ताज़ा खबर
 

jansatta article/ jansatta opinion

राजनीतिः उर्वरता खोती खेतों की मिट्टी

हमारे देश में होने वाली पारंपरिक खेती में मिट्टी की उर्वरता बनाए रखने पर खास ध्यान दिया जाता रहा है। लेकिन बीते पचास सालों में जिस तरह हमने प्राकृतिक व्यवस्था को तहस-नहस कर उत्पाद आधारित खेती व्यवस्था को अपना लिया है, खेती में अधिक से अधिक पैदावार के लिए अब रासायनिक खाद और कीटनाशकों का अंधाधुंध इस्तेमाल शुरू कर दिया है, उससे मिट्टी की उर्वरता क्षीण हो गई है।

संपादकीयः प्रतिबंध का रास्ता

पाकिस्तान के साथ रिश्ते मधुर बनाने के मकसद से भारत ने जो भी सहूलियत भरे कदम उठाए थे, पाकिस्तान उनका बेजा इस्तेमाल करता देखा गया है। नियंत्रण रेखा के पार से चलने वाले कारोबार में यही नजर आया है।

राजनीतिः रोशनी में छिपा बिजली संकट

बिजली की सामान्य खपत के अलावा उसकी फिजूलखर्ची भी बड़ा मुद्दा है। शहरों और महानगरों में रोशनी में नहाते शॉपिंग मॉल बिजली फूंकने में किसी से कम नहीं हैं। इनमें खर्च होने वाली बिजली की देश के छोटे शहरों, कस्बों, गांवों, खेतों व कारखानों को ज्यादा जरूरत है, जहां बिजली कटौती एक अनवरत समस्या है।

चौपालः जल बिन कल

हर साल विश्व जल दिवस मनाने का उद्देश्य समस्त विश्व को पेयजल की उपलब्धता और जल संरक्षण के महत्त्व के प्रति जागरूक करना है।

पढ़ाई के प्रश्न

हाल ही में एक शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लेने का मौका मिला। प्रशिक्षण का मुख्य उद््देश्य विभिन्न विषयों के अंतर्गत सतत और व्यापक मूल्यांकन की अवधारणा को समझना था।