Deepawali

चौपाल: प्रदूषण के पटाखे

क्या दीपावली का त्योहार बिना पटाखे के नहीं मनाए जा सकते हैं? क्या इसके लिए प्रतिबंधों का इंतजार करना जरूरी है? अगर धर्म में किसी प्रकार की परिस्थितिजन्य विकृतियां प्रवेश कर गई हैं तो उसमें सुधार हमें स्वयं करने होंगे।

चौपाल: उत्सव के रंग

खुशी के पर्व को लोग व्यसनों से अपने मन को तृप्त करके त्योहार का पूर्ण होना मान लेते हैं। इस मौके पर मदिरा पान, जुआ खेल कर अपना धन बर्बाद करने जैसी कुप्रथाए समाज में लंबे समय से चली आ रही है। आज समय बदल रहा है, लोगों की सोच बदल रही है, वहीं चंद लोग अपनी संकीर्ण मानसिकता को त्याग नहीं पा रहे हैं।

दीपावली: आगजनी की घटनाओं से निपटने के लिए अस्पतालों के विशेष इंतजाम

तैयारी: दीपावली पर होने वाली आगजनी की घटनाओं के मद्देनजर अस्पतालों के प्रयास, मरहम पट्टी के लिए अतिरिक्त काउंटर लगाए गए, एम्बुलेंस की सुविधा बढ़ाई गई, सफदरजंग में 30 अतिरिक्त बिस्तर लगाए गए।

दीपोत्सव पर दीयों से जगमग हुई राम की नगरी अयोध्या, 5,84,372 दीये जलाकर बनाया कीर्तिमान

कई-कई पीढ़ियां खप गईं। सबके मन में एक ही कामना थी कि हम अपने आराध्य भगवान श्री राम के भव्य मंदिर के निर्माण कार्य को अपनी आंखों से एक बार देख लेते तो हमारा जन्म और जीवन धन्य हो जाता। वह कार्य प्रधानमंत्री मोदी जी के कारण सफल हुआ है। – योगी आदित्य नाथ

दीपोत्सव: जगमग-जगमग दीप जले

वेद कहते हैं कि माता लक्ष्मी सुखी दांपत्य, स्वादिष्ट अन्न, लहलहाती फसल तथा गोमाता से जुड़ी है। इसलिए यह मानकर लक्ष्मी की आराधना होनी चाहिए कि लक्ष्मी का संबंध धन से नहीं वरन चरित्र और धन की पवित्रता से है।

दीपोत्सव: पादुका प्रशासन से मुक्ति

यह अच्छा है कि श्रीराम की अयोध्या उनके वनवास के 14 सालों में बदली नहीं वरना उसे देखकर श्रीराम की आंखें नम हो जाती। वे अपनी अयोध्या को ही नहीं पहचान पाते! लेकिन अयोध्या में चहुं ओर प्रकाश ही प्रकाश है। अंधेरे के लिए कहीं कोई गुंजाइश नहीं है। क्या राम की दीपावली की किरणें आज की किरणों से मेल खा रही हैं?

दीपोत्सव: संस्कृति का उजास

पौराणिक काल में पूरे कार्तिक महीने में दीपदान की शास्त्र विधि शुरू हुई। आकाशदीप के रूप में बांस के सहारे ऊंचाई पर दीप जलाने की परंपरा चल पड़ी। इस धार्मिक भावना का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन काल दीपावली है, जब चारों ओर अनगिनत दीप जगमगाते हैं।

दीपावली की शाम धन आगमन के लिए इन उपायों को करने की है मान्यता, जानिये

Diwali Dhan Prapti Ke Upay: माना जाता है कि दीपावली के दिन या उससे कुछ दिन पहले कुछ खास उपाय किए जाएं तो बहुत जल्द धन प्राप्ति हो सकती है।

दिवाली पर निकला कारोबारियों का दिवाला, इस बार का पटाखा बाजार हुआ फुस्स

कन्फेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल के मुताबिक दिल्ली में पटाखों का कारोबार 500 करोड़ रुपए तक होता है। उन्होंने कहा- ग्रीन पटाखे की है तो कारोबारियों के पास भारी मात्रा में स्टॉक है। ऐसे में इन्हें रद्दी की टोकरी में डालने के अलावा कोई विकल्प नहीं रह जाता।

तीज-त्योहार: बंगाल, ओड़ीशा और असम में काली पूजा का महत्व

बंगाल में कार्तिक अमावस्या की आधी रात को मां काली की पूजा की जाती है। मान्यता है कि मां काली की विधिवत आराधना हमारे शरीर की शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक, आध्यात्मिक और ऊर्जा के स्तरों को संतुलित कर देती हैं। यही पांच ऊर्जाएं अगर संतुलित न हों तो मनुष्य के जीवन में उथल-पुथल मचा देती हैं। लेकिन क्या सिर्फ पूजा से ही ये ऊर्जाएं नियंत्रित हो सकती हैं? उत्तर है- नहीं। इसके लिए साधना की विशेष पद्धतियां बताई गई हैं, जिसका सार्वजनिक उल्लेख वर्जित माना गया है।

अभूतपूर्व: पंचोत्सव सिमट रहे हैं चार दिन में

श्राद्ध के अगले दिन आरंभ होने वाला नवरात्र एक महीना आगे खिसक गया। चौमासा पंचमासा में बदल गया तो दिवाली के पंच पर्व चार दिवसीय हो गए हैं।

जीवन जगत: जीवन का बस एक ही मकसद हो…आनंद

कई बार ऐसा जीवन में महसूस किया जाता है कि बहुत सी चीजें हम फिजूल ही करते आए हैं और अपना जीवन जटिल कर लेते हैं। जैसे ही उस चीज को या उस कार्य को हम छोड़ते हैं, तो जीवन आसान हो जाता है।

पंचपर्व: दीपोत्सव…पंचोत्सव

पांच दिन तक चलने वाला दीपोत्सव ‘पंचपर्व’ कहलाता है। इन पांच दिनों में भिन्न-भिन्न देवताओं का पूजन होता है। दीपावली से एक दिन पहले चतुर्दशी तिथि को भगवान विष्णु ने माता अदिति के आभूषण चुराकर ले जाने वाले निशाचर नरकासुर का वध किया था।

Ayodhya Diwali Celebration: दीपोत्सव पर आज साढ़े पांच लाख दीपों से जगमगाएगा अयोध्या, जानिए रामनगरी में और क्या है खास

Ayodhya Diwali Celebration 2019: दिपावली पर पूरे अयोध्या दीप ही दीप दिखेंगे। शनिवार को राम की पैड़ी पर राम कथा होगी और सरयू पुल से आतिशबाजी की जाएगी। रात में भारत, नेपाल, श्रीलंका, इंडोनेशिया एवं फिलीपींस की रामलीला का मंचन किया जाएगा।

ममता ने दीपावली पर लोगों को बधाई दी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दीपावली के अवसर पर लोगों को हार्दिक बधाई दी। उन्होंने फेसबुक पर लिखा, ‘‘मैं दीपावली के मौके पर पश्चिम बंगाल..

मिठाइयों में मिलावट से बेकरी उद्योग की ‘दिवाली’

त्योहारी मौसम में बढ़ी मांग पूरी करने के लिए मिठाइयों में मिलावट के कारण उत्पन्न स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं की वजह से इस दीपावली पर बेकरी उद्योग के लिए अभूतपूर्व..

ये पढ़ा क्या?
X