jansatta Article

सुपर कंप्यूटरों पर जंग

अमेरिका द्वारा विदेशी कंपनियों में अमेरिकी प्रौद्योगिकी इस्तेमाल पर रोक लगाने से हुवावे का एक सौ तेईस अरब डॉलर का सालाना कारोबार खतरे में...

दम तोड़ती मदद की पुकार

अलग-अलग सेवाओं के लिए ढेरों हेल्पलाइन नंबरों की भरमार जनता में सिवाय दुविधा बढ़ाने के और कुछ नहीं करती। इसके अलावा असंख्य हेल्पलाइनों से...

लापरवाही का कहर

जल्दी ही पूरी आबादी को टीका लगाने के लिए बड़े स्तर पर संसाधनों और टीकाकरण केंद्रों की जरूरत है। इनका बंदोबस्त करना भी केंद्र...

संकट में हिमालय

पिछले कुछ दशकों में हिमालय के विभिन्न हिस्सों में हजारों हिमनद झीलें बनी हैं, जो अचानक बड़ी मात्रा में पानी छोड़ सकती हैं। अगर...

अटकी सांसों की संजीवनी

महामारी के शुरुआती दौर में भी चिकित्सा क्षेत्र के लिए महज पंद्रह फीसद ऑक्सीजन का उत्पादन हो रहा था, जबकि बाकी ऑक्सीजन स्टील व...

यूक्रेन का गहराता संकट

पुतिन युग में वैश्विक स्तर पर रूस की बढ़ती महत्त्वाकांक्षाओं को देख कर लगता है कि यूक्रेन के संकट पर उसका रुख महज क्षेत्रीय...

विशिष्ट पहचान का संकट

किसी व्यक्ति को उसके मौलिक अधिकार से वंचित करने की कानूनी प्रक्रिया कहती है कि इसके लिए सरकारी अधिकारी को उस व्यक्ति को नोटिस...

रोजगार के नए आयाम

देश में जिस रफ्तार से ई-व्यापार बढ़ रहा है, उसी रफ्तार से इसमें विदेशी निवेश भी आ रहा है। ऐसे में ई-व्यापार के बढ़ते...

मंगल पर बस्ती का सपना

यह संभव है कि पहले कभी मंगल का वातावरण पानी या तरल पदार्थ को ग्रह की जमीन पर मौजूद रखने में सक्षम था। लेकिन...

दमन का रास्ता

म्यांमा में सेना के शासन का अध्याय कोई नया नहीं है। वहां लोगों ने पहले भी सेना के राज की सख्ती और दमन देखे...

दुनिया मेरे आगे: दोस्त एक आईना

रिश्तों में सबसे अच्छा रिश्ता कौन-सा? पूछिए किसी से भी, वह कहेगा दोस्ती का। दोस्ती का ही क्यों? क्योंकि दोस्तों में किसी तरह की...

राजनीति: एकात्म दर्शन की प्रासंगिकता

राष्ट्रों की प्रकृति मानव एकता की विरोधी नहीं, यदि कहीं उसके विरुद्ध आचरण दिखता है तो वह विकृति का द्योतक है। राष्ट्रों का विनाश...

दुनिया मेरे आगे: बसंत की पगध्वनि

बसंत प्रकृति की मुस्कान है। उसकी खुशी है। जिस तरह हमारा जीवन खुशियों से शृंगार कर खिलता है, बिल्कुल उसी तरह वर्ष बसंत के...

राजनीतिः इलाज को तरसते गांव

देश के अस्पतालों में चौदह लाख से ज्यादा डॉक्टरों की कमी है जबकि हर साल करीब साढ़े पांच हजार डॉक्टर ही मेडिकल कॉलेजों से...

दुनिया मेरे आगेः कौशल के साथ कला

किसी भी व्यक्ति के भीतर मौजूद यही कलाकार एक तरह से उसकी एक ऐसी पूरक ऊर्जा है जो उसे हर तरह की परिस्थिति में...

राजनीतिः भाषागत भेदभाव का संकट

प्रश्न यह है कि जब आधे से अधिक लोग हिंदी को अपनी प्राथमिक भाषा के रूप में प्रयोग में लाते हैं, विभिन्न परीक्षाओं...

राजनीतिः अस्तित्व का संकट और चुनौतियां

बीसवीं शताब्दी की एक खास विशेषता यह है कि इस शताब्दी के अंत तक पंहुचते-पहुंचते अनेक मानव निर्मित कारणों से ऐसी परिस्थितियां उत्पन्न...

यह पढ़ा क्या?
X