India china border dispute

चीन को भारत की दो टूक- पैंगोंग झील और आसपास से नहीं हटेगी सेना, पिछली मीटिंग में भी भारत ने तीन मांगे ठुकरा कर दिया था झटका

भारत और चीन के बीच पिछले तीन महीने से ज्यादा समय से एलएसी पर तनाव जारी है, अब रक्षा मंत्रालय ने भी चीनी घुसपैठ की बात कबूली है।

चीन पर और चौकन्ना हुआ भारत, उत्तरी लद्दाख में बढ़ाई फौज, हेवी टैंक भी किए मुस्तैद

भारत ने उत्तरी लद्दाख में भारी मात्र में सैनिकों को तैनात किया है। पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) द्वारा किसी भी दुस्साहस का मुकाबला करने के लिए क्षेत्र में सैनिकों और टैंक रेजिमेंटों की भारी तैनाती की है।

करीब तीन महीने और पांच दौर की बात के बाद भी चीन नहीं हटा रहा सैनिक, PP17A पर एक किमी के दायरे में अब भी बनी है तैनाती

भारत और चीन के बीच अप्रैल से ही लद्दाख स्थित एलएसी पर तनाव जारी है, चीन का दावा है कि उसने कई इलाकों से सेनाएं पीछे हटाई हैं, हालांकि भारत ने उसके इस दावे को नकार दिया है।

पैंगोंग झील के बाद अब लिपुलेख पास के करीब सैनिक जुटा रहा चीन, एक हफ्ते में LAC के नजदीक बढ़ा दी PLA की मूवमेंट

रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन ने लिपुलेख पास के करीब अपनी सीमा में एक हजार सैनिक जुटा लिए हैं, इसके जरिए वो भारत को अपने तैयार होने का संदेश दे रहा है।

लद्दाख में फिर तनातनी, पैंगोंग झील के पास चीनी सैनिकों के जमावड़े के बाद सेना ने LAC के करीब फिर तैनात किए जवान

चीन ने हाल ही में दावा किया था कि एलएसी पर तनाव कम करने के लिए उसने ज्यादातर इलाकों से सेना पीछे बुला ली है, हालांकि भारत ने चीन के इस दावे को झूठा बताया।

चीनी कंपनियों पर एक और बैन, अब कलर टीवी के आयात पर पाबंदी, DGFT ने जारी की नई पॉलिसी

भारत सरकार पहले ही चीनी कंपनियों पर निवेश से जुड़े नियम बदलकर कानूनी तौर पर रोक लगा चुकी है, इसके अलावा चीन के प्रोजेक्ट्स को रद्द भी किया गया है।

बौखलाए चीन ने भारत को धमकाया, अमेरिका ने कॉन्सुलेट बंद कराया, ब्रिटेन ने 5G नेटवर्क से चीनी कंपनी को हटाया

चीनी राजदूत सन वेईडोंग ने कहा, चीन कोई विस्तारवादी ताकत या रणनीतिक खतरा नहीं है। दोनों देशों के बीच सदियों से शांतिपूर्ण रिश्ते रहे हैं। हम कभी भी आक्रामक नहीं रहे और ना ही किसी देश की कीमत पर अपना विकास किया है।

चीनी चाल के खिलाफ टूरिज्म को सरकार बनाना चाह रही सुरक्षा ढाल, उत्तराखंड के गंगोत्री इलाके में चीन से सटे गांवों में पर्यटन को बढ़ावा

बताया गया है कि केंद्र सरकार उत्तराखंड के इस ऐक्शन प्लान के समर्थन में है और गृह मंत्रालय जल्द ही इस बारे में आधिकारिक आदेश जारी कर सकता है।

अब हिमाचल प्रदेश के पास तिब्बत के आखिरी गांव में सड़क बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासा, अंतरराष्ट्रीय सीमा से सिर्फ 30 किमी दूर

रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन ने पिछले साल जून में इस सड़क का निर्माण शुरू कर दिया था, हालांकि बाद में खराब मौसम की वजह से इसे रोकना पड़ा था।

भारत ने दिखाई आंख तो अब चीन कर रहा दावा- लद्दाख में अधिकांश जगहों से हटा ली है सेना

चीनी विदेश मंत्रालय का दावा है कि एलएसी पर जमीनी हालात लगातार सुधर रहे हैं, हालांकि हालिया रिपोर्ट्स में दावा है कि चीनी सेना अब तक पैंगोंग इलाके से पीछे नहीं हटी हैं।

भारत की कूटनीतिक और सैन्य कामयाबी, आंख दिखाई तो पैंगोंग त्सो और गोगरा प्वाइंट से पीछे हटने को तैयार हुआ चीन

वहीं चीनी विदेश मंत्रालय ने भी अपने एक बयान में कहा है कि ‘दोनों पक्ष सीमा पर मौजूद सैनिकों को पीछे हटाने की दिशा में सकारात्मक प्रतिक्रिया दिखा रहे हैं।

पैंगोंग त्सो और गोगरा प्वाइंट पर चीनी सैनिक अड़े, नहीं हट रहे पीछे, दोनों देशों के टॉप कमांडर्स की फिर होगी मीटिंग

सेना के एक शीर्ष स्रोत ने गुरुवार को कहा कि सैनिकों के विघटन को लेकर दोनों पक्षों के कोर कमांडर फिर से मिल सकते हैं। सूत्र के मुताबिक एक बार फिर सैन्य या राजनयिक बैठक की आवश्यकता है।

LAC पर वादाखिलाफी कर रहा चीन: अब भी हैं 40 हजार सैनिक, भारत को भिजवाना पड़ रहा दोगुना राशन

चीनी सेना ने मई से ही लद्दाख में घुसपैठ की कोशिशें शुरू कर दी थीं, हालांकि कुछ ही दिनों पहले कमांडर स्तर की वार्ता के बाद दोनों देशों के बीच सेनाओं को पीछे हटाने पर सहमति बनी थी।

लद्दाख में LAC पर भारत ने बदली रणनीति, तीन डिवीजनों में अब पीछे नहीं हटाएगी सेना, चीनी निर्माण वाले क्षेत्रों में ड्रैगन को दिखाएगी आइना

भारत और चीन की सेनाओं के बीच तनाव कम करने के लिए हुई कोर कमांडर स्तर की बैठक में एलएसी से टुकड़ियां कम करने का समझौता हुआ था, पर चीनी सेना अभी भी दो जगहों पर डटी हुई हैं।

चीन के साथ सीमा विवाद में अपनी छवि बचाने में जुटे प्रधानमंत्री मोदी, राहुल गांधी ने वीडियो जारी कर पीएम पर किया बड़ा हमला

राहुल गांधी गांधी ने एक वीडियो जारी कर चीन के साथ मौजूदा गतिरोध को लेकर कहा, ‘‘यह साधारण सीमा विवाद नहीं। मेरी चिंता है कि चीनी आज हमारे इलाके में बैठे हैं। सवाल यह है कि चीन की सामरिक रणनीति क्या है? चीनी बगैर रणनीतिक सोच के कोई कदम नहीं उठाते।’’

1960 में किए गए अपने ही दावों को नकार भारत की सीमा पर मौजूद चीनी, पर मोदी सरकार कह रही- हमारी स्वायत्ता का उल्लंघन नहीं हुआ

चीनी सेना अब तक भारत के साथ चार अलग-अलग स्थानों पर आमने-सामने आ चुकी है, इनमें से कुछ जगहों पर चीन की तरफ से घुसपैठ अभी जारी है।

मलक्का स्ट्रेट से लेकर हॉर्न ऑफ अफ्रीका तक इंडियन नेवी ने चीन के खिलाफ अपनाया आक्रामक रुख, पूर्वी और पश्चिमी दोनों तरफ समंदर में तैनात किए युद्धपोत, पनडुब्बी

चीन के साथ पूर्वी लद्दाख में मौजूदा सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना और वायुसेना अक्साई चीन में पूरी तरह से मुस्तैद है। नौसेना ने समुंदर में पूर्वी और पश्चिमी दोनों तरफ युद्धपोत और पनडुब्बियां तैनात कर दी हैं।

15 घंटे की वार्ता के एक दिन बाद पैंगोंग झील पर बातचीत करने को तैयार हुआ चीन, फिंगर-4 और फिंगर-8 पर भी नरमी के संकेत

भारत और चीन के बीच यह सैन्य स्तर की वार्ता का चौथा दौर रहा, रिपोर्ट्स के मुताबिक पहले चीन पैंगोंग सो पर बातचीत के लिए तैयार ही नहीं था।

ये पढ़ा क्या?
X