Inflation

संपादकीय: महंगाई का सूचकांक

खाद्य वस्तुओं में खासतौर पर सब्जियों की कीमतों में जिस तेजी से बढ़ोतरी शुरू हुई, वह अप्रत्याशित है। हरी सब्जियों की कीमतें बहुत सारे लोगों की पहुंच से बाहर हो रही हैं और जो आलू लोगों की थाली का सहारा रहा है, वह भी अब बेलगाम होता जा रहा है।

संपादकीय: किसान का दुख

इस मसले पर पहले से ही किसानों के बीच असंतोष पनप रहा था कि सरकार ने अध्यादेश जारी करने से पहले किसान संगठनों के साथ विचार-विमर्श नहीं किया और बड़े कारपोरेटों के हित में एकतरफा फैसला लिया।

विशेष: अभाव भारी त्योहार जारी

मौत के मंजर पर भी जिंदगी को आना ही होता है तो बहुत सी महिलाओं के लिए सड़क और तीन-चार दिन चल कर रास्ता भूलने वाली ट्रेनों में जचगी का भी तो इंतजाम करना था। इन सबके बीच जो टूटा-दरका और पूरी तरह नकाम साबित हुई वह थी सरकारी व्यवस्था, प्रशासन के बड़े-बड़े दावे।

चौपाल: चुनौतियों के बीच

छह माह से अधिक समय से दुनिया कोरोना संक्रमण के व्यापक प्रसार से हुई तमाम मौतों और बीमारी के संकट से जूझ रही है। इसकी रोकथाम के लिए बड़े पैमाने पर लॉकडाउन, आर्थिक गतिविधियों को सीमित या बंद करने तथा आवाजाही रोकने जैसे कदम उठाने पड़े हैं, जिससे जीवन का हर पक्ष प्रभावित हुआ है। ऐसे में अर्थव्यवस्था में वृद्धि की बात तो दूर, उसे गतिशील रख पाना भी बड़ी चुनौती है।

संपादकीय: महंगाई की मार

खुदरा महंगाई दर बढ़ने का अर्थ है लोगों की रोजमर्रा की जरूरतों का खर्च बढ़ना। यह ठीक है कि पूर्णबंदी के दौरान वस्तुओं की बाजार तक पहुंच बाधित हो गई थी। पर पूर्णबंदी खुलने के बाद वही स्थिति नहीं रह गई। फिर बंदी को खुदरा महंगाई दर बढ़ने का मुख्य कारण नहीं माना जा सकता।

खुदरा मुद्रास्फीति फरवरी में पड़ी नरम, रही 6.58% पर; औद्योगिक उत्पादन वृद्धि दर जनवरी में दो फीसदी

भारतीय रिजर्व बैंक की द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में नीतिगत दरों को तय करने में खुदरा मुद्रास्फीति एक अहम कारक होता है। सरकार ने रिजर्व बैंक को खुदरा मुद्रास्फीति चार फीसदी से नीचे रखने का लक्ष्य दिया है।

6 साल की सबसे ऊंची दर पर पहुंची खुदरा महंगाई, रॉयटर्स पोल में अर्थशास्त्रियों ने रखी राय

हाल के समय में कुछ सब्जियों की कीमतों में गिरावट देखी गई है। इसमें प्याज भी शामिल है। तेल, जिसका ज्यादातर हिस्सा भारत आयात करता है, की कीमत पिछले महीने करीब 10 प्रतिशत तक कम हुई है।

लोग धोती-कुर्ता की जगह कोट, जैकेट पहन रहे हैं, ऐसे में कहां है मंदी, बोले भाजपा सांसद

उन्होंने कहा कि भारत मेट्रोपोलिटन शहरों का नहीं, बल्कि गांवों का देश है। कहा, “मैं आपको बताना चाहता हूं कि भारत में 6.5 लाख गांव हैं, केवल दिल्ली, मुंबई और हैदराबाद शहर नहीं हैं।”

महंगाई पर प्रियंका गांधी का वार- BJP सरकार ने तो जेब काट पेट पर लात मार दी, यूजर्स ने दिए ऐसे रिएक्शन

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी सरकान ने तो जेब काट पेट पर लात मार दी है।

कांग्रेस ने महंगाई पर मोदी सरकार को घेरा, कहा- शाकाहारी होना पाप हो गया है

थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति दिसंबर, 2019 में बढ़कर 2.59 प्रतिशत पर पहुंच गई और खुदरा मुद्रास्फीति की दर के 7.35 फीसदी हो गई है। मुख्य रूप से प्याज और आलू के दाम बढ़ने से थोक मुद्रास्फीति बढ़ी है।

अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर बढ़ सकती है काफी परेशानी, 5 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंची खुदरा महंगाई, विशेषज्ञों ने चेताया

केंद्र सरकार ने रिजर्व बैंक को मुद्रास्फीति को चार प्रतिशत (दो प्रतिशत ऊपर या नीचे) के दायरे में रखने का लक्ष्य दिया है। अब यह केंद्रीय बैंक के लक्ष्य से कहीं अधिक हो गई है।

खाने-पीने के सामान पर महंगाई बेतहाशा बढ़ी! Food inflation 6 साल में पहली बार दहाई पार

अगस्त माह में खाद्य मुद्रास्फीति 2.99 प्रतिशत थी, जो कि सितंबर में बढ़कर 5.11 प्रतिशत हो गई। अक्टूबर में 7.89 प्रतिशत और बीते माह यह आंकड़ा 10.01 प्रतिशत हो गया।

मुख्यमंत्री ने मनाया कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का जन्मदिन, तोहफे में बांटा एक-एक किलो प्‍याज

पुडुचेरी में कांग्रेस के हेडक्वाटर के बाहर पार्टी चीफ नमाशिवायम ने सबसे पहले सीएम को प्याज दिए। इसके बाद सीएम और पार्टी चीफ ने मिलकर कार्यकर्ताओं को प्याज बांटे।

इन देशों में महंगाई का आंकड़ा सुन चौंक जाएंगे आप, 300 रुपये में मिलती है एक रोटी, जानें टॉप 10 देशों के नाम

गृह युद्ध से जूझ रहे लीबिया में महंगाई दर 23.09% है। लगातार हिंसा और भ्रष्टाचार के चलते लीबिया में आम जरुरत की चीजें काफी महंगी हो गई हैं।

सरकार ने बताया- अक्‍टूबर में सितंबर से ज्‍यादा रही महंगाई, खाने पर ही पड़ी सबसे ज्‍यादा मार

अक्टूबर 2019 में खाद्य पदार्थ की मुद्रास्फीति 7.89 प्रतिशत रही जबकि पिछले महीने यह 5.11 प्रतिशत ही थी। खाद्य पदार्थों की महंगाई के चलते मुद्रास्फीति 4 प्रतिशत के पार चली गई।

10 महीने के उच्चतम स्तर पर खुदरा महंगाई दर, मांस-मछली, सब्जी-दाल से बढ़ी महंगाई

खुदरा मुद्रास्फीति स्वास्थ्य क्षेत्र में 7.84 प्रतिशत, पुर्निनर्माण एवं मनोरंजन क्षेत्र में 5.54 प्रतिशत तथा व्यक्तिगत देखभाल क्षेत्र में 6.38 प्रतिशत रही।

मोदी सरकार ने एकबार फिर आम जनता को दिया झटका, खुदरा मुद्रास्फीति जून में बढ़कर 3.18 प्रतिशत हुई

एक बार फिर सरकार की खुदरा मुद्रास्फीति को कम करने की तमाम कोशिशें नाकाम साबित हुई हैं। मई में एक तरफ जहां औद्योगिक उत्पादन की रफ्तार नरम पड़ गई वहीं अब खुदरा मुद्रास्फीति के बढ़ गई।

RBI गवर्नर ने चेताया- अर्थव्यवस्था खो रही रफ्तार, ठोस मौद्रिक नीति की है दरकार

समिति के सदस्य और रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने कहा कि आर्थिक वृद्धि की तस्वीर मिलीजुली है। पिछली दो तिमाहियों में इसकी रफ्तार उल्लेखनीय तौर पर धीमी पड़ी है।

यह पढ़ा क्या?
X