India-China face-off

गलवान घाटी में भारत ने दी थी कड़ी टक्कर, मारे गए थे चीन के 45 जवान, रूस की न्यूज एजेंसी का दावा

15-16 जून को गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सेना के बीच मुठभेड़ हुई थी, इसमें भारत के 20 जवानों की जान चली गई थी, हालांकि चीन ने अपने मृत या घायल सैनिकों का खुलासा नहीं किया था।

‘LAC पर अप्रैल से पूर्व की स्थिति बहाल होगी’, राज्यसभा में बोले रक्षा मंत्री; जानें कितना पीछे हटेंगी भारत-चीन की सेनाएं

चीन के रक्षा मंत्रालय ने बुधवार को कहा था कि पूर्वी लद्दाख में पैंगोग झील के उत्तरी और दक्षिणी छोर पर तैनात भारत और चीन के अग्रिम पंक्ति के सैनिकों ने पीछे हटना शुर कर दिया है।

क्या सरकार ने लद्दाख में विदेशी सेना के कब्जे में आई जमीन को छुड़ाने का संकल्प लिया?, मोदी के किसी मंत्री को है इसकी जानकारी?; सुब्रमण्यम स्वामी का तंज

भाजपा की ओर से राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी पहले भी कुछ मौकों पर मोदी सरकार को चीन के मुद्दे पर घेर चुके हैं।

100 दिन भेड़ की तरह जीने से बेहतर है 1 दिन शेर की तरह जियो…LAC के पास ITBP का बोर्ड, बोली- हैं खूब चौकन्ने, चीन नहीं चौंका सकता

हाल ही में एक खुफिया अलर्ट जारी हुआ था, जिसमें कहा गया था कि चीनी सैनिक सर्दी खत्म होते ही बर्फ के पिघलने के बाद 20 संवेदनशील इलाकों में घुसपैठ को अंजाम दे सकते हैं।

LAC पर 20 जगह से घुसपैठ कर सकता है चीन- खुफिया अलर्ट पर भारत मुस्तैद

बता दें कि चीनी और भारतीय सेना पिछले 8 महीने से लद्दाख के तीन मुख्य इलाकों में आमने-सामने हैं। इनमें डेपसांग प्लेन्स, पैंगोंग लेक का इलाका और हॉट स्प्रिंग्स शामिल हैं।

अचानक नहीं हुआ था गलवान में खूनी संघर्ष, चीन ने साज़िश रच दिया था अंजाम- अमेरिका ने दी रिपोर्ट

भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच इस साल 14 जून को गलवान घाटी में खूनी झड़प हुई थी। इसमें भारत के 20 सैनिक शहीद हुए थे, जबकि चीन के भी कई सैनिकों की जान गई थी।

भूटान के भीतर चीन का बस गया गांव? जहां डोकलाम पर हुआ था आमना सामना, वहां से महज 9Km दूर लोकेशन होने का दावा

बताया गया है कि चीन का यह नया गांव- पांगड़ा भूटान के क्षेत्र में दो किलोमीटर अंदर है, हालांकि भारत में भूटान के राजदूत ने इन खबरों को गलत बताया।

बढ़ते भारत को प्रतिद्वंद्वी मान रहा चीन, लोकतांत्रिक देशों से कराना चाहता है रिश्ते खराब- अमेरिकी रिपोर्ट में लिखा

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भारत समेत दक्षिण एशिया के कई देशों का दौरा किया था, विदेश विभाग की यह रिपोर्ट उनके दौरे के बाद ही रिलीज हुई है।

चीन के एलएसी से पीछे हटने के प्रस्ताव पर सुब्रमण्यम स्वामी की चेतावनी, बोले- डेपसांग से हटे PLA तो ही करें समझौता

हाल ही में न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट में कहा गया था कि 6 नवंबर को लद्दाख के चुशुल में जो बैठक हुई थी, उसमें दोनों सेनाओं के बीच LAC पर पहले जैसे हालात कायम रखने पर सहमति बनी है।

इधर भारत-चीन में 8वें दौर की बातचीत, उधर CDS बोले- चीन LAC पर अपनी हरकतों का अप्रत्याशित अंजाम भुगत रहा

भारत और चीन की सेनाओं के बीच अगस्त में फायरिंग की घटना हुई थी। दशकों बाद हुई इस घटना के बाद से अब तक दोनों देशों के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है।

चीनी अखबार ने कहा, हिंद महासागर में अमेरिका की युद्ध की धुन पर नाचना चाहता है भारत

ग्लोबल टाइम्स में लियू जोंगी के इस लेख में कहा गया कि चीन के साथ सीमा संघर्ष को एक बहाने के रूप में इस्तेमाल करते हुए भारत सक्रिय रूप से QUAD के भौतिकीकरण को बढ़ावा दे रहा है।

LAC विवाद: जासूसी करा रहा चीन? लद्दाख में पकड़ा गया PLA का जवान, बोला- भटक गया था रास्ता

सैनिक कॉरपोरल रैंक का है। उसके पास से कुछ दस्तावेज भी मिले हैं।

‘दोनों पक्षों के बीच कुछ बेहद गोपनीय हो रहा’, LAC तनाव पर चीन से बातचीत को लेकर बोले विदेश मंत्री

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि वे फिलहाल चीन और भारत के बीच जारी गुप्त बातचीत पर सार्वजनिक तौर पर ज्यादा कुछ नहीं कह सकते।

मोदी ने 8400 करोड़ का हवाई जहाज खरीदा, इतने में जवानों के लिए कितना कुछ खरीदा जा सकता था – पीएम पर बरसे राहुल गांधी

केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने ट्वीट के साथ जनसत्ता डॉट कॉम की एक खबर का स्क्रीनशॉट भी शेयर किया है। खबर में सीएजी की रिपोर्ट के हवाले से बताया गया कि सियाचिन, लद्दाख में भारतीय सैनिकों के लिए गर्म कपड़े और अन्य उपकरण खरीदने में देरी हुई।

चीन से मुकाबले को लद्दाख में यहां पुल और हाईवे तैयार कर रहा भारत, साल भर रहेगी सीमा तक पहुंच

भारत और चीन के बीच LAC पर हुए टकराव के बाद से बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन ने सीमाई इलाकों से लगती सड़कों को मजबूत करने का काम शुरू कर दिया है।

LAC विवाद: तनातनी के बीच हाड़ कंपाने वाली ठंड का सामना करेंगे सुरक्षाबल, रूसी टेंट्स और ‘देसी जुगाड़’ का लेंगे सहारा; ऐसे कर रहे तैयारी

बताया गया है कि भीषण ठंड के मद्देनजर चीन ने अपने सैनिकों के लिए पैंगोंग सो और एलएसी स्थित कुछ अन्य टकराव वाली जगहों पर सेमी-परमानेंट ढांचे खड़े कर लिए हैं।

राजनाथ का दावा- कोई ताकत हमें LAC पर गश्त से रोक नहीं सकती; सच- चीन ने क्षेत्र पर कब्जा कर भारत को 50 वर्ग किमी इलाके में जाने से रोका

बताया गया है कि दार्बुक-श्योक-दौलत बेग ओल्दी रोड (DSDBO) के पूर्व में पड़ने वाले पांच पैट्रोलिंग पॉइंट एलएसी के काफी करीब भारतीय सीमा में ही हैं, पर यहां भी सेना गश्त नहीं कर पा रही।

LAC पर तनाव के बीच भारत ने शुरू की टी90 टैंक पहुंचाने की तैयारी, ताकि बर्फबारी न पड़े भारी

सेना सर्दियों में चीन के किसी भी उकसावे का जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार रहना चाहती है और इसीलिए वह सभी जरूरी सप्लाई जुटा लेना चाहती है।

IND vs ENG Live
X