Indian economic growth

FM Nirmala Sitharaman ने ग्रोथ बढ़ाने पर कहा, अकेले सरकार के बस की बात नहीं, उद्योग जगत भी बढ़ाए निवेश

India’s Economic Growth: सीतारमण ने कहा कि सरकार कारोबारियों की मदद के लिए मौजूद है, लेकिन उन्हें अपने निवेश में इजाफा करना होगा। ग्रोथ को लेकर एक तरह से सरकार की विवशताओं का जिक्र करते हुए सीतारमण ने कहा कि मैं नहीं मानती कि अकेले सरकार के खर्च बढ़ाने से ही ग्रोथ में इजाफा हो सकता है।

Manufacturing Growth in India: सुस्ती दूर होने के संकेत? जनवरी में मैन्युफैक्चरिंग 8 साल के उच्चतम स्तर पर

Manufacturing Activity in India: बीते 11 सालों में सबसे कमजोर ग्रोथ की स्थिति से काबू पाने की दिशा में यह आंकड़े अहम साबित हो सकते हैं। जनवरी के महीने में डिमांड में इजाफा होने के चलते नए बिजनस में ग्रोथ दिखी है। इसके चलते आउटपुट, एक्सपोर्ट, इनपुट खरीद और रोजगार में बढ़ोतरी हुई है।

बतौर पीएम इन मानकों पर नरेंद्र मोदी से ज्‍यादा खरे साबित हुए मनमोहन सिंह

मोदी कार्यकाल में एक समय ऐसा भी आया जब जीडीपी ग्रोथ रेट 8.2 फीसदी भी रही। ये दौर था 2016-17 का जब कुछ महीने पहले ही देश में नोटबंदी लागू की गई थी। यह आंकड़ा 2011-12 से लेकर 2018-19 के बीच सबसे ज्यादा है।

इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स में देरी, बढ़ गया 3.77 लाख करोड़ रुपये का बोझ!

मंत्रालय की मई, 2019 की रिपोर्ट के अनुसार 1,623 परियोजनाओं की कुल मूल लागत 19,25,107.47 करोड़ रुपये थी। अब इन परियोजनाओं के पूरे होने की अनुमानित लागत बढ़कर 23,02,230.50 करोड़ रुपये के आसपास हो चुकी है।

अरब डॉलर का दांव खेलने के बाद नरेंद्र मोदी से भंग हो रहा मोह, 1999 के बाद पहली बार इतनी तेजी से बाजार से बाहर हुए वैश्‍व‍िक निवेशक

कार की बिक्री रिकॉर्ड कमी देखी जा रही है, पूंजी निवेश गिर गया है, बेरोजगारी दर 45 साल के उच्च स्तर पर पहुंच गई है और देश की बैंकिंग प्रणाली दुनिया के सबसे खराब ऋण अनुपात से प्रभावित है।

उम्मीद से काफी कम है भारत की आर्थिक विकास दर, लेकिन चीन से अभी भी आगे: IMF

आईएमएफ के अनुसार भारत की विकास दर साल 2019 में 7 फीसदी और साल 2020 में 7.2 फीसदी रह सकती है। घरेलू मांग को देखते हुए यह उम्मीद से कम है।

रिपोर्ट: चालू वित्त वित्त वर्ष में अनुमान के मुताबिक नहीं रहेगा इकॉनोमिक ग्रोथ, 6.8% रहने के आसार

रिपोर्ट में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में वृद्धि दर नरम पड़ेगी और और दूसरी छमाही में आधार प्रभाव की वजह से बढ़ेगी।

सर्वे: कम हुई अर्थव्‍यस्‍था की रफ्तार, बढ़ा सकती है 2019 में नरेंद्र मोदी सरकार की परेशानी

भारत को इस वक्त 8 फीसदी से अधिक के विकास-दर की आवश्यक्ता है। 1 करोड़ 20 लाख के क़रीब युवा वर्ग हर साल नौकरी की मांग कर रहा है और यह मोदी सरकार के लिए बड़ी चुनौती रही है। आरबीआई ने इस वर्ष विकास दर के 7.4 फीसदी रहने की भविष्यवाणी की है।

”मैंने कभी नहीं कहा था कि हम अर्थव्‍यवस्‍था को बढ़ावा देने के लिए पैकेज देंगे”

जेटली ने कहा कि उनकी सरकार को विरासत में बड़ा राजकोषीय घाटा मिला। केवल साढ़े तीन साल पहले यह 4.6 प्रतिशत था और भारत धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है, जो आगे भी जारी रहेगा।

आर्थिक सुधार अगर जारी रहे तो द्विअंकीय वृद्धि संभव: पनगढ़िया

नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने कहा कि अगर आर्थिक सुधार प्रक्रिया आगे बढ़ती रहती है तो भारतीय अर्थव्यवस्था अगले दो-तीन साल में द्विअंकीय आर्थिक वृद्धि हासिल कर सकती है।

ब्रिटिश रिपोर्ट में दावा: 2030 के बाद दुनिया की तीसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा भारत

रिपोर्ट के मुताबिक, 2029 में अमेरिका को पछाड़कर चीन सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। अमेरिका दूसरे स्थान पर पहुंच जाएगा, जबकि भारत तीसरे स्थान पर होगा।

भारत ने आईएमएफ में कोटा सुधारों पर जोर दिया, लेगार्ड का समर्थन

भारत द्वारा अधिक प्रतिनिधित्व की मांग पर जोर दिए जाने के बीच अंतरराष्ट्रीय मु्द्राकोष (आईएमएफ) ने उसे दस प्रमुख भागीदारों में से एक बनाने के विकल्पों पर विचार का वादा किया क्योंकि अमेरिका इस बहुपक्षीय संस्थान में कोटा सुधारों की ‘पुष्टि नहीं कर रहा है’। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने आईएमएफ की प्रमुख क्रिस्टीन लेगार्ड के […]

ये पढ़ा क्या?
X