galwan valley

गलवान शहीदों की याद में बना नया वॉर मेमोरियल, चीन के लिए छिपा है बड़ा संदेश!

भारत और चीन के बीत बीते कई माह से एलएसी पर विवाद चल रहा है। जिसके चलते भारत और चीन के सैनिक बीती 15 जून तो लद्दाख की गलवान घाटी में आमने-सामने आ गए थे।

India-China Border: उन बातों की पूर्ण अनदेखी हुई जिन पर पहले सहमति बनी थी- भारत ने पैंगोंग सो पर चीनी कार्रवाई पर कहा

India-China Ladakh Border: 15 जून को पूर्वी लद्दाख के ही गलवान घाटी में चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद इलाके में यह पहली बड़ी घटना है। गलवान घाटी में हुई झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे।

इधर विदेश मंत्री से बातचीत को बेकरार चीन, उधर लद्दाख में डोमचाच के पास बिछा रहा 5G नेटवर्क, पैंगोंग झील के पास भी नया निर्माण!

कोर कमांडर स्तर पर पाँच दौर की वार्ता हो चुकी है और एक राजनयिक बातचीत भी जारी है। सूत्रों ने कहा कि सैन्य वार्ता का एक और दौर जल्द ही शुरू होने की उम्मीद है।

चीन के खिलाफ बोलने से मोदी और भारत सरकार को कौन रोक रहा है? डिफेंस एक्सपर्ट ने उठाए सवाल

मोदी और उनकी सरकार को भारत के खिलाफ चीन की आक्रामकता पर बोलने से क्या रोक रहा है। इसमें अंतरराष्ट्रीय नियमों और द्विपक्षीय समझौते के उल्लंघन को सामने लाने के लिए कूटनीतिक स्तर पर प्रयास शामिल है।

चीन की कथनी और करनी में फर्क़, विदेश मंत्रालय के हटने के ऐलान के बावजूद पैंगोंग त्सो और गोगरा प्वाइंट में डटी है चीनी सेना

चीनी रक्षा मंत्रालय ने दावा किया था कि दोनों पक्षों के सैनिक धीरे-धीरे विघटित हो रहे हैं और डी-एस्केलेशन की ओर बढ़ रहा है। लेकिन इस दावे के कुछ ही घंटों के भीतर भारतीय सेना के सूत्रों का कहना है कि पिछले दो सप्ताह से ज्यादा समय हो गया है और यहां कोई पॉज़िटिव मूवमेंट दिखाई नहीं दी है।

पैंगोंग त्सो और गोगरा प्वाइंट पर चीनी सैनिक अड़े, नहीं हट रहे पीछे, दोनों देशों के टॉप कमांडर्स की फिर होगी मीटिंग

सेना के एक शीर्ष स्रोत ने गुरुवार को कहा कि सैनिकों के विघटन को लेकर दोनों पक्षों के कोर कमांडर फिर से मिल सकते हैं। सूत्र के मुताबिक एक बार फिर सैन्य या राजनयिक बैठक की आवश्यकता है।

1960 में किए गए अपने ही दावों को नकार भारत की सीमा पर मौजूद चीनी, पर मोदी सरकार कह रही- हमारी स्वायत्ता का उल्लंघन नहीं हुआ

चीनी सेना अब तक भारत के साथ चार अलग-अलग स्थानों पर आमने-सामने आ चुकी है, इनमें से कुछ जगहों पर चीन की तरफ से घुसपैठ अभी जारी है।

चीन के साथ तनातनी के बीच भारतीय सेना को मिली स्पेशल पावर, 300 करोड़ रुपये तक के हथियार व गोलाबारूद खरीद सकेंगे

अधिकारियों ने बताया कि खरीद से संबंधित चीजों की संख्या को लेकर कोई सीमा नहीं है और आपात आवश्यकता श्रेणी के तहत प्रत्येक खरीद 300 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य की नहीं होनी चाहिए।

गलवान घाटी के फिंगर 4 में अभी भी डटी हुई है चीनी सेना, 10 जुलाई की लैटेस्ट सैटेलाइट इमेजरी से हुआ खुलासा

दोनों सेनाओं के बीच अगले हफ्ते कोर्प्स कमांडर लेवल की बातचीत हो सकती है। दोनों पक्षों ने विवाद वाली तीन जगहों गलवान घाटी, गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स में 3 किलोमीटर का बफर जोन बना लिया है।

चीन ने गोर्गा पोस्ट समेत तीन प्वाइंट से 2 किमी पीछे हटाई सेना, पर पैंगोंग पर गड़ा रखी है नजर, फिंगर 4 पर अभी भी बड़ी संख्या में चीनी सैनिक तैनात

गालवान घाटी में PP 14 और हॉट स्प्रिंग्स सेक्टर में PP 15 वास्तविक नियंत्रण रेखा पर दो अन्य सैक्टर हैं जिस पर डिसइंगेजमेंट पूरा हो चुका है। इसी के साथ वार्ता के एक और दौर के लिए रास्ता साफ हो गया है।

पर्दे पर दिखेगा गलवान घाटी में शहीद सैनिकों का पराक्रम, अजय देवगन बनाएंगे फ़िल्म

सुपरस्टार अजय देवगन ने भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर लद्दाख की गलवान घाटी में दिखाए गए सेना के पराक्रम पर फिल्म बनाने की घोषणा की है। इस बात की जानकारी फिल्म समीक्षक तरण आदर्श ने…

गश्ती को लेकर बोले कांग्रेस नेता रोहन गुप्ता तो ज़बरदस्ती चुप कराने लगे संबित पात्रा, कहा- जनता आपको सुनना नहीं चाहती

कांग्रेस प्रवक्ता रोहन गुप्ता ने पूछा, ‘Pangong Tso में फिंगर 4 और फिंगर 8 के बीच पेट्रोलिंग क्यों नहीं हो रही? इसी सवाल को लेकर दोनों के बीच बहस हो रही थी। गुप्ता ने मैप दिखाते हुए कहा कि देखिए पंगोग त्सो में क्या हाल है?

LAC विवादः चीनी सरहद पर फौज तैयार, हाल जानने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जाएंगे लेह, आर्मी चीफ भी रहेंगे साथ

भारत और चीन की सेनाओं के बीच पिछले सात सप्ताह से पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में कई जगहों पर गतिरोध की स्थिति बनी हुई है। गत 15 जून को गलवान घाटी में हिंसक झड़पों में 20 भारतीय सैनिकों के शहीद होने के बाद तनाव और बढ़ गया।

चाइनीज टेंट में आग लगने के बाद हुई थी गलवान घाटी में हिंसक झड़प, केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने किया खुलासा

केन्द्रीय मंत्री वीके सिंह ने बताया कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच सहमति बनने पर चीनी सेना को पेट्रोलिंग पॉइंट 14 से पीछे हटना था। इसी के तहत 15 जून की रात कमांडिंग अफसर कर्नल संतोष बाबू के नेतृत्व में भारतीय जवानों का एक दल पीपी-14 पहुंचा था।

बाज नहीं आ रहा चीन! गलवान में 423 मीटर भीतर तक भारतीय इलाके में कर ली घुसपैठ- सैटेलाइट तस्वीरों में खुलासा

लद्दाख में एलएसी पर सेना ने इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप की तैनाती की है। बता दें कि इस ग्रुप में शामिल जवान ऊंची पहाड़ियों में युद्ध करने में पारंगत होते हैं। ये 17वीं माउंटेन कोर के जवान हैं, जिन्हें ऊंचे और दुर्गम इलाकों में युद्ध के लिए प्रशिक्षित किया गया है।

गलवान पर NCP केंद्र के साथ? ‘संवेदनशील’ मसला बता शरद पवार बोले- झड़प किसी की नाकामी नहीं; कांग्रेस को याद दिलाया 1962

शरद पवार ने कहा, उन्होंने (चीनी सैनिकों ने) हमारी सड़क पर अतिक्रमण करने की कोशिश की और धक्कामुक्की की। यह किसी की नाकामी नहीं है। अगर गश्त करने के दौरान कोई (आपके क्षेत्र में) आता है, तो वे किसी भी समय आ सकते हैं। हम यह नहीं कह सकते कि यह दिल्ली में बैठे रक्षा मंत्री की नाकामी है।

VIDEO: गलवान में शहीद हुए सैनिकों के लिए शोकसभा में चले लात-घूंसे, आपस में भिड़े कांग्रेसी कार्यकर्ता

राजस्थान के अजमेर में गलवान घाटी में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के लिए कांग्रेसी ने शोकसभा का आयोजन किया था। तभी 2 कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए और खूब हाथापाई की।

चीनी सामान से कैसे बचेंगे? कार में 25, टीवी में 70 और ऐंटी-बायोटिक्स दवाओं में 90 फीसदी हिस्सा चीन का

कर के 27% पार्ट्स चीन से इम्पोर्ट होते है। जिसमें इंजन, पहिए और इलेक्ट्रिक वाहनों में इस्तेमाल होने वाले प्रमुख घटक शामिल हैं। इंजन, इलेक्ट्रॉनिक्स, एलॉय व्हील, टायर आदि में इस्तेमाल होने वाले उप-घटकों के लिए चीन प्रमुख आपूर्तिकर्ता है।

IPL 2020 LIVE
X