Gujrat Riots in 2002

नरौदा पाटिया, गुलबर्ग सोसायटी में सैकड़ों लोगों को मरने के लिए छोड़ दिया था पुलिस ने: नानावती आयोग

इस रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि कैसे वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने हिंसा के ठीक पहले नरोदा पाटिया और गुलबर्ग सोसाइटी क्षेत्रों से पुलिस बल हटा लिया जो उसके अधिकार क्षेत्र में थे और हत्याओं के बाद वापस लौटे।

‘कांग्रेस की साजिश का हिस्सा था गोधरा का साबरमती एक्सप्रेस अग्निकांड’, गुजरात सरकार की किताब में बड़ा दावा

Sabarmati Express Godhra Kand Train number 19168 riots: किताब के एक गद्यांश में लिखा है, ‘एक स्थिर सरकार को अस्थिर करने के लिये 27 फरवरी 2002 को एक साजिश रची गई। साबरमती एक्सप्रेस के एक डिब्बे को आग लगा दी गई जिसमें अयोध्या से कारसेवक लौट रहे थे।

2002 गुजरात दंगा: नानावती आयोग ने अपनी अंतिम रिपोर्ट मुख्यमंत्री आनंदीबेन को सौंपी

न्यायामूर्ति नानावती आयोग ने 2002 के गुजरात दंगों पर अपनी अंतिम रिपोर्ट आज मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल को सौंप दी। न्यायमूर्ति नानावती ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘‘हमने रिपोर्ट सौंप दी है जो दो हजार से ज्यादा पृष्ठों की है।’’ हालांकि उन्होंने रिपोर्ट के संबंध में कोई ब्यौरा देने से इंकार कर दिया। आयोग के सदस्य, […]

ये पढ़ा क्या?
X