Democracy

सिर्फ यूपी नहीं, इन पांच राज्यों में भी सरकारी खजाने से भरा जाता है मुख्यमंत्री और मंत्रियों का इनकम टैक्स

मीडिया में मामला उजागर होने के बाद यूपी की योगी आदित्यनाथ ने इस कानून को बदलने के निर्देश दिए और ऐलान किया कि राज्य के मुख्यमंत्री और सभी मंत्री खुद अपने खर्चे से अपना आयकर भरेंगे।

तीरंदाज : जम्हूरियत, इंसानियत और कश्मीरियत

कश्मीर समस्या’ के समाधान में मूलमंत्र के रूप में जम्हूरियत, इंसानियत और कश्मीरियत का फार्मूला कोई बुरा नहीं है।

दो वर्ष बाद तय करूंगा कि पद पर बने रहना है या नहीं : तरुण गोगोई

गोगोई ने कहा, ‘‘भाजपा कह रही है कि लोग बदलाव चाहते हैं और वे विकल्प हैं। लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी असम आये और कहा कि वह बदलाव और अच्छे दिन लायेंगे। यह बहुत बड़ा मजाक बन गया है। क्या अच्छे दिन आ गये?

सकारात्मक बदलाव

भारतीय लोकतांत्रिक दृष्टि से उलट पाकिस्तान में फौजी तानाशाही हुकूमत ने उसे एक संकीर्ण समाज बनाने के जतन किए।

म्यांमा के सेना प्रमुख ने लोकतंत्र की वकालत की

म्यांमा के सेना प्रमुख ने कहा कि देश के लोकतंत्रीकरण में दो मुख्य बाधाएं हैं। पहली बाधा कानून और नियमों का पालन कराने में नाकामी तथा दूसरी बाधा सशस्त्र उग्रवादियों की मौजूदगी है।

लोकतंत्र की कसौटी

देश में विकास शब्द का उपयोग बहुत होता है। कैसा विकास, किसका विकास, विकास की कीमत क्या, कीमत कौन चुका रहा है?

चौपालः असहमति की जगह

आजकल देश के भीतर एक नई रिवायत चल पड़ी है कि कुछ तथाकथित और कृत्रिम स्वयंभू लोग किसी को भी ‘राष्ट्रवादी’ और ‘राष्ट्रद्रोह’ की प्रामाणिकता बांट रहे हैं।

लोकतंत्र में बोलने की आजादी को हल्के में नहीं लिया जा सकता : हासन

कमल हासल ने कहा, कई बार लोकतंत्र को केवल बोलने की आजादी के मंच के तौर पर पेश किया जाता है। यह चलता रहता है।

भाषा संस्कृति : लोकतंत्र में भाषिक मर्यादा

एक सभ्य लोकतंत्र, राजनीति के पक्ष-प्रतिपक्ष, समर्थन-विरोध या प्रकृति-संस्कृति का ही लोकतंत्र नहीं होता। वह भाषा का लोकतंत्र भी होता है।

लोकतंत्र के बरक्स

सच के साथ होना, असभ्य होना नहीं है। संस्कृति की मुखालफत में झंडा बुलंद करना नहीं है। लगता है, तर्क की कसौटी आज हमारे जनतंत्र में बहुत सारे लोगों के लिए कोई मायने नहीं रखती है..

मुद्दा : सत्तातंत्र की चुनौतियां

हड़ताल को न होने देना सरकारी कर्मचारियों के साथ-साथ सरकार की भी जिम्मेदारी है। मसलन, हड़ताली कर्मचारियों की मांगों को राजनीतिक चश्मे से देखने की आदत से बचा जाना चाहिए…

भागीदारी के बजाय

जनतंत्र सरकार की एक पद्धति, शासन का एक प्रकार और एक सामाजिक व्यवस्था के इतर भी बहुत कुछ है। लोकतांत्रिक व्यवस्था की अधिकतम सफलता के लिए अधिक से अधिक जनसहभागिता सुनिश्चित किया जाना अनिवार्य पहलू है..

मूर्खों की मदद करता और आतंकी गतिविधियों को बढ़ाता है Internet: नोबेल पुरस्कार विजेता

नोबेल पुरस्कार विजेताओं ने कहा है कि आज के समय में सोशल मीडिया के कारण भीड़ के शासन को तुरंत अभिव्यक्ति मिलती है। उन्होंने यह भी कहा कि इंटरनेट खतरनाक और लोकतांत्रिक दोनों मंच मुहैया कराता है।

ऐसे रोना भी क्या रोना

आधी रात हुई कि अचानक मेरी नींद टूट गई। नींद टूट गई, मगर आंखें देर में खुलीं। ऐसा बहुत-से लोगों के साथ होता है।

हमारे सरोकार

एक लोकतांत्रिक समाज में जनता की आशा-आकांक्षा का केंद्र संसद और विधानसभा ही होती है। सदन सुचारु रूप से चले और भाषा और आचरण की गरिमा के साथ सार्थक विचार-विमर्श हो..

आखिर कब तक

लोकतंत्र ऐसी शासन प्रणाली है जिसमें जनता की अपेक्षाओं के अनुरूप राज्य को काम करना चाहिए।

आखिर कब तक

लोकतंत्र में जनता की अपेक्षाओं के अनुरूप राज्य को काम करना चाहिए। इसे अमली जामा पहनाने के लिए संसद, विधानसभाएं और स्थानीय स्वशासन की संस्थाएं जनता द्वारा चुने हुए प्रतिनिधियों के माध्यम से राज्य का संचालन करती हैं।

जनतंत्र का तकाजा

करीब सात साल पहले राजशाही समाप्त होने के बाद नेपाल में जनतंत्र स्थापित करने वाला नया संविधान बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई थी, मगर अनेक अवरोधों के चलते…

ये पढ़ा क्या?
X