Madhya Pradesh Assembly

सीएम रहते कमलनाथ निकले नहीं, अब हर जिले में घूम रहे, उन्हें वोट नहीं नोट की परवाह, सिंधिया का वार

चुनाव से पहले सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (BJP) और कांग्रेस के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। इसी बीच बुधवार को बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर चुनाव प्रचार को लेकर हमला किया है।

एमपी उपचुनावः 355 में से 18 फीसदी ने दी खुद पर आपराधिक मामलों की जानकारी, 39 उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर अपराध के केस

मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं। इसमें 355 प्रत्याशी शामिल होंगे। इनमें से 18 फीसदी प्रत्याशियों ने खुद ही जानकारी दी है कि उनके खिलाफ आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। 63 प्रत्याशियों पर केस हैं जिनमें से 390 पर गंभीर किस्म के आरोप हैं।

मंत्री को ‘आइटम’ कहने के बहाने दिग्विजय ने शिवराज को बताया मदारी, लोग याद दिलाने लगे ‘टंच माल’ वाला बयान

सिंह ने इस बाबत ट्वीट किया, “कमलनाथ ने किस संदर्भ में इमरती देवी को “आइटम” कहा- मैं नहीं जानता। लेकिन विरोध में भाजपा ने मौन रखने का निर्णय समझ से परे है। जब हाथरस में दलित युवती का बलात्कार हुआ तब भाजपा द्वारा एक शब्द इस घटना के ख़िलाफ़ में क्यों नहीं निकला? मामा मदारी का रोल न करो। नाटक नौटंकी बंद करो।”

MP By Elections: सिंधिया की रैली में किसान की मौत, 1 मिनट का मौन कह 27 सेकेंड में खुद कर दिया खत्म; INC बोली- लाश पड़ी रही, भाजपाई ताली बजाते रहे

मंधाता विधानसभा सीट के लिए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने प्रचार किया और भाषण दिया। इस दौरान वहां एक बुजुर्ग किसान ने दिल का दौरा पड़ने से दम तोड़ दिया।

MP By Elections: आ गया Congress का घोषणा-पत्र, COVID-19 से मरने वालों को पेंशन और किसानों की कर्ज माफी 52 वचनों में, जानें और क्या है खास

MP By Elections: राज्य के पूर्व मुख्य मंत्री कमलनाथ ने वचन पत्र जारी करते हुए कहा कि उन्हें पूरा यकीन है कि कांग्रेस एक बार फिर सत्ता में लौटेगी। कमलनाथ ने मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला करते हुए कहा कि वे मुझे 15 प्रतिशत कहते हैं लेकिन वे खुद 115 प्रतिशत हैं।

Madhya Pradesh: शिवराज सिंह चौहान ने साबित किया बहुमत, कुर्सी संभालते ही भोपाल, जबलपुर में लगाया कर्फ्यू

शपथ लेने के बाद शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना वायरस को सबसे बड़ी चुनौती बताते हुए कहा कि हम सब मिलकर कोरोना वायरस पर विजय पाएंगे।

Madhya Pradesh Government Crisis: कमलनाथ ने गवर्नर को सौंपा इस्तीफा, कहा- BJP की साजिशों के बीच नहीं बचाउंगा सरकार

सुप्रीम कोर्ट मे सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा था कि मध्य प्रदेश में हम जल्द फ्लोर टेस्ट चाहते हैं। जोड़-तोड़ को बढ़ावा नहीं मिलना चाहिए।

कमलनाथ सरकार के खिलाफ प्रदर्शन पड़ेगा भारी! पूर्व बीजेपी विधायक से 24 लाख हर्जाना वसूलने की तैयारी

बिना इजाजत प्रदर्शन आयोजित करने के लिए मध्य प्रदेश पुलिस ने पूर्व बीजेपी विधायक से हर्जाना के रूप में मांगे 23.76 लाख रुपये। डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को दिया प्रस्ताव।

Madhya Pradesh: बजट सत्र का प्रस्ताव राजभवन से मंजूर, लोकसभा चुनाव के बाद मानसून सत्र में लाया जाएगा पूर्ण बजट

कांग्रेस की कमलनाथ सरकार बनने के बाद विधानसभा का पहला बजट सत्र 18 फरवरी से होगा। सत्र की अधिसूचना गुरुवार को जारी होने की संभावना है।

Madhya Pradesh: एनपी प्रजापति बने नए विधानसभा अध्यक्ष, भाजपा ने किया सदन से वॉकआउट, बताया लोकतंत्र का काला दिन

मध्य प्रदेश की 15वीं विधानसभा के पहले सत्र में मंगलवार को कांग्रेस के एनपी प्रजापति को विधानसभा का नया अध्यक्ष चुना गया।

खूफिया कैमरे का सर्वे: मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में लोगों ने माना- कांग्रेस का पलड़ा भारी

खूफिया कैमरे में लोग मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर होने की बात कह रहे हैं, लेकिन साथ ही साथ कांग्रेस की बाजी मारने का दावा भी कर रहे हैं। हालांकि, छत्तीसगढ़ में बीएसपी और जोगी की जोड़ी कई सीटों पर बड़ा फेरबदल कर सकती हैं।

सर्वे: मध्य प्रदेश में जातीय गोलबंदी से सहमी भाजपा! दलित, आदिवासी, मुस्लिम कांग्रेस की ओर, सवर्णों का घटा आकर्षण

मध्य प्रदेश में जातीय गोलबंदी से भाजपा सहम गई है। दलित, आदिवासी और मुस्लिम जहां कांग्रेस के पक्ष में गोलबंद होते दिख रहे हैं। वहीं, सवर्णों का भी भाजपा से मोहभंग होता दिख रहा है।

जानिए कौन हैं आलोक अग्रवाल, अरविंद केजरीवाल ने घोषित किया मध्यप्रदेश में सीएम उम्मीदवार

बी.टेक करने के बाद आलोक एक वर्ष पूरे देश मे घूमे। इस दौरान वह मध्य प्रदेश के आदिवासियों के साथ रहे, मुम्बई में झोपड़ पट्टी वालों के बीच समय बिताया, ओड़िसा के मछुआरों का जीवन समझा। गांधी के विचारों को समझने के लिये सेवाग्राम गये। तो रविन्द्र नाथ टैगोर के दर्शन को जानने शांतिनिकेतन पहुंच गये।

मध्‍य प्रदेश: सदन में रो पड़ीं बीजेपी विधायक, बोलीं- शिवराज के मंत्री करवा रहे परेशान

बाद में गृह मंत्री से आश्वासन के बाद विधायक नीलम ने करीब एक बजकर 46 मिनट पर अपना धरना समाप्त कर दिया और लगभग तीन मिनट अपनी सीट पर बैठने के बाद सदन से बाहर चली गईं।

मध्य प्रदेश उपचुनाव: 19 मंत्रियों ने किये दौरे, सीएम शिवराज सिंह ने गुजारी रात, फिर भी दोनों सीटें हारी बीजेपी

मध्यप्रदेश में इसी साल दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले इन चुनावों को सत्ता का सेमीफाइनल माना जा रहा था। लिहाजा बीजेपी और कांग्रेस दोनों इन सीटों पर कब्जा करने के लिए जोर आजमा रहे थे। ये सीटें कांग्रेस के बड़े नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव वाली हैं। इन दोनों ही सीटों पर 2013 के विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की थी।

मध्य प्रदेश विधानसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए हुई स्थगित, धरने पर कांग्रेसी

मध्य प्रदेश विधानसभा के मॉनसून सत्र के तीसरे दिन व्यावसायिक परीक्षा मंडल घोटाले को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इस्तीफे की मांग पर विपक्ष ने खूब हंगामा किया, जिसके बाद सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई। इधर, सरकार के इस फैसले के खिलाफ कांग्रेस के विधायक सदन के भीतर ही धरने पर बैठक गए। विधानसभा का मानसून सत्र 31 जुलाई तक चलना था

ये पढ़ा क्या?
X