jansatta chaupal

चौपालः अपने-अपने महापुरुष

आखिर महापुरुष कैसे किसी एक के हो सकते हैं या नहीं हो सकते हैं? चाहे नेहरू हों या और कोई नेता, अगर देश के...

चौपालः वोट की खरीद

जब लोकसभा और विधानसभाओं के चुनाव होते हैं तो राजनीतिक दल अपने घोषणापत्रों में चावल, साड़ी, रंगीन टीवी, अनाज, लैपटॉप, साईकिल आदि सामान मुफ्त...

चौपालः सोच का सूखा

सूखे की वजह सेकुलरता है’- यह पहला वाक्य था उस संदेश का, जो तीन-चार रोज पहले ‘वाट्सएप’ पर पढ़ने को मिला। लिखा था: आपको...

चौपालः श्रमिकों के साथ

पिता कहते थे कि शिक्षा प्राप्त कर लोगे तो सब पा जाओगे; मैं शिक्षा नहीं पा सका, इसलिए जीवन में कष्ट है। पिता के...

चौपालः खतरे की दस्तक

आजकल कुछ दिनों के अंतराल पर विश्व के किसी न किसी भू-भाग में भूकम्प के झटके महसूस किए जा रहे हैं। हर साल दुनिया...

चौपालः पुलिस की छवि

देश में पुलिस तंत्र की स्थापना औपनिवेशिक समय में कानून-व्यवस्था कायम रखने के लिए की गई थी। भले ही अंग्रेजों का मूल मंतव्य भारतीय...

चौपालः अपराध की डगर

पिछले कुछ सालों से दिल्ली में चोरी, रोड-रेज, छेड़खानी, बलात्कार, हत्या आदि जैसे संगीन अपराधों में शामिल नाबालिगों की बढ़ती संख्या डराने वाली है।...

चौपालः न्याय की नीति

पीलीभीत फर्जी मुठभेड़ मामले में पिछले दिनों सीबीआई की विशेष अदालत ने फैसला सुनाया और अपराध में लिप्त कुल सत्तावन पुलिस वालों में से...

चौपालः नारों की सियासत

भौगोलिक सीमाएं देश का नक्शा तय करती हैं और देश के करोड़ो लोगों का संयुक्तिकरण राष्ट्र बनाता है।

चौपालः बाजार में शिक्षा

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान की फीस में भारी इजाफे का प्रस्ताव अगर अमल में आता है तो यह देश के वंचित समाज के लोगों को...

चौपालः पुनर्विचार की दरकार

सरकारी नौकरियों और पदोन्नतियों में आरक्षण की पिछले लगभग साठ सालों से चली आ रही सरकारी रीति-नीति पर पुनर्विचार करने की जरूरत है। समय...

चौपालः रंग बेरंग

होली के रंग मानव जीवन के विभिन्न उतार-चढ़ावों को व्यक्त करते हैं जैसे हंसना-रोना, रूठना-मनाना, सुख-दुख, गम-खुशी, गुस्सा-प्यार। ठीक वैसे ही जैसे लाल, पीला,...

चौपालः जाति की जड़ना

तमिलनाडु में अंतरजातीय विवाह करने वाले जोड़े को भरे बाजार में जाति-व्यवस्था के पोषकों ने अपना शिकार बना डाला। दलित पृष्ठभूमि से आने वाले...

चौपालः कानून के हाथ

जब बागड़ ही खेत को खाने लगे तो खेत का क्या होगा! जब देश के प्रधानमंत्री और प्रदेश के मुख्यमंत्री ही कानून को ठेंगा...

चौपालः देशभक्ति का दायरा

आग्रह और दुराग्रह’ (संपादकीय 16 मार्च) में संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर एआइएमआइएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी और उधर पाकिस्तानी क्रिकेट टीम...

चौपालः कौन जिम्मेदार

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने बैंकों को कर्ज नहीं चुका पाने वाले सभी बडेÞ उद्योगपतियों के नाम उजागर करने को कहा। इस फंसी...

चौपालः नीयत में खोट

किंगफिशर के मालिक विजय माल्या सत्रह बैंकों के नौ हजार करोड़ रुपए के कर्जदार हैं और अपने विरुद्ध कानून का शिकंजा कसते देख देश...

यह पढ़ा क्या?
X