मुकेश खन्ना को लोग कहने लगे थे फ्लॉप एक्टर, यात्रा के दौरान शर्म से छुपा लेते थे पहचान

बी.आर चोपड़ा की ‘महाभारत’ में पितामह भीष्म का दमदार किरदार निभाने वाले एक्टर मुकेश खन्ना ने एक इंटरव्यू में बताया कि, इस शो से पहले वो एक फ्लॉप एक्टर के रूप में पहचाने जाते थे। लेकिन ‘महाभारत’ ने पूरी तरह उनकी छवि…

Mahabharat 22nd May Episode Update: वासुदेव के युद्ध टालने के सुझाव पर दुर्योधन हुआ क्रोधित, कृष्ण को बनाया बंदी

Mahabharat’ 22nd May Episode Online Update: वासुदेव युद्ध को टालने का सुझाव देते हुए कहते हैं कि यदि दुर्योधन द्रुपद के चरणों को छूकर माफी मांग लेते हैं तो पांडव उसे भी दंड मान लेंगे। वासुदेव की इस बात पर ना सिर्फ शकुनि मामा बल्कि दुर्योधन भी क्रोधित हो जाता है। वह कृष्ण को बंदी बनाने का प्रयत्न करता है….

‘Mahabharat’ 21th May Episode Update: शांतिदूत बनकर हस्तिनापुर पहुंचे वासुदेव, कहा- युद्ध तभी टल सकता है…

‘Mahabharat’ 21th May Episode Online Update: संजय श्री कृष्ण से कहते हैं कि इससे इस बुढ़ापे में धृतराष्ट्र क्या अपने वंश को नाश होते देख पाएंगे। कृष्ण कहते हैं कि सबको अपना धर्म होता दिखाई दे रहा। उधर, पांचाली एकांतवास में बैठी होती है। वह पांडवों से पूछती है कि आप लोगों ने क्या निर्णय लिया।

कभी बॉलीवुड की बोल्ड एक्ट्रेस में गिनी जाती थीं महाभारत की ‘कुंती’ नाजनीन, अब कहां हैं, किसी को पता नहीं

महाभारत में कुंती के रोल में नजर आने वालीं एक्ट्रेस नाजनीन लाइमलाइट में रहीं और खूब सुर्खियां बटोरी। कभी बॉलीवुड की बोल्ड एक्ट्रेस में से गिनी जाने वालीं एक्ट्रेस आज…

Mahabharat: सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा ‘महाभारत’ के आखिरी एपिसोड का बैकस्टेज वीडियो, रोते-बिलखते दिखे शो के कलाकार!

लॉकडाउन के चलते ‘महाभारत’ का टीवी पर एक बार फिरसे प्रसारण किया गया। इन दिनों सोशल मीडिया इस शो से जुड़ा बैकस्टेज का वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें आखिरी एपिसोड शूट होने के बाद कलाकार रोते हुए नजर आ रहे…

वृद्धाश्रम में रहने को मजबूर ‘महाभारत’ के ‘इंद्र’ सतीश कौल, कभी करोड़ों के थे मालिक, आगे-पीछे घूमते थे डायरेक्टर

बी.आर चोपड़ा की ‘महाभारत’ में देवराज इंद्र की भूमिका निभाने वाले एक्टर सतीश कौल, वृद्धाश्रम में जीवन बिताने को मजबूर हैं। एक वक्त पर करोड़ों की संपत्ति के मालिक एक्टर के आगे-पीछे घूमते थे फिल्म डायरेक्टर्स…

Mahabharat: रूपा गांगुली से पहले जूही चावला को ऑफर हुआ था द्रौपदी का रोल, इस वजह से कर दिया था इनकार…

1988 में दूरदर्शन नेशनल चैनल पर टेलीकास्ट हुए महाभारत सीरियल में द्रौपदी के किरदार को काफी ज्यादा पसंद किया गया। आपको बता दें कि ये किरदार पहले जूही चावला को ऑफर किया गया था लेकिन जूही उस वक्त फिल्म कयामत से कयामत में बिजी थीं। जिसके चलते इस रोल के लिए फिर रूपा गांगुली को फाइनल कर दिया गया।

Mahabharat: ये दो श्राप भीष्म की मृत्यु और आजीवन कष्ट भोगने का बने कारण

लॉकडाउन के बीच री-टेलिकास्‍ट किये गये रामायण (Ramayan) और महाभारत (Mahabharat) सीरियल्स को लोगों ने खूब पसंद किया और इससे लोगों की पौराण‍िक कथाओं की तरफ दिलचस्‍पी भी काफी बढ़ गई। यहां हम बात करेंगे DD Bharti पर प्रसारित किये गए महाभारत सीरियल की। जिसमें देखा गया कि महाभारत युद्ध के दौरान कई ऐसे श्राप थे जिन्होंने अपनी अहम भूमिका निभाई।

यह पढ़ा क्या?
X