India China Border

चीन पर आर्मी चीफ ने माना, दोनों तरफ से है विश्वास की कमी, कहा- देपसांग के लिए तैयार है प्लान

आर्मी चीफ ने माना है कि चीन और भारत, दोनों की तरफ से विश्वास में कमी है और इसलिए सीमा विवाद का हल निकलने में समय लगेगा। उन्होंने यह भी कहा कि भारत ने बहुत कुछ हासिल किया है।

चीन को दो टूक

पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी हिस्से से चीन और भारत ने अपने सैनिकों को वापस बुला लिया है और यहां अब अप्रैल, 2020 से पहले वाली स्थिति बहाल होने का दावा किया जा रहा है।

ये कोई रोटी बंट रही है…चीन पर बोले पैनलिस्ट रहमान, अर्नब ने लगाई लताड़- मेरे प्रोग्राम में आकर बकवास करेंगे, राहुल बाबा ने बोला?

डिबेट में राजनीतिक विश्लेषक मोहम्मद तौसीफ रहमान ने चीन द्वारा कथित तौर पर भारत की जमीन कब्जाने पर कहा- कोई रोटी बंट रही है। हमारे यहां कोई भी आता है लेकर चला जाता है, फिर वापस देकर चला जाता है। बात की पुष्टि होने चाहिए।

पैंगोंग के बाद देपसांग पर होगी चीन से बात, राहुल बोले- डरपोक हैं मोदी, जवानों के बलिदान पर थूक रहे

राहुल गांधी ने कहा कि भारत और चीन पर प्रधानमंत्री मोदी को बयान देना चाहिए था लेकिन वह डरपोक हैं। उन्होंने कहा, चीन ने भारत माता के टुकड़े पर कब्जा कर लिया है।

भारत ने मानी चीन में घुसपैठ की बात, समझौते का करे पालन- ड्रैगन ने एलएसी पर वीके सिंह के बयान पर कहा

अभी हाल ही में केंद्रीय परिवहन और राजमार्ग राज्य मंत्री वीके सिंह ने कहा था कि भारत ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) का चीन की तुलना में अधिक बार अतिक्रमण किया है, लेकिन सरकार हर बार इसकी घोषणा नहीं करती है। पूर्व सेना प्रमुख वीके सिंह के इस बयान को लेकर अब बीजिंग ने दावा […]

चीन के साथ 9 राउंड की बातचीत के बाद भी नहीं निकला हल, विदेश मंत्री बोले- आगे भी होगी चर्चा

भारत और चीन के बीच बीते साल पांच मई से पूर्वी लद्दाख में सैन्य गतिरोध चल रहा है।

LAC के आस-पास चीन ने लगाए जासूस, इंटेलिजेंस एजेंसियों ने चेताया; सेना अलर्ट

पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की इस हरकत की जानकारी सरकार के आला अधिकारियों को भी दी गई है।

चीन ने LAC के पास निर्माण किया, लद्दाख के नेता ने बताया- अब पास से भी नजर आता है सबकुछ

उन्होंने कहा कि साउथ पैंगोंग के ब्लैक टॉप के पास साल 2018 तक चीन की तरफ से सिर्फ एक कैमरा लगाया गया था। आज हम वहां अक्सर चीनी गाड़ियों और टेंटों को देखते हैं।

‘संघर्ष नहीं, शांति चाहते हैं’, LAC विवाद के बीच बोले रक्षा मंत्री- देश के आत्मसम्मान पर कैसे भी नुकसान को न करेंगे बर्दाश्त

रक्षा मंत्री ने भारत-चीन सैन्य गतिरोध के बारे में कहा, हम किसी भी मुद्दे के शांतिपूर्ण एवं वार्ता के जरिए समाधान में विश्वास रखते हैं। उन्होंने कहा, हम संघर्ष नहीं, शांति चाहते हैं लेकिन देश के आत्म-सम्मान को किसी भी तरह का नुकसान बर्दाश्त नहीं करेंगे।

सीमा पर 6-7 जगहों को चिह्नित व कब्जा करने की सरकार से मिल गई थी हरी झंडी, चीनी सैनिकों को खदेड़ने का यह था सेना का पूरा प्लान

सरकार के एक सीनियर अधिकारी ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया कि चीनी सैनिकों की जुर्रत के बाद सरकार ने भारतीय सेना को कई चोटियों पर कब्जा करने की इजाजत दे दी थी।

ओवैसी बंधु हैदराबाद में सिर्फ रोहिंग्या लाएंगे, विकास नहीं, हैदराबाद निगम चुनाव को लेकर बोले भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या

आपको बता दें कि हाल ही में असदुद्दीन ओवैसी ने बीजेपी पर आरोप लगाया था कि पार्टी निगम चुनाव को सांप्रदायिक रंग देना चाहती है। उन्होंने केंद्र सरकार पर भी सवाल पूछा था कि जब हैदराबाद में बाढ़ की स्थिति थी तब केंद्र सरकार ने क्या किया?

पूर्वी लद्दाख में पीछे हटने को राजी हुआ चीन, टैंक और गोलबारूद लेकर फिंगर 8 में जाएगा वापस

6 महीने के तनाव के बाद आखिरकार चीनी सेना पैंगोंग लेक एरिया से वापस जाने को तैयार है। यह प्रस्ताव चीन की ही तरफ से आया है। हालांकि अभी औपचारिक ऐलान नहीं किया गया है।

संपादकीय: चीन का रुख

चीन सीमा क्षेत्र से सैनिकों की तादाद घटाने की बात तो हर बार करता रहा है, लेकिन इस दिशा में कोई ऐसा कदम नहीं बढ़ा रहा, जिससे गतिरोध खत्म करने को लेकर उसके प्रयासों में गंभीरता नजर आती हो। पर अब आठवें दौर की बातचीत का लब्बोलुआब यह बताया जा रहा है कि आने वाले दिनों में कुछ खास जगहों पर से दोनों देशों के सैनिक पीछे हट सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो सीमा पर तनाव कम करने की दिशा में यह बड़ा कदम हो सकता है।

LAC विवाद: जवाब देने को 7 जगह भारत ने ली अहम पोजीशन! बोला चीन- खाली करें चूशुल, भारत का जवाब- पैंगॉन्ग से हटाओ PLA

सूत्रों के मुताबिक भारत औऱ चीन के रक्षा औऱ विदेश मंत्रालय के बीच जो बातचीत अब तक हुई है उसमें दोनों ही देश बॉर्डर पर शांति बनाए रखने के लिए राजी हुए हैं। लेकिन इस बातचीत में चीन यह बताने में नाकाम रहा है कि आखिर क्यों वो बॉर्डर पर सैनिकों की संख्या बढ़ा रहा है।

India China Faceoff: एलएसी की चीन की परिभाषा को भारत ने किया खारिज, तनाव और बढ़ने का खतरा

विदेश मंत्रालय ने कहा कि साल 2003 तक दोनों देशों की तरफ से एलएसी के निर्धारण को लेकर कोशिश होती रही है लेकिन इसके बाद चीन की तरफ से इस संबंध में रुचि नहीं दिखाई गई जिसके बाद से यह प्रक्रिया रुक गई। ऐसे में चीन का यह कहना कि केवल एक ही एलएसी है यह वादे का उल्लंघन है।

संपादकीय: मोर्चे पर मजबूती

भारत-चीन के बीच यह गतिरोध आसानी से खत्म होने वाला नहीं है। भले ही सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर वार्ताएं चल रही हों, या विदेश और रक्षा मंत्रियों के बीच वार्ताएं हुई हों, सीमा पर चीन की सैन्य तैयारियां यह बताने के लिए पर्याप्त हैं कि वह किसी न किसी बहाने भारत को जंग में उलझाना चाहता है।

चीन लद्दाख में लगातार अपना रहा आक्रामक रुख, जानें भारतीय वायु सेना की क्या है जवाबी तैयारी

किसी भी परिस्थिति में भारत-चीनी सेना का सीधा टकराव बिना विदेशी हस्तक्षेप के 10 दिनों से ज्यादा नहीं चल सकता है। जबकि भारतीय सेना के पास खुद का गोला-बारूद 40 दिनों और पारंपरिक गोला-बारूद 60 दिनों तक के लिए है।

चीनियों को राजीव शर्मा लीक करता था गोपनीय सूचनाएं, डेढ़ साल में पाया 40 लाख रुपए, हर जानकारी पर मिलते थे हजार डॉलर: दिल्ली पुलिस

चीनी खुफिया एजेंसी ने पत्रकार को संवेदनशील सूचनाएं देने और बदले में बड़ी राशि लेने को कहा था।’’ उन्होंने बताया, ‘‘बड़ी संख्या में मोबाइल फोन, लैपटॉप और अन्य आपत्तिजनक/संवेदनशील सामग्री बरामद की गई है।’’

ये पढ़ा क्या?
X