Kanpur Encounter

Vikas Dubey Encounter: 1980 के दशक में ही जमीन लूटने की शुरुआत की थी, अभी 125 बीघे का मालिक था विकास दुबे, गुरू को भी नहीं बख्शा था

विकास दुबे ने लूट और कब्जे की आपाधापी में इंसानियत को भी तार-तार कर दिया। उसने जिस स्कूल (तारा चंद इंटर कॉलेज) से पढ़ाई की थी उसके रिटायर्ड प्रिंसिपल सिद्धेश्वर पांडेय की भी जमीन कब्जा ली थी और उनकी हत्या की भी साजिश रची थी।

चौपाल: अपराधी और पुलिस

राजनीति का अपराधीकरण तथा उसके साथ-साथ पुलिस प्रशासन की मिलीभगत पर आखिरकार हम कब लगाम लगा पाएंगे। अब समय आ गया है जब इस तरह की आपराधिक वृत्ति पर अंकुश लगाने की दिशा में तेजी से काम हो।

विकास दुबे एनकाउंटर के एक दिन बाद ही ‘खतरे से बाहर’ हो गए 6 पुलिसकर्मी, एक खुद मोटरसाइकिल चलाकर गया घर

इंडियन एक्सप्रेस ने हेड कॉन्स्टेबल सेंगर और कॉन्स्टेबल विमल कुमार दोनों से संपर्क साधा लेकिन उन दोनों ने इस मामले में किसी भी तरह की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। इन दोनों के अस्पताल से जाने के बारे में पूछने पर मेडिकल अधिकारी ने कहा कि मुझे इस बात की जानकारी नहीं है कि उन लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है या नहीं।

विकास दुबे ने काली कमाई कर थाईलैंड और दुबई में किया था प्रॉपर्टी में निवेश, नोटबंदी से पहले सूद पर लगाए थे 6 करोड़ रुपए!

गैंगस्टर विकास दुबे के केस में जांच एजेंसी ईडी ने भी कानपुर पुलिस से डिटेल्स मांगी हैं, पुलिस ने विकास के पास कई बेनामी संपत्तियों होने की बात कही है।

रियल एस्टेट में था मोटा निवेश, हर महीने करता था 50 लाख की उगाही, विकास दुबे के साम्राज्य की ईडी करेगा जांच

ईडी ने 7 जुलाई को कानपुर पुलिस को आदेश दिया था कि वह विकास दुबे से जुड़ी संपत्तियों और आपराधिक मामलों की जानकारी एजेंसी को भिजवाएं।

एनकाउंटर के नाम पर मर्डर करने वाले पुलिसकर्मियों के लिए भी इंतज़ार कर रहा फाँसी का फंदा- सुप्रीम कोर्ट ने कहा था

संविधान के अनुच्छेद 21 में कहा गया है: “कानून द्वारा स्थापित प्रक्रिया के अलावा कोई भी व्यक्ति को उसके जीवित रहने के अधिकार और निजी स्वतंत्रता से वंचित नहीं किया जा सकता।”

Vikas Dubey Encounter पर ‘शहीद’ के परिजन ने इधर CM योगी आदित्यनाथ को बताया ‘रुद्र अवतार’, उधर प्रियंका बोलीं- UP बन गया है अपराध प्रदेश

प्रियंका गांधी ने कहा कि उत्तर प्रदेश अब अपराध प्रदेश बन गया है। विकास दुबे जैसे अपराधी सत्ता में शामिल लोगों की बदौलत फलफूल रहे हैं। कांग्रेस कानपुर के पूरे प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट के जज द्वारा जांच की मांग करती है।

विकास दुबे की गिरफ्तारी से लेकर एनकाउंटर तक क्या-क्या हुआ? पढ़ें- इनसाइड स्टोरी

पुलिस के मुताबिक एसटीएफ गाड़ी विकास को कानपुर ला रही ला रही थी। तभी बारिश और तेज रफ्तार की वजह से कानपुर से करीब दो किलोमीटर पहले भौती में गाड़ी पलट गई। इसका फायदा उठाते हुए विकास ने हथियार छीकर भागने की कोशिश की, जिसके बाद पुलिस ने उसे मुठभेड़ में मार गिराया।

‘ये कार नहीं पलटी है, राज खुलने से सरकार पलटने से बचाई गयी है’, विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले अखिलेश यादव, प्रियंका गांधी ने भी उठाए सवाल

समाजवादी पार्टी नेता अखिलेश यादव और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पहले ही विकास दुबे मामले में राजनीतिक मिलीभगत की ओर इशार कर चुके हैं।

विकास दुबे का पूरा गैंग आठ दिन में खत्म, 30 साल में थे 62 केस, थाने में मंत्री की हत्या कर भी बच गया था

पुलिस ने चौबेपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के अभियुक्त विकास दुबे को ढूंढने के दौरान सबसे पहले पिछले हफ्ते शुक्रवार को उसके मामा और चचेरे भाई को एनकाउंटर में मार गिराया था।

गैंगस्टर विकास दुबे एसटीएफ की मुठभेड़ में ढेर, गाड़ी पलटने के बाद भागने की कर रहा था कोशिश

एसटीएफ की टीम विकास को रिमांड पर लेकर यूपी आ रही थी। तभी कानपुर से करीब दो किलोमीटर पहले तेज बारिश और गाड़ी की रफ्तार तेज होने की वजह से गाड़ी पलट गई। जिसके बाद विकास ने हथियार छीकर भागने की कोशिश की और पुलिस ने उसे मुठभेड़ में मार गिराया।

‘बहुत राज जानता है विकास दुबे, एनकाउंटर में हो जाएगा ढेर; राजदीप सरदेसाई ने किया था ट्वीट, गिरफ्तारी के बाद लोगों ने कर दिया ट्रोल

विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद सोशल मीडिया पर इस बात को लेकर खूब चर्चा हो रही है कि विकास दुबे गिरफ्तार नहीं हुआ बल्कि उसने सुनियोजित रूप से सरेंडर किया है। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भोपाल में विकास दुबे की गिरफ्तारी की पुष्टि की।

विकास दुबे की संपत्तियों और लेन देन की जांच करेगा ईडी, एसआईटी का भी गठन

पुलिस ने दोनों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था। कानपुर के बिकरू गांव में रैपिड एक्शन फोर्स :आरएएफ: तैनात की गयी है। पुलिस के वाहनों ने पूरे इलाके को घेर रखा है।

विकास के शूटर अमर दुबे को करीबियों ने ही करवाया ढेर, नौ दिन पहले ही जबरन लड़की उठाकर की थी शादी

पुलिस लगातार विकास दुबे के करीबी साथियों का एनकाउंटर करने में जुटी है, गुरुवार (9 जुलाई) की सुबह भी पुलिस ने विकास के दो साथियों को मुठभेड़ में मार गिराया।

‘अपनी-अपनी जाति के अपराधियों को हीरो मत बनाएं, ये शर्म की बात’, बिहार डीजीपी की दो टूक- विकास दुबे बिहार आया तो खैर नहीं

बिहार डीजीपी ने कहा कि अपराधी किसी भी जाति, मजहब, धर्म का हो… अपराधी सिर्फ अपराधी होता है। लोग अपराधी को हीरो बना रहे हैं। जनता को अपराध की संस्कृति के खिलाफ लड़ना होगा।

विकास दुबे के करीबी अमर दुबे को STF ने एनकाउंटर में मार गिराया, गिरफ्तारी की मिली चेतावनी फिर भी पुलिस पर कर रहा था ताबड़तोड़ फायरिंग

गैंगस्टर विकास दुबे की पुलिस पिछले 5 दिनों से तलाश कर रही है, उसे पकड़ने के लिए दिल्ली-एनसीआर के साथ नेपाल बॉर्डर के पास भी छापेमारी की जा रही है।

कानपुर एनकाउंटर: STF को चकमा दे होटल से फ़रार हुआ विकास दुबे, DIG का ट्रांसफर, चौबेपुर थाने के सभी 68 कर्मी हटाए गए

शुरुआती जांच में यह पाया गया कि थाने में तैनात कई पुलिस उपनिरीक्षक, हेड कांस्टेबल और कांस्टेबल हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की हिमायत कर रहे थे।

Kanpur Encounter: विकास दुबे के मामले में 200 पुलिसकर्मी शक के घेरे में, अबतक 10 सस्पेंड

बताया जा रहा है कि चौबेपुर, बिल्हौर, ककवन, और शिवराजपुर थाने के 200 से अधिक पुलिसकर्मी रडार पर हैं। इनमें से सभी वो शामिल हैं जो कभी न कभी चौबेपुर थाने में भी तैनात रहे हैं।

यह पढ़ा क्या?
X