ताज़ा खबर
 

Editorial

jansatta, editorial, ganga, uma bharti

जनसत्ता संपादकीय : दुरुस्त आयद

आज गंगा की गिनती दुनिया की सर्वाधिक प्रदूषित नदियों में होती है। इसलिए सहज ही यह सवाल उठता है कि जो हजारों करोड़ रुपए गंगा सफाई के नाम पर खर्च किए गए वे कहां गए?

orlando, shooting, firing, florida, america

जनसत्ता संपादकीय : जनसंहार के तार

संभावित रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप आप्रवासन और आतंकवाद को लेकर अपने तीखे बयानों के कारण चर्चा में रहे हैं।

JNU, HRD Minister Prakash Javdekar, India Rankings 2017, National Institutional Ranking Framework, Afzal Guru, AISA, Left student union, Sedition, Jadavpur university, Anti India slogan, Delhi, Latest news, Hindi news

जनसत्ता संपादकीय : जांच की आंच

तब तर्क दिया गया था कि उस वीडियो फुटेज के साथ छेड़छाड़ की गई है और छात्र नेताओं को नाहक परेशान करने के मकसद से पुलिस ने यह मुकदमा दर्ज किया है। केंद्र सरकार पर भी जेएनयू को बदनाम करने का आरोप लगा था।

rajya sabha, rajya sabha election, rajya sabha election 2018, rajya sabha election result 2018, rajya sabha election 2018 result, rajya sabha chunav, rajya sabha chunav 2018, Uttar pradesh, sp, bsp, bjp, karnatka, kerala, chhattisgarh, telangana, Hindi news, jansatta

जनसत्ता संपादकीय : राज्यसभा की डगर

राज्यसभा के अभी संपन्न हुए चुनाव को लेकर उत्सुकता इस खास वजह से थी कि इसके नतीजे सदन के मौजूदा समीकरण को किस हद तक प्रभावित कर पाएंगे और आखिरकार सदन की नई तस्वीर क्या होगी।

udta punjab, controversy, jansatta, editorial, badal government, anurag kashyap

जनसत्ता संपादकीय : विवाद का परदा

यों सभी जानते हैं कि पंजाब में नशे की समस्या दिनोंदिन गहराती गई है और यह गंभीर चिंता का कारण बन चुका है।

medicine Price, Drug Price, Govt Drug Price, Drug Price Govt

जनसत्ता संपादकीय : दवा की कीमत

भारत में स्वास्थ्य के मोर्चे पर दयनीय हालात के मद्देनजर दवाओं की कीमतों के मामले में ऐसे किसी फैसले को क्या उचित कहा जा सकता है!

india, pakistan, america, atomic, power, relations, jansatta, column

जनसत्ता संपादकीय : आणविक गुत्थी

परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह यानी एनएसजी की सदस्यता के लिए स्विटजरलैंड के समर्थन की स्वीकृति से निस्संदेह भारत का पलड़ा कुछ भारी हुआ है।

kidney, business, apolo hospital, police, raid, hotels, jansatta, editorial

संपादकीय : किडनी का कारोबार

दिल्ली में किडनी कारोबार से जुड़े गिरोह के भंडाफोड़ से एक बार फिर यही साबित हुआ है कि इस गैरकानूनी धंधे में किस तरह बड़े डॉक्टरों से लेकर पांच सितारा कहे जाने वाले अस्पताल तक शामिल हैं।

jansatta editorial, rahul gandhi, congress, sonia gandhi

संपादकीय : कांग्रेस के कर्णधार

लगातार हार का सामना कर रही कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर फिर से सुगबुगाहट शुरू हो गई है। अध्यक्ष पद के लिए ले-देकर फिर वही एक नाम दोहराया जा रहा है- राहुल गांधी का।

high alert in punjab, terrorists attack, infringe, delhi, punjab news

जनसत्ता संपादकीय : आतंक के निशाने

यह कहना गलत नहीं होगा कि बीते सप्ताह बीएसएफ के काफिले पर हुआ हमला जहां घाटी में दहशतगर्दों की नई सक्रियता को बताता है वहीं आंतरिक सुरक्षा की बाबत अपेक्षित चौकसी में कमी की तरफ भी इशारा करता है।

pulgaon, pulgaon fire, pulgaon army depot, pulgaon army depot fire news, central ammunition depot pulgaon

संपादकीय : आयुध में आग

असली वजह जांच के बाद पता चलेगी, पर सोचने की जरूरत है कि ऐसे हादसों पर रोक लगाने का क्या उपाय हो। इससे पहले भी कई आयुध डिपो में आग लग चुकी है, जिसके चलते सैकड़ों करोड़ का सैन्य साजो-सामान खाक हो चुका है।

jansatta, chaupal, sky, rain, weather, monsoon, chaupal

मुखरता और मौन का संयम

नंदकिशोर आचार्य का कविता संसार एक चिंतक कवि के अंत:-बाह्य उद्वेलनों का उदाहरण है।

मिठास के मायने

कार्तिक महीने की सिहराती हुई उस सुबह उठ कर बालकनी में जाकर अखबार उठा कर सामने देखा, नजर पड़ी धूसर धुएं में खड़ी किसी आकृति पर। गौर से देखा तो आठ-नौ साल..

क्यों खुदकुशी कर रहे हैं किसान

विनय सुल्तान सारी पार्टियां गजेंद्र सिंह की खुदकुशी पर गमगीन दिखने की होड़ में शामिल हैं। अगर उनके आंसू सच्चे हैं तो वे बाकी किसानों की सुध क्यों नहीं ले रही हैं? महाराष्ट्र में सिर्फ चार महीनों में सैकड़ों किसानों ने अपनी जान ले ली। गजेंद्र सिंह राजस्थान का था। मगर राज्य के किसानों पर […]

युवाओं के भरोसे

इन दिनों अलग-अलग जगह जाकर कई युवाओं से मिलने का अवसर मिला। सभी ने देश-दुनिया को बदल देने के अपने-अपने तरीके बताए। किसी ने लोकतंत्र को अरस्तु की तरह ‘गधातंत्र’ कहा तो कोई नेताओं को कोसता नजर आया और कुछ ने तो मौजूदा स्थिति को ही सर्वश्रेष्ठ करार दिया। लोगों में मूलत: मुझे जो द्वंद्व […]

विकास ही विकास

आस्तिक कहते हैं कि भगवान के अनेक रूप हैं, जो जिस रूप में देखना चाहे उसे उसी रूप में दर्शन हो जाते हैं। जिस तरह कमल जोशी को समझ में नहीं आया कि विकास किस चिड़िया का नाम है ‘समझ के बाहर’ (चौपाल, 26 मार्च) उसी तरह सत्तर साल का हो जाने पर अपन को […]

ईमानदारी पर गाज

वरिष्ठ आइएएस अधिकारी अशोक खेमका के तबादले को लेकर स्वाभाविक ही हरियाणा सरकार पर अगुंलियां उठ रही हैं। खेमका अपनी ईमानदारी और नियम-कायदों का पालन सुनिश्चित करने के लिए जाने जाते हैं। इस क्रम में ताकतवर राजनीतिकों और रसूखदार लोगों की भी वे परवाह नहीं करते। वे खास चर्चा में तब आए जब उन्होंने रॉबर्ट […]

सोना है या पीतल है

राजकिशोर अरविंद केजरीवाल की जगह मैं होता तो चुल्लू भर पानी में डूब मरता। ये हजरत इस तरह आचरण कर रहे हैं जैसे भाषा के साथ बलात्कार उन्होंने नहीं, किसी और शख्स ने किया हो। आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद द्वारा चार व्यक्तियों की परिषद की सदस्यता छीन लेने और उसके बाद बेवफाई के […]