jyotiraditya scindia

सीएम शिवराज चौहान की कैबिनेट का विस्तार, सिंधिया के वफादार तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत बने मंत्री

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने गोविंद सिंह राजपूत और तुलसी सिलावट को मंत्री पद की शपथ दिलाई है। ये दोनों मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे के हैं। हालाँकि मंत्रिमंडल विस्तार में बीजेपी नेताओं को संतोष करना पड़ा है।

MP By-elections: भाजपा का प्रचार कर रहे थे ज्योतिरादित्य सिंधिया, वोट कांग्रेस के लिए मांग लिया, देखें वीडियो

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने सिंधिया के वीडियो को ट्विटर पर शेयर कर लिखा, “सिंधिया जी, मध्यप्रदेश की जनता विश्वास दिलाती है कि तीन तारीख़ को हाथ के पंजे वाला बटन ही दबेगा।”

सुशील मोदी- कोई वोट ख़रीदे तो पैसे ले लो लेकिन वोट BJP को ही देना, उधर MP में बीजेपी उम्मीदवार बोले- सिंधिया जी के पास इतना पैसा है कि पूरी कांग्रेस खरीद लें

जनता को संबोधित करते हुए सुशील मोदी ने कहा कि ” कोई माई का लाल अशोक सिंह को हरा देगा,कोई माई का लाल पैसे से जनता के वोट खरीद लेगा।

राजपाट: नई मुसीबत

हाई कोर्ट ने इस मामले में 27 अगस्त को सिंधिया को नोटिस भी भेज दिया। यों कांग्रेस ने पहले भी इस मामले को उठाया था पर विधानसभा सचिवालय ने शिकायत तब खारिज कर दी थी। भाजपा बेशक अनुशासित और दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करती है पर असंतोष तो यहां भी कम नहीं है।

सिंधिया का कांग्रेस पर निशाना, बोले- कांग्रेसियों को ही नहीं पता, पूर्व PM राजीव गांधी ने मस्जिद का ताला खुलवाया या नहीं

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मार्च में पार्टी को अपने कई समर्थक विधायकों के साथ छोड़ दिया था। जिसके कारण तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ की सरकार अल्पमत में आ गई और कमलनाथ ने इस्तीफ़ा दे दिया था।

दिग्विजय सिंह और कमलनाथ नाग हैं, पर ज्योतिरादित्य सिंधिया शेर- Congress से BJP में आईं इमरती देवी का पलटवार

बकौल इमरती देवी, “ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तो जनता के लिए और किसानों के लिए एक पार्टी को समर्थन किया है। वो नाग नहीं शेर हैं। नाग तो वो हैं जो डंस डंसकर अपनी पार्टियां ही फेल कर रहे हैं।”

राज्यसभा में जब दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया का हुआ आमना-सामना, फोटो पर लोग कर रहे मजेदार कमेंट्स

इस तस्वीर को लेकर सोशल मीडिया पर काफी चर्चा है। खास बात यह है कि दोनों एक ही राज्य से आते हैं और हाल ही में सिंधिया ने कांग्रेस का दामन छोड़कर बीजेपी का हाथ थामा है। जब सिंधिया ने कमलनाथ सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला तो दिग्विजय ने खुले तौर पर कमलनाथ का समर्थन किया।

‘कभी जमीं पर संघर्ष किया नहीं, बाप की विरासत पर मंत्री बन गए, संघर्ष का वक्त आया तो भाग गए’, पांच युवा नेताओं की एक तस्वीर पर बरसे ट्रोल्स

ट्विटर पर 2012 की एक फोटो में तब कांग्रेस के युवा नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया, सचिन पायलट, मिलिंद देवड़ा, आरपीएन सिंह और जितिन प्रसाद को साथ दिखाया गया है, यह फोटो काफी वायरल हुई है।

‘जनता का कांग्रेस से हो गया मोह भंग’, ज्योतिरादित्य सिंधिया का हमला- कमलनाथ के पास कोरोना के लिए वक्त नहीं था, पर IIFA अवॉर्ड्स में गए थे

राजस्थान में सियासी संकट को लेकर उन्होंने दावा किया कि मौजूदा परिस्थितियों में कांग्रेस पार्टी में क्षमता नहीं है। यह चीज हर राज्य में देखी जा सकती है।

नाखुश ज्योतिरादित्य सिंधिया छोड़ेंगे बीजेपी? ट्विटर प्रोफाइल से हटाया पार्टी का नाम, बीजेपी नेता ने खुद दिया जवाब

बताया जा रहा है कि मध्य प्रदेश में उपचुनाव को लेकर बीजेपी ने वादा किया था कि सिंधिया के करीबी विधायकों को टिकट दिया जाएगा लेकिन अब उपचुनाव से पहले बीजेपी को सभी बागी विधायकों को टिकट देने की बात हजम नहीं हो रही है।

MP: लॉकडाउन 4.0 में शिवराज सिंह कैबिनेट का विस्तार? सिंधिया गुट को तवज्जो मिलने के आसार, पूर्व मंत्री ने दी है चेतावनी

ज्योतिरादित्य सिंधिया के करीबी 22 नेताओं को, जिन्होंने कमलनाथ सरकार के दौरान अपने पद से इस्तीफा दिया था, उन्हें आगामी उपचुनावों में टिकट और कैबिनेट में जगह दी जा सकती है।

‘धोखेबाज, दगाबाज नहीं हो सकता महाराज’, ज्योतिरादित्य के खिलाफ कांग्रेस का एमपी में म्यूजिकल प्रचार

पार्टी नेताओं का कहना है कि यह गीत राज्य की उन सभी 25 सीटों पर प्रचारित किया जाएगा, जहां उपचुनाव होने हैं। कांग्रेस नेताओं ने बताया कि इस गीत को प्रचारित करने का उद्देश्य लोगों को यह बताना है कि उन्होंने कांग्रेस के साथ क्या किया।

MP: 22 बागी Congress विधायक भाजपा में शामिल, ज्योतिरादित्य सिंधिया का दावा- यहां सबको मिलेगा टिकट और सम्मान

Madhya Pradesh Political Crisis: पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंधिया हाल ही कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गये थे। ऐसी संभावना है कि भाजपा मध्यप्रदेश में सरकार बनाने का दावा कर सकती है। कोरोना वायरस से उत्पन्न संकट के खत्म हो जाने के बाद चुनाव आयोग उपचुनाव की तारीखों की घोषणा करेगा।

मध्य प्रदेश में सियासी उठापटक के बीच पूर्व सीएम ने लगाया छक्का, ‘कमलनाथ बाउंड्री के बाहर’; देखें VIDEO

MP political news: भाजपा के 100 से ज्यादा विधायक भोपाल के एक रिजॉर्ट में ठहरे हुए हैं। दूसरी ओर, कांग्रेस विधायक 4 दिनों से एक होटल में रुके हुए हैं।

मध्य प्रदेश: अपने पिता के ‘अपमान’ का बदला लेने नौकरी छोड़ आए थे राजनीति में, मंत्रीपद नहीं मिला तो हो गए ‘बागी’

बेंगलुरु से एक वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दत्तीगांव ने कहा है कि “जो लोग अन्याय को सहते हैं, वो अन्याय करने वालों से ज्यादा दोषी होते हैं।”

शिवराज सिंह चौहान का दावा- सिंधिया पर जानलेवा हमले का प्रयास, काफिले पर किया गया पथराव

Madhya Pradesh Congress BJP Political Crisis: पुलिस ने कहा कि सिंधिया को काले झंडे दिखाये जाने के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ शासन की तरफ से मामला दर्ज किया गया है लेकिन पथराव नहीं किया गया है।

बेबाक बोलः सिंधिया विच्छेद

ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा नेता होने के बाद राहुल गांधी ने मीडिया के सामने विचारधारा की लड़ाई की बात तो कही। लेकिन यह कांग्रेस के साथ कहीं भी नत्थी होती नहीं दिख रही है। नब्बे के दशक में कांग्रेस के नवउदारवादी वैचारिक चेहरे के अग्रदूत मनमोहन सिंह बने थे और कांग्रेस के विचारों का इश्तिहार अब भी वही हैं। भाजपा ने हिंदुत्व की अपनी जमीन पर मेहनत करनी शुरू की तो कांग्रेस अपनी धर्मनिरपेक्षता, सरोकार और पक्षधरता की राजनीतिक फसल को बेसहारा छोड़ भगवा दल की विचारधारा में ही बटाईदार बनने पहुंच गई। नतीजा यह कि उसके पास अब अपनी जमीन ही नहीं बची है। वैचारिक संघर्ष से हाथ छुड़ाते ही सिंधिया जैसे नेता का शीर्ष सत्ता की बांह पकड़ना लाजिम था। सत्ता के लिए सिंधिया के संयम और समय से संधि विच्छेद पर बेबाक बोल।

MP Politics: बेंगलुरु से नहीं लौटे सिंधिया समर्थक विधायक तो दिग्विजय ने उन्हें कोरोनावायरस संक्रमण की आशंका जताई, टेस्ट कराने की मांग की

पहले उम्मीद की जा रही थी कि सिंधिया के राज्यसभा में नामांकन भरने के दौरान उनके समर्थक विधायक भोपाल आएंगे, लेकिन MLA नहीं लौटे।

ये पढ़ा क्या?
X