Development

Good Governance Index: शीर्ष-5 में नहीं है PM नरेंद्र मोदी का गुजरात, यूपी-झारखंड का हाल और भी खराब; जानें किन्होंने किया टॉप

Good Governance Index: इंडेक्स में विकास के मॉडल को लेकर खासा चर्चा में रहने वाला गुजरात टॉप फाइव में नहीं है। गुजरात को छठां स्थान प्राप्त हुआ है।

चौपाल : विकास का परदा

शिक्षा और स्वास्थ्य किसी भी समाज के विकास को मापने का पैमाना होता है। इस लिहाज से देखें तो हमारा राष्ट्रीय औसत परिदृश्य संतोषजनक नहीं है।

जश्न और जज्बा

सरकार को खासकर विकास के मामले में गंभीरता पूर्वक ध्यान देने की जरूरत है। विकास का मतलब सिर्फ कुछ कंपनियों को औद्योगिक इकाइयां लगाने के लिए प्रोत्साहित करना या फिर उनके लिए अनुकूल माहौल तैयार कर देना नहीं है।

शहरी नियोजन की बुनियाद

पश्चिमी आधुनिकता के अंधानुकरण के साथ पिछले एक-डेढ़ दशक से हमारे देश में विकास का यह सपना देखा जा रहा है कि हम जल्द ही ऐसा कुछ करें जिससे न्यूयॉर्क, शंघाई और तोक्यो जैसे महानगरों को मात दें और दुनिया को दिखाएं कि आधुनिकता में हमारा कोई सानी नहीं है।

तवलीन सिंह का कॉलम – वक़्त की नब्ज़ : विकास पर नजर की जरूरत

भाजपा मुख्यमंत्री अपना ज्यादा समय मुंबई में बॉलीवुड और क्रिकेट के सितारों की संगत में व्यतीत करते दिखते हैं। उनके मंत्री अपनी आलीशान कोठियों में छिपे रहते हैं, इस राज्य की गंभीर समस्याओं से बेखबर।

चौपालः विकास की बजाए

जो लोग डिजिटल इंडिया की बात करते है उन्हें शायद देश और देश के लोगों की समस्याओं के बारे में पूरी जानकारी नहीं है।

US Election: डोनाल्‍ड ट्रंप बोले- चीन से 100 साल पीछे है अमेरिका

ट्रम्प ने यूटा की साल्ट लेक सिटी में चुनाव प्रचार के दौरान अगर आप दुबई, चीन जाएं तो वहां रोड और रेल नेटवर्क देखकर दंग रह जाएंगे। वहां बुलेट ट्रेन 100 मील प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती हैं।

उत्तराखंड के विकास में योगदान दें वैज्ञानिक : राज्यपाल

राज्यपाल ने बदलते पर्यावरण और बढ़ते वैश्विक तापमान से हिमालयी क्षेत्र की खेती पर पड़ने वाले प्रभाव के कारणों को खोजने पर जोर दिया।

लोकतांत्रिक व्यवस्था में विकास चुनौतीभरा लेकिन टिकाऊ : प्रसाद

रवि शंकर प्रसाद ने पिछले कुछ दशकों में चीन की तेज वृद्धि दर का उल्लेख करते हुए कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में यह वृद्धि धीमी लेकिन टिकाऊ होती।

स्मार्ट सिटी’ के लिए एनडीएमसी के चयन पर सिविल सोसाइटी ने उठाये सवाल

सिविल सोसायटी ने क्षेत्र और आबादी के लिहाज से राष्ट्रीय राजधानी में मात्र तीन फीसदी की हिस्सेदारी रखने के बावजूद ‘नयी दिल्ली नगरपालिका परिषद’ (एनडीएमसी) का ‘स्मार्ट सिटी’ परियोजना के तहत चयन किए जाने पर सवाल उठाया है।

टिकाऊ विकास के लिए

उत्तर आधुनिक दौर में हमने विकास की जिस आर्थिक नीति को स्वीकार किया हुआ है, वह औद्योगिक सभ्यता के मूल्यों का परिणाम है। पूर्णत: मशीन पर निर्भरता की वजह से श्रम का महत्त्व दिनोंदिन कम होता और पूंजी का महत्त्व बढ़ता जा रहा है..

विकास का चेहरा

हाल ही में दिल्ली के शकूरबस्ती में झुग्गियों को हटाने को लेकर हुए विवाद ने शहरों के इस विकराल समस्या की तरफ लोगों का ध्यान एक बार फिर खींचा है। एक तरफ इस मुद्दे को भुना कर राजनीतिक पार्टियां अपनी रोटियां सेंकने में लगी रहीं..

निर्माण नहीं होंगे तो विकास नहीं, लेकिन विकास का ये मतलब नहीं है कि पर्यावरण से समझौता हो

निर्माण नहीं होंगे तो विकास नहीं होगा, लेकिन विकास का यह मतलब नहीं है कि पर्यावरण के साथ समझौता किया जाए। प्रदूषण एनसीआर में बड़ी समस्या है।

विकास ही विकास

आस्तिक कहते हैं कि भगवान के अनेक रूप हैं, जो जिस रूप में देखना चाहे उसे उसी रूप में दर्शन हो जाते हैं। जिस तरह कमल जोशी को समझ में नहीं आया कि विकास किस चिड़िया का नाम है ‘समझ के बाहर’ (चौपाल, 26 मार्च) उसी तरह सत्तर साल का हो जाने पर अपन को […]

ये पढ़ा क्या?
X