India manufacturing activity

मैन्युफैक्चरिंग ऐक्टविटी में 8 सालों का सबसे बड़ा उछाल, कोरोना के कहर से अर्थव्यवस्था की रिकवरी के संकेत

1979 के बाद पहली बार जून तिमाही में 23.9 पर्सेंट की बड़ी गिरावट दर्ज करने वाली भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए मैन्युफैक्चरिंग ऐक्टिविटी का बढ़ना सुखद संकेत है। भारत दुनिया के उन देशों में से एक है, जहां कोरोना सबसे तेजी से पैर पसार रहा है।

मैन्युफैक्चरिंग में जुलाई में भी गिरावट का दौर जारी, नए ऑर्डर न मिलने से कंपनियां पस्त, अब भी कर रहीं कर्मचारियों की छंटनी

आईएचएस मार्किट की अर्थशास्त्री एलियॉट केर ने कहा, ‘भारत में मैन्युफैक्चरिंग के ताजा पीएमआई के आंकड़े कोविड- 19 महामारी से अधिक प्रभावित देशों में शामिल देश की आर्थिक स्थिति पर अधिक प्रकाश डालते

Manufacturing Growth in India: 1700 निजी कंपनियों की सेल में 2019-20 की दूसरी तिमाही में बड़ी गिरावट

Manufacturing in India: मौजूदा साल के शुरुआती 8 महीनों में औद्योगिक उत्पादन का इंडेक्स महज 0.6 फीसदी ही ग्रोथ कर पाया, जबकि बीते साल 5 फीसदी से अधिक की रफ्तार से ग्रोथ हुई थी।

विनिर्माण क्षेत्र का उत्पादन दिसंबर में 2 साल के उच्चतम स्तर पर: HSBC

भारत के विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर दिसंबर के दौरान दो साल के उच्चतम स्तर पर रहा और 2014 देश-विदेश के मिले आर्डर में जोरदार बढ़ोतरी के साथ समाप्त हुआ। यह बात आज एचएसबीसी के सर्वेक्षण में कही गई। एचएसबीसी इंडिया का खरीद प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) दिसंबर में 54.5 पर रहा जो पिछले महीने दर्ज […]

यह पढ़ा क्या?
X