ताज़ा खबर
 

Gulzar

एक शर्त और वह रात जिसने जुदा कर दिए गुलजार और राखी के रास्ते

गुलज़ार दरअसल कश्मीर में फिल्म आंधी के शूट के लिए पहुंचे थे। वो इस फिल्म का निर्देशन कर रहे थे। राखी भी अपने पति के साथ शूट पर मौजूद थीं।

lyrics writer, gulzar, bollywood, songs

सिनेमा: सत्तर का सिनेमा और गुलजार

हिंदी फिल्मों के लंबे इतिहास में सत्तर का दशक विविध धाराओं की महत्त्वपूर्ण फिल्मों के लिए जाना जाएगा। फिल्म इस उद्देश्य से भी बनाई जा सकती है कि व्यावसायिक लाभ प्राथमिक शर्त न हो।

he Jungle Book, Jungle Jungle Baat Chali Hai, Jungle Jungle Baat Chali Hai The Jungle Book, Rudyard Kipling Jungle Book, entertainment news, Gulzar, Vishal Bhardwaj

Video: जंगल-जगल सॉन्ग रिलीज- सुनकर तरों ताजा हो आईं बचपन की यादें

डिज्नी की आने वाली फिल्म ‘द जंगल बुक’ के हिन्दी वर्जन का गाना ‘जंगल जंगल बात चली है, पता चला है’ जारी किया गया है।

cinema column, jansatta newspaper, lyrics writer gulzar, bollywood industry

जेएनयू छात्रों को गुलज़ार का समर्थन, कहा- युवाओं की वजह से मैं और मेरा देश सुरक्षित है

स्प्रिंग फीवर 2016 से इतर गुलजार ने कहा, ‘‘अपने सेंट स्टीफन्स (कॉलेज) के दिनों में हमने रूसी क्रांति पर किताबें पढ़ी और अगर आज भी क्रांति और असहमति की आवाज उठायी जा रही है

cinema column, jansatta newspaper, lyrics writer gulzar, bollywood industry

साहित्य उत्सव में शब्दों के साथ ही नज्मों पर भी चर्चा के दौर चले

साहित्य उत्सव में रविवार को गुलजार के सत्र में ही लोगों की खास रुचि भी झलकी। साहित्य उत्सव में रविवार को छुट्टी होने के कारण खासी रंगत रही। गीतकार गुलजार के सत्र के चलते पूरे आयोजन में रौनक बनी रही।

Gulzar, Sahitya Akademi, Akademi Award, mm kalburgi, Patna, गुलज़ार, साहित्य अकादमी, एमएम कलबुर्गी, अकादमी पुरस्कार, पटना

‘पुरस्कार लौटाना’ लेखकों के पास विरोध जताने का एकमात्र तरीका है: गुलज़ार

गुलजार ने बढ़ती असहिष्णुता के विरोध में साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने वाले लेखकों का समर्थन करते हुए कहा कि लेखक के पास अपना विरोध जताने का यही एक तरीका होता है…

‘अवॉर्ड लौटाकर कहीं हम अधिकार तो नहीं छोड़ रहे हैं’: गुलज़ार

साहित्यकारों के अवार्ड वापस किये जाने को लेकर फिल्मकार और शायर गुलजार ने चिंता जाहिर करते हुए शुक्रवार को कहा कि अवार्ड लौटाकर कहीं हम अधिकार तो नहीं छोड़ रहे हैं।

X