COVID-19

कोरोना टीकाकरणः साइड इफेक्ट्स के सिर्फ 0.18% केस, दोनों वैक्सींस हैं सेफ- केंद्र; 6 देशों को टीका आपूर्ति का ऐलान

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि पहले दिन भारत में 2,07,229 लोगों को टीके दिए गए जबकि अमेरिका में पहले दिन 79,458 लोगों का टीकाकरण हुआ। ब्रिटेन में पहले दिन 19,700 और फ्रांस में केवल 73 लोगों को टीके दिए गए।

कोरोनाः अलर्जी हो तो न लें टीका- SII, Bharat Biotech की भी अपील- बुखार पीड़ित, गर्भवती न लगवाएं वैक्सीन

दोनों कंपनियों ने अपनी वेबसाइट पर ‘फैक्ट शीट’ जारी कर टीका लेने वालों को कोविशील्ड की जोखिम और फायदों से अवगत कराने का प्रयास किया है।

कोरोना के डर से तीन महीने एयरपोर्ट पर ही रहा, गिरफ्तार किया गया, जज भी हैरान

आदित्य की गिरफ्तारी उस वक्त हुई जब यूनाइटेड एयरलाइंस के कर्मचारियों ने उससे पहचान पत्र दिखाने के लिए कहा।

यूपी: कोरोना टीका लगवाने के बाद हॉस्पिटल कर्मचारी की मौत, 24 घंटे पहले ली थी वैक्सीन की खुराक

रविवार शाम मुरादाबाद के सरकारी अस्पताल के एक 46 वर्षीय कर्मचारी की मृत्यु हो गई। गौरतलब है कि कर्मचारी ने 24 घंटे पहले कोरोनावायरस वैक्सीन की खुराक ली थी।

टीका आ गया भैया, तुम इटली से कब आओगे- डिबेट में पैनलिस्ट ने राहुल गांधी पर मारा ताना

पैनलिस्ट संगीत रागी ने कहा कि मुझे उम्मीद नहीं थी कि अखिलेश यादव ऐसा बयान देंगे क्या अखिलेश यादव को इस्लामिक वैक्सीन चाहिए?

आज सिर्फ 6 राज्यों में हुआ टीकाकरण, 17 हजार लोगों को ही लगी वैक्सीन, एक दिन पहले 2 लाख से ज्यादा ने लिया था लाभ

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अब तक कुल 2,24,301 लाभार्थियों को कोविड-19 का टीका लगाया गया है। इनमें से सिर्फ 447 लोगों पर ही इसके प्रतिकूल प्रभाव पड़ने के मामले सामने आए हैं।

चीन में आइसक्रीम पर पाया गया Coronavirus! हड़कंप के बाद 1000 से ज्यादा लोगों को क्वारैंटाइन में भेजा गया, कंपनी सील

चीन में यह पहली बार नहीं है, जब किसी खाने की चीज में कोरोना मिला हो। नवंबर 2020 में में चीनी अधिकारियों ने दावा किया था कि उन्हें कई कोल्ड चेन पैकेजों से कोरोनावायरस के ट्रेस मिले हैं।

PMO ने शांत कराया SII और Bharat Biotech का “झगड़ा”, पर टीके को कैसे तुरंत मिली मंज़ूरी, यह सस्पेंस अब भी कायम

इससे पहले, एक्सपर्ट कमेटी की मीटिंग के मिनट्स से पता चला था कि भारत बायोटेक को पहले एडिश्नल रिसर्च डेटा जमा करने के लिए कहा गया था। ऐसा इसलिए, क्योंकि कंपनी ने अपना फेज-3 (वैक्सीन का) का ट्रायल पूरा नहीं किया था।

चिंता: नॉर्वे में टीके लगने के बाद 23 बुजुर्गों की मौत

नॉर्वे में नए साल के चार दिन बाद फाइजर का टीका लगाने का काम शुरू किया गया था। वहां अब तक 33 हजार लोगों को टीका लगाया जा चुका है। इस बात की पहले ही घोषणा की जा चुकी थी कि टीके के साइड इफेक्ट होंगे।

टीकाकरण: भारत बायोटेक ने कहा, प्रतिकूल प्रभाव हुआ तो देंगे मुआवजा

(एम्स) में शनिवार को कोवैक्सीन का टीका लगवाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के लिए एक सहमति पत्र (कंसेंट फॉर्म) बनाया गया था, जिस पर उन्हें हस्ताक्षर करने थे।

लक्ष्य से एक लाख कम लोगों ने लगवाए टीके, पहले दिन 1,91,181 लोग पहुंचे

लगभग सभी राज्यों में टीके के लिए पंजीकृत लोगों से कम लोग टीका लगवाने पहुंचे। मंत्रालय के मुताबिक सबसे अधिक टीका केंद्र आंध्र प्रदेश में बनाए गए।

वैक्सीन पर मंत्रियों में बहस, एंकर से कहा- बोलने क्यों नहीं दे रहीं, क्यों बुलाया हमें ?

आजतक टीवी डिबेट ‘दंगल’ में एमपी के मंत्री विश्वास सांरग ने झारखंड के मंत्री बन्ना गुप्ता को निशाने पर लेते हुए कहा कि उनकी वजह से झारखंड की जनता में अविश्वास पैदा हुआ है।

कोरोनाः आ गई वैक्सीनें! पर भारत कब होगा इम्यून? एक्सपर्ट्स ने बताया

इस कार्यक्रम की शुरुआत शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए की है। इसके बाद सभी के मन में यह सवाल है कि भारत कण पूरी तरह से इम्यून हो जाएगा। कब देश में पहले जैसे हालात होंगे। इन सभी सवालों का जवाब कुछ एक्सपर्ट्स ने एक टीवी कार्यक्रम के दौरान दिया है।

पहले दिन 1,65,714 लोगों को लगा कोविड वैक्सीन का टीका, 3351 सत्र में किया गया वैक्सीनेशन का कार्यक्रम

मंत्रालय ने बताया कि अब तक टीकाकरण के बाद अस्पताल में भर्ती होने का कोई मामला सामने नहीं आया है। पहले दिन 1,91,181 लोगों को कोविड वैक्सीन का टीका लगाया गया।

कोरोना के अंत की शुरुआत: डॉ. हर्षवर्धन; देश में आज से दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान

इस ऐतिहासिक अभियान की औपचारिक शुुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे। टीकाकरण के पहले दिन देश भर में मौजूद 3,006 केंद्रों पर स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जाएगा।

संपादकीय: चुनौती भरा अभियान

टीकों को मंजूरी देने के मुद्दे पर भारत में जैसी राजनीति देखने को मिली और जिस तरह की आशंकाएं पैदा कर लोगों को डराया जा रहा है, उसे कहीं से उचित नहीं कहा जा सकता।

नॉर्वे में कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद अब तक 13 लोगों की मौत, फाइजर कंपनी पर उठे सवाल

नॉर्वे का कहना है कि कोविड -19 वैक्सीन बुजुर्गों और गंभीर रूप से बीमार लोगों के लिए जोखिम भरी हो सकती है।

ये पढ़ा क्या?
X