Indian Economy

नरेंद्र मोदी को वरिष्‍ठ पत्रकार की सलाह- अर्थव्‍यवस्‍था में चमत्‍कार चाहते हैं तो अपना लें मनमोहन सिंह की नीतियां

लेख में कहा गया है कि वास्तविक तौर पर संकटग्रस्त कर्जदारों के लिए, कम से कम एक बार पुनर्गठन की अनुमति देनी चाहिए। वहीं आदतन कर्ज ना चुकाने वालों को इसमें कोई राहत नहीं दी जानी चाहिए।

केंद्र की कोयले की आत्मनिर्भर योजना के खिलाफ चार राज्यों ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी, आदिवासी नेताओं ने भी आशियाना छिनने का किया विरोध

देश में कोयले की खदानों पर सरकार का नियंत्रण रहा है लेकिन इन नए 40 कोलफील्ड के आवंटन में निजीकरण को तरजीह दी जा सकती है।

सर्वे: कोरोना ने तोड़ी मिडिल क्लास लोगों की आर्थिक कमर, लॉकडाउन में 15 फीसदी इनकम का नुकसान

अप्रैल-जून 2019 में 5 लाख रुपए सालाना या इससे ज्यादा की कमाई करने वाले आधे से ज्यादा लोगों की कमाई में बढ़ोत्तरी हुई थी। लेकिन इस साल लॉकडाउन के चलते इसमें 15 फीसदी की गिरावट आयी है।

2020 में देश की इकनॉमी में आएगी 4.5% की गिरावट- IMF का अनुमान, देखें कैसा रहेगा विश्व में बाकी जगहों का हाल

हालांकि मु्द्राकोष का अनुमान है कि 2021 में देश में फिर से तेजी की राह पर लौट आएगा और उस साल 6.0 प्रतिशत की मजबूत आर्थिक वृद्धि देखने को मिल सकती है।आईएमएफ ने 2020 में वैश्विक वृद्धि दर में 4.9 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान जताया है।

रिपोर्ट में दावा- देश में मई माह में बढ़ी 2 करोड़ से ज्यादा नौकरियां, फिर भी बेरोजगारी दर बहुत ज्यादा

रिपोर्ट में बताया गया है कि मई में जो 2.1 करोड़ जॉब बढ़ी हैं, उनमें से 1.44 करोड़ छोटे दुकानदार और दिहाड़ी मजदूर हैं। अब जब सरकार लॉकडाउन में छूट दे रही है तो स्वरोजगार करने वाले लोग वापस काम पर लौट आए हैं।

रिपोर्ट: पैकेज के बावजूद आगे मुंह बाए खड़ा है आर्थिक संकट, तीसरी तिमाही में बेरोजगारी बढ़ने, इनकम घटने का खतरा

डन एंड ब्रैडस्ट्रीट इंडिया के मुख्य अर्थशास्त्री अरुण सिंह ने कहा, ‘‘भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रोत्साहन उपायों का प्रभाव तीन प्रमुख पहलुओं….लॉकडाउन को हटाने की अवधि, पैकेज के क्रियान्वयन की क्षमता और इसमें लगने वाले समय पर निर्भर करेगा।’’

RBI गवर्नर की घोषणा से कंपनियों को राहत, पर बैंक परेशान, 2020-21 की दूसरी छमाही में 30% NPA बढ़ने की चिंता

भारतीय स्टेट बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और एक्सिस बैंक जैसे बड़े उधारदाताओं के लिए,अधिस्थगन के तहत ऋण का हिस्सा 30 फीसदी से कम है।

कोरोना का कहर: पर्यटन उद्योग को लग सकता है 125000 करोड़ रुपए का चूना, 3.8 करोड़ नौकरियों पर भी खतरा

केयर रेटिंग्स की रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल जनवरी और फरवरी के दौरान पर्यटन उद्योग पर महामारी का असर सिर्फ 50 फीसदी ही था, जबकि अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द होने के बाद मार्च में यह आंकड़ा 70 प्रतिशत से अधिक हो गया है।

लॉकडाउन की मार! इन इंडस्ट्रीज में बड़ी संख्या में जाएंगी नौकरियां; 12 करोड़ कर्मचारियों की नहीं मिली सैलरी

लॉकडाउन के चलते बड़ी संख्या में लोगों की नौकरियां भी जाएंगी। हालांकि आगामी फेस्टिव सीजन से कुछ राहत मिलने की उम्मीद है, लेकिन यह भी इस बात पर निर्भर करेगा कि कोरोना का संक्रमण देश में कितना लंबा खिंचता है।

Coronavirus संकट के बीच चरमराई अर्थव्यवस्था, RBI के पूर्व गर्वनर रघुराम राजन ने बताया संकट का समाधान

रघुराम राजन ने कहा कि “हमारा वित्तीय सिस्टम बिगड़ा हुआ है। मेरा हमेशा से मानना रहा है कि हमें इसे साफ करने की जरूरत है, ताकि यह ठीक तरह से काम कर सके। समस्या ये है कि आरबीआई अब बिजनेस को सपोर्ट करने के लिए कर्ज नहीं दे सकता।”

राज्यों की भी आर्थिक स्थिति खस्ताहाल? 17 राज्यों की एक कहानी- खर्च में भारी कटौती, दवाब में राजकोष, बिहार समेत चार राज्यों में हेल्थ पर फोकस नहीं

पिछले बजट के मुताबिक इन राज्यों के हालिया बजट की तुलना करें तो इन राज्यों के वास्तविक राजस्व में लगभग 3 लाख करोड़ रुपये की कमी आई है। आंकड़े बताते हैं कि इन राज्यों में स्वास्थ्य पर कुल सरकारी खर्च का लगभग 69 प्रतिशत हिस्सा है।

कंपनियों में बड़ी धोखाधड़ी की जांच करने वाली एजेंसी में संख्या बढ़ाने की तैयारी में मोदी सरकार

कॉरपोरेट मामलों के सचिव इंजेती श्रीनिवास ने कहा कि एसएफआईओ को और पेशेवर बनाने और उसे दुरूस्त करने की प्रक्रिया जारी है।

दावा: सात साल में पांच फीसदी से ज्यादा गिरी वेतन वृद्धि दर, कम डिमांड और उच्च बेरोजगारी दर बड़ी वजह

रिपोर्ट के अनुसार, यह 2011-12 से लेकर मार्च 2018 के बीच का आंकड़ा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कम खपत और उच्च बेरोजगारी दर वेतन वृद्धि में गिरावट की बड़ी वजह हो सकती है।

सरकारी आंकड़े दबाने और देर से जारी करने से हुआ देश का अपमान- बोले पूर्व CSI

सेन के मुताबिक सरकारी डाटा को दबाना और फिर उनका लीक होने से भारतीय डाटा की विश्वसनीयता सवालों के घेरे में आ रही है। इससे देश की सांख्यिकी व्यवस्था बदनाम हो रही है।

IMF ने घटायी भारत की विकास दर, बतायी गिरावट की वजह, सरकार के अनुमान से भी कम रहेगी इकॉनोमी की ग्रोथ

रिपोर्ट में इस गिरावट की वजह घरेलू मांग में आयी तेज कमी और नॉन बैंक फाइनेंशियल (एनबीएफसी) सेक्टर में आयी मंदी को प्रमुख वजह बताया गया है।

अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर बढ़ सकती है काफी परेशानी, 5 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंची खुदरा महंगाई, विशेषज्ञों ने चेताया

केंद्र सरकार ने रिजर्व बैंक को मुद्रास्फीति को चार प्रतिशत (दो प्रतिशत ऊपर या नीचे) के दायरे में रखने का लक्ष्य दिया है। अब यह केंद्रीय बैंक के लक्ष्य से कहीं अधिक हो गई है।

भारत 2026 तक बन जाएगा 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनोमी: रिपोर्ट

ब्रिटेन स्थित सेंटर फोर इकोनॉमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च (सीईबीआर) की रिपोर्ट ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक लीग टेबल 2020’ रिपोर्ट में यह दावा किया है।

RBI ने चेताया- अभी और देखने पड़ सकते हैं बुरे दिन, 2020 में 9.9% तक बढ़ सकता है बैड लोन

गौरतलब है कि 6 माह पहले रिजर्व बैंक ने मार्च 2020 में बैड लोन में कमी की बात कही थी, लेकिन ताजा रिपोर्ट में इसके कम होने की बजाय और बढ़ने की बात सामने आयी है।

Independence Day LIVE:
X