farmers agitation

गिरफ्तार करने गांव आए पुलिस तो कर लें घेराव- किसानों से बोले टिकैत के नेता बलबीर सिंह राजेवाल

राजेवाल ने यह बात 26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर की। दिल्ली पुलिस कई लोगों को इसके लिए जिम्मेदार मानकर उनकी तलाश में जुटी है।

पंजाबः रेलवे की कमाई में रोड़ा बन रहा किसान आंदोलन, अमृतसर जाने वाली 60% ट्रेनों पर पड़ी मार

रेलवे अधिकारी का कहना है कि KMSC अमृतसर से गुजरने वाली मालगाड़ी या यात्री ट्रेन की चेकिंग करेंगे। इसके बाद ही उसे जाने की इजाजत होगी। इसलिए हमने आवाजाही रोकने का फैसला किया है।

इस जाट नेता ने दिया था चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत को RS भेजेने का प्रस्ताव, जानें- क्यों ठुकरा दिया था ऑफर?

लोकप्रियता के शिखर पर पहुंचने के बावजूद भी महेंद्र सिंह टिकैत को राजनीतिक महत्वाकांक्षा कभी छू भी न पाई थी। हरियाणा के मुख्यमंत्री रहे ओमप्रकाश चौटाला ने महेंद्र सिंह टिकैत को जब एक बार राज्यसभा…

इस्लामिक प्रोपेगेंडा ने देश के टुकड़े किए, अब भारत को तोड़ने की हो रही अंतरराष्ट्रीय साज़िश- अर्नब गोस्वामी के शो में बोलीं कंगना रनौत

कंगना रनौत का कहना है कि देश को तोड़ने की अंतरराष्ट्रीय साज़िश हो रही है। उन्होंने पॉप गायिका रिहाना पर आरोप लगाया कि रिहाना ने कम से कम सौ करोड़ रूपए लेकर एक ट्वीट किया।

एक लाख लोग स्टैंडबाई पर, 2 घंटे में आ जाएंगे दिल्ली, एंकर से बोले राकेश टिकैत- क्या उगलवाना चाहते हो?

एंकर के सवाल पर राकेश टिकैत नाराज़ हो गए और कहने लगे कि आप बिल पर बात करो न, ये कौन सी भाषा आप लोगों ने पकड़ रखी है।

Chakka Jam on 6 Feb: शनिवार को देशव्यापी ‘चक्का जाम’, टिकैत बोले- शांतिपूर्ण होगा प्रदर्शन, क्या होगा आप पर असर

Chakka Jam on 06 Feb 2021, Farmers Bharat Bandh 2021 Date, Timings: किसान संगठन 6 फरवरी यानी शनिवार को तीन घंटे के लिए देशव्यापी चक्का जाम करने वाले हैं। इसको लेकर सुरक्षाबलों और एजेंसियों ने भी तैयारी कर ली है।

सिंघु बॉर्डर पर वही हुआ जो पाकिस्तान चाहता है, बोले कैप्टन अमरिंदर, कहा- केंद्र जांच कराए

बकौल कैप्टन अमरिंदर हम लंबे समय से चेतावनी दे रहे थे कि पाकिस्तान शांति भंग करने के लिए कृषि कानूनों पर अशांति का फायदा उठाने की कोशिश करेगा।

जिसकी सरकार है वो हमसे जवाब ले लेगी, आप क्यों उनके वकील बन रहे हो?- अमीष देवगन को राकेश टिकैत ने दिया जवाब

कृषि कानूनों को लेकर किसानों ने गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर रैली निकाली जो कई जगहों पर हिंसक भी हो गई। हालांकि किसान नेता राकेश टिकैत का कहना है कि आंदोलन शांतिपूर्ण हो रहे हैं।

ट्रैक्टर के साथ महिलाएं संभालेंगी किसान आंदोलन की बागडोर

कृषि कानूनों के विरोध में ट्रैक्टर के साथ-साथ आंदोलन की बागडोर भी महिलाएं संभालेंगी। दरअसल 26 जनवरी की प्रस्तावित ‘किसान गणतंत्र परेड’ में महिलाएं भी शिरकत करेंगी। रिंग रोड पर उतरने वाले किसानों के हुजूम में हर चौथा किसान महिला होगी।

किसान आंदोलनः ‘छोटा आदमी हूं, सरकार नहीं मान रही बात’, नोट लिख किसान ने की ख़ुदकुशी, अब तक 100 की मौत का दावा

मृतक किसान ने सुसाइड नोट में मांग की कि सभी राज्यों के किसान नेता दिल्ली आएं और कृषि कानूनों पर सरकार को अपनी राय दें।

यूपी में कृषि कानूनों के खिलाफ महापंचायत, किसानों ने कहा- 26 जनवरी को दिल्ली पहुंचेंगे

शाहजहांपुर के बंडा कस्बे में शनिवार को किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए किसान नेता पूनम पंडित ने यह बातें कहीं।

हरियाणा में किसानों के खिलाफ केस दर्ज, दंगा करने और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का लगा आरोप

कैमला गांव में प्रदर्शनकारी किसानों ने ‘किसान महापंचायत’ कार्यक्रम स्थल पर रविवार को तोड़फोड़ की, जहां खट्टर लोगों को संबोधित करने वाले थे।

किसानों की ट्रैक्टर रैली आज

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (एआइकेएससीसी) ने बुधवार को दावा किया कि गुरुवार को होने वाली किसानों की एक्सप्रेस-वे पर ट्रैक्टर रैली की तैयारी पूरी कर ली गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा: किसानों के साथ बातचीत में जमीनी स्तर पर सुधार नहीं

केंद्र सरकार के तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ दायर सभी याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट 11 जनवरी को सुनवाई करेगा।

दिल्ली के बॉर्डर पर डटे किसानों का आंदोलन इस बार क्यों है खास? जानिये

यह एक चिंगारी है, जो जल्द ही पूरे देश में आग लगा देगी, जैसा कि चीनी क्रांति में हुआ, और उस पराक्रमी ऐतिहासिक परिवर्तन की प्रक्रिया शुरू कर देगी…

चार घंटे चली चर्चा, बैठक बेनतीजा, सरकार की पेशकश किसानों को नामंजूर

किसान संगठनों और केंद्रीय मंत्रियों के बीच आठवें दौर की वार्ता भी सोमवार को बिना किसी नतीजे के खत्म हो गई। तीनों कृषि कानूनों को खारिज करने और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएससी) के लिए कानूनी गारंटी की किसानों की मांग को लेकर मंत्रियों ने संयुक्त समिति गठित करने का प्रस्ताव दिया, जिसे किसान प्रतिनिधियों ने मानने से मना कर दिया।

संपादकीय: बेनतीजा वार्ता

किसान संगठनों के प्रतिनिधियों और केंद्र सरकार के बीच सातवें दौर की बातचीत भी बेनतीजा रही। दोनों पक्षों के बीच अब तक गतिरोध बने रहना गंभीर चिंता की बात है।

किसान आंदोलन: वार्ता से एक दिन पहले हरियाणा में किसानों पर चले आंसू गैंस के गोल

किसानों पर आंसू गैस गोले के चलाने की घटना गुड़गांव से करीब 16 किमी दूर एनएच-48 पर रेवाड़ी जिले के सांगवारी गांव के पास शाम चार बजे की है।

यह पढ़ा क्या?
X