ताज़ा खबर
 

Indian Economy

और गहराया अर्थव्यवस्था का संकट, छोटे कारोबारियों की बढ़ेगी मुश्किलें!

कुछ ही दिन पहले ही देश की अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 25 तिमाहियों में सबसे निचले स्तर पर चले जाने यानी पांच प्रतिशत तक पहुंच जाने की बात सामने आयी है। ऐसे में यह सर्वेक्षण अर्थव्यवथा का संकट और गहराने की ओर इशारा करता है।

indian economy

जुलाई में 8 कोर इंडस्ट्रीज में देखी गई भयंकर सुस्ती, पिछले साल के मुकाबले विकास दर में 5.2 फीसदी की कमी

जिन 8 कोर इंडस्ट्री की ग्रोथ में गिरावट दर्ज की गई है, वो देश के इंडेक्स ऑफ इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन (IIP) का कुल 40.27 उत्पादों का उत्पादन करती हैं।

manmohan singh, manmohan singh on economy slowdown, dr manmohan singh on economy slowdown, manmohan singh on rbi surplus, economic slowdown

INDIAN ECONOMY की हालत पर मनमोहन सिंह चिंतित, बताया मोदी सरकार के ‘कुप्रबंधों’ का नतीजा

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर घटकर पांच प्रतिशत पर आने के बीच पूर्व प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आर्थिक हालात ‘बेहद चिंताजनक हैं और यह नरमी मोदी सरकार के तमाम कुप्रबंधनों का परिणाम है।

indian economy GDP

पस्त GDP पर प्रियंका गांधी का नरेंद्र मोदी पर वार- अच्छे दिन का भोंपू बजाने वाली सरकार ने अर्थव्यवस्था पंचर कर दी

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने भी ट्वीट कर केन्द्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने लिखा कि, “जीडीपी वृद्धि पांच प्रतिशत नहीं बल्कि यह तीन प्रतिशत है।

विदेशी मुद्रा 430 अरब डॉलर से नीचे। (प्रतीकात्मक फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

अर्थव्यवस्था के मोर्चे से एक और बुरी खबर, भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में भारी गिरावट, 430 अरब डॉलर से नीचे आया

Forex: विदेशी मुद्रा भंडार रिकॉर्ड ऊंचाईयों को छूने के बाद 23 अगस्त को समाप्त सप्ताह में 1.45 अरब डॉलर की भारी गिरावट के साथ 429.050 अरब डॉलर रह गया।

BAD LOAN

Indian Economy को फिर लगेगा तगड़ा झटका, लौट सकता है लोन डूबने का दौर?

बैंकों का एनपीए (Non Performing Asset) बीते साल मार्च, 2018 में 11.7 प्रतिशत था, जो कि मौजूदा वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में घटकर 9.6 प्रतिशत रह गया था।

Economic Slowdown: उद्योगों को 5000 करोड़ रुपये वसूला टैक्स लौटाएगी मोदी सरकार!

केंद्र सरकार के द्वारा जीएसटी और पेमेंट एरियार में को रिफंड करने की पहल से कंपनियों को जरूर राहत मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। सरकार की पहले में अधिकांश रूप से सूक्ष्म एवं लघु तथा मध्यम कारोबार (MSMEs) है।

N.R Narayana murthy

इन्फोसिस के सह-संस्थापक एन नारायण मूर्ति की मोदी सरकार को नसीहत, बोले- लोकप्रिय नहीं बल्कि एक्सपर्ट आधारित हो आर्थिक नीति

नारायणमूर्ति ने कहा कि ‘300 सालों में पहली बार ऐसा हुआ है कि देश में ऐसा आर्थिक माहौल है जिससे हमारा ये विश्वास मजबूत हुआ है कि हम गरीबी हटा सकते हैं और प्रत्येक भारतीय के लिए एक सुनहरा भविष्य बना सकते हैं।’

और सुस्त हुई Indian Economy की रफ्तार! GDP वृद्धि जून तिमाही में घटने का अनुमान: रिपोर्ट

Indian Economy: स्थिति का जायजा लेने के लिए , वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अधिकारियों और उद्योग से जुड़े दिग्गजों के साथ कई बैठकें की हैं। बैठक में उपभोक्ता मांग और निजी निवेश को बढ़ावा देने के लिए कदम उठाने पर विचार – विमर्श किया गया।

economic survey, economic survey 2019, economic survey 2019 20, economic survey 2019 live, economic survey 2019 india, economic survey of india, economic survey 2019 20 pdf download, budget, budget 2019, budgets session, parliament, parliament live, parliament live today, parliament budget session 2019, parliament live, lok sabha tv live, live lok sabha tv, economic survey live, economic survey pdf download, economic survey highlights, india economic survey

‘2000 के नोट जल्द हो जाएंगे अवैध?’ अर्थव्यवस्था से जुड़े सवालों पर वित्त मंत्री सीतारमण और पत्रकारों में यूं हुई नोकझोक

सोशल मीडिया पर इस बात की अफवाहें हैं कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) 2000 रुपए का नोट बंद करने की तैयारी में है।

Hero MotoCorp, Maruti Suzuki, low demand

आर्थिक मंदी दे रही दस्तक! Hero ने चार दिन के लिए बंद की फैक्ट्री, Maruti Suzuki में 3000 लोगों ने गंवाई नौकरी

इसकी वजह डिमांड में कमी बताई गई थी। अब इसी वजह से देश की सबसे बड़ी दोपहिया वाहन निर्माता कंपनी हीरो मोटोकॉर्प ने चार दिनों के लिए अपने प्लांट्स बंद किया है। कंपनी ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी।

चौपालः खतरे में अर्थव्यवस्था

जीएसटी आर्थिक सुधारों के लिहाज से एक अच्छा कदम था, लेकिन जीएसटी के तहत अनुमानित कर संग्रह नहीं हो पा रहा है। जीएसटी संग्रहण में स्टाफ की कमी, राज्यों से सहयोग नहीं मिलना और केंद्र व राज्यों में तालमेल की कमी जैसे कारणों से अप्रत्यक्ष कर की वसूली बहुत कम हो रही है।

चौपालः गर्त में अर्थव्यवस्था

भारत को अगर पांच खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य हासिल करना है तो 2025 तक लगातार आठ फीसद की वृद्धि दर बनाए रखना जरूरी है।

Ex President, Pranab Mukherjee, Finance Minister, budget, 2024 India's economy, US$5 Trillion economy, solid foundation, Britishers, Indians after Independence, congress government, india news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindi

पिछली सरकारों ने रखी 50 खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने की मजबूत नींव, प्रणब मुखर्जी ने कांग्रेस की आलोचना करने वालों पर साधा निशाना

प्रणब मुखर्जी ने कहा, ‘वित्त मंत्री कह सकते हैं कि भारत 2024 में 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बन जाएगा क्योंकि इसकी मजबूत नींव पहले रखी जा चुकी है। ब्रिटिशों के जरिए नहीं बल्कि स्वतंत्रता के बाद से भारतीयों के प्रयास से ऐसा संभव हुआ है।’

NIRMALA SITHARAMAN

अर्थव्यवस्था के लिए राहत की खबर, बैंकों के एनपीए का घटा स्तर, फ्रॉड में फंसी रकम भी घटी

एनपीए की समस्या भारतीय बैंकों के लिए कितनी गंभीर हो गई है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 31 मार्च, 2018 को एनपीए का आंकड़ा बढ़कर 10,36,187 करोड़ रुपए तक पहुंच गया था।

business sentiment level

IHS Markit Survey: तीन साल में बिजनेस सेंटिमेंट लेवल सबसे नीचे, पानी और कुशल लोगों की कमी रोक रहा कारोबार की तरक्की

आईएचएस मार्किट इंडिया बिजनेस आउटलुक की मानें तो आर्थिक गतिविधियां सुस्त रहने की वजह से कंपनियां के मुनाफे में गिरावट हो सकती है। वहीं, इन कंपनियों में नई भर्तियों पर भी बुरा असर पड़ सकता है।

domestic passenger car

ऑटो सेक्टर में सुस्ती ने बढ़ाई चिंता, लगातार 8वें महीने में भी कार की बिक्री में गिरावट

ऑटो सेक्टर में गिरावट का दौर बीते साल जुलाई में शुरु हुआ, जो कि आने वाले दिनों में काफी ज्यादा बढ़ गया। इसके पीछे की वजह IL&FS संकट और क्रेडिट में कमी को माना जा रहा है।

black money

भारत की जीडीपी 64.5 खरब, विदेश में जमा काला धन 77.4 खरब रुपए- सही आंकड़े जुटाने में संसदीय समिति के छूटे पसीने

विभिन्न अध्ययनों के मुताबिक जिन क्षेत्रों में बेहिसाब आय की गुंजाइश है, उनमें रियल एस्टेट, खनन, फार्मास्यूटिकल, पान मसाला, गुटका-तंबाकू, कमोडिटी मार्केट, फिल्म इंडस्ट्री, शिक्षण संस्थान आदि हैं।