delhi nizamuddin delhi

‘कोरोना खतरे पर मौलाना साद को दी थी सूचना, मगर उन्होंने ध्यान नहीं दिया’ दिल्ली पुलिस ने हाईकोर्ट को बताया

Covid-19: स्टेटस रिपोर्ट में दावा किया गया कि 21 मार्च को दिल्ली पुलिस ने मर्कज के अधिकारियों से संपर्क किया था। पुलिस ने कहा कि एक मुफ्ती शहजाद को कोविड-19 के बारे में बताया गया था और विदेशियों को उनके संबंधित देशों और भारतीयों को उनके मूल स्थानों पर वापस भेजने के लिए कहा गया था।

केंद्र सरकार का दावा- दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए तब्लीगी जमात के आयोजन से 9000 लोगों पर कोरोनावायरस का खतरा

अधिकारियों के मुताबिक, अब तक तब्लीगी जमात से जुड़े और उनके संपर्क में आए कुल 7,688 लोगों की पहचान कर उन्हें क्वारैंटाइन में रखा गया, इसके अलावा 1306 विदेशियों की भी पहचान हुई।

Coronavirus: मौलाना साद कहते रहे मस्जिदों में जाना बंद मत करो, वहां मर भी गए तो इससे उम्दा मौत कहां मिलेगी? आख़िर क्यों?- पत्रकार ने पूछा सवाल, लोग दे रहे ये जवाब

Coronavirus in India: एक ट्वीट में पत्रकार ने लिखा, ‘मौलाना साद जानते थे कोरोना कैसे फैलता है, पता था डॉक्टर कहते हैं दूर-दूर रहना है, लेकिन मौलाना ने कहा, डॉक्टर की बात मत सुनो। मरकज खाली करने का उनका कोई इरादा नहीं था।’