covid-19 vaccine

45 साल से ज्यादा उम्र? जानें कैसे मिलेगा कोरोना का टीका, CoWin ऐप पर लेना होगा अपॉइंटमेंट

केंद्र सरकार के मुताबिक, वैक्सिनेशन के दूसरे फेज में 60 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों और 45 साल से ज्यादा उम्र के उन लोगों को टीका लगाया जाएगा, जो गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं।

‘ज्यादा खतरनाक हो सकती है भारत की COVID-19 स्ट्रेन, हर्ड इम्युनिटी की बात मिथक’, बोले AIIMS प्रमुख

डॉक्टर गुलेरिया ने कहा- “महाराष्ट्र में मिली स्ट्रेन काफी संक्रामक और खतरनाक हो सकती हैं, जिससे वे लोग भी संक्रमित हो सकते हैं, जिनमें एंटी-बॉडी डेवलप हो चुकी हैं।”

COVID-19 वैक्सीन का ऐड शेयर कर अदार पूनावाला से बोले आनंद महिंद्रा, यही है बेस्ट वैलेंटाइन गिफ्ट

उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने जो वीडियो शेयर किया है, उसमें प्रेमी को वैलेंटाइन डे पर प्रेमिका को कोरोना वैक्सीन देते देखा जा सकता है।

कोरोनाः ‘टीके की जमाखोरी कर रहे अमीर मुल्क’, WHO चीफ के बाद दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति ने कही भेदभाव की बात

दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति सायरिल रामफोसा ने कहा- “अमीर देश कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के टीके की जमाखोरी कर रहे हैं।”

दूसरे चरण में प्रधानमंत्री मोदी और CMs भी लगवा सकते हैं कोरोना वैक्सीन, जानें टीका लगवाने से कितना फायदा

दुनियाभर के कई देशों में राष्ट्राध्यक्षों ने पहले कोरोना वैक्सीन ली, जबकि भारत में अब तक किसी नेता को टीका नहीं लगा है।

कोरोनाः पहले ही दिन टारगेट से पीछे रहा वैक्सिनेशन, 43% रह गए महरूम

स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक, कोरोना वैक्सीन के लाभार्थियों के डेटा को अपलोड करने के लिए बनाए गए डिजिटल प्लेटफॉर्म और लोगों के वैक्सीन पर कम भरोसे के चलते पहले दिन टीकाकरण की रफ्तार धीमी रही।

वैक्सीन पर मंत्रियों में बहस, एंकर से कहा- बोलने क्यों नहीं दे रहीं, क्यों बुलाया हमें ?

आजतक टीवी डिबेट ‘दंगल’ में एमपी के मंत्री विश्वास सांरग ने झारखंड के मंत्री बन्ना गुप्ता को निशाने पर लेते हुए कहा कि उनकी वजह से झारखंड की जनता में अविश्वास पैदा हुआ है।

विश्व के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआतः कोरोना वैक्सीन को हेल्थ मिनिस्टर ने बताया- ‘संजीवनी’; टि्वटर पर ‘बधाई भारत’ ट्रेंड

स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि कोरोना वैक्सीन इस बीमारी के खिलाफ संजीवनी का काम करेगा।

कोरोना टीकाकरणः क्या है Co-WIN, जो शुरुआत में सिर्फ केंद्र, राज्य सरकार के कर्मचारियों तक रहेगा सीमित? जानिए

Co-WIN प्लेटफॉर्म को स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से तैयार किया गया है और इससे वैक्सीन के स्टॉक से लेकर, उन्हें रखे गए तापमान और इन्हें पाने वाले लाभार्थियों को अपने वैक्सीन पाने की जानकारी मिलेगी।

जिन्हें कोरोना वैक्सीन पर भरोसा नहीं, पाकिस्तान चले जाएं, भाजपा विधायक ने मुस्लिमों पर दिया विवादित बयान

दुनियाभर में मुस्लिमों ने कोरोना टीके में प्रतिबंधित पदार्थ मिले होने को लेकर संशय जाहिर किया है। वहीं सपा नेता अखिलेश यादव भी कोरोना वैक्सीन को भाजपा का टीका कह चुके हैं।

SII ने जारी की कोरोना टीके की कीमत, बताया कितने की मिलेगी एक खुराक

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने बताया कि भारत सरकार ने कोविड-19 टीके कोविड शील्ड की खरीद के लिए कंपनी से संपर्क किया है।

कोरोना टीका 16 से: काम पर लगे हैं केंद्र के 20 मंत्रालय और राज्यों के 24 विभाग, जानिए किसका क्या है रोल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को अपने वैक्सीन डिस्ट्रिब्यूशन कार्यक्रम से पहले सोमवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से इस पर चर्चा करेंगे।

MP: वैक्सीन ट्रायल में हिस्सा लेने वाले की मौत, बोले स्वास्थ्य मंत्री- आधे घंटे बाद दिख जाते हैं साइड इफेक्ट्स, पर इस केस में कुछ ना नजर आया

भोपाल में टीला जमालपुरा निवासी दीपक मरावी को 12 दिसंबर को वैक्सीन का पहला डोज लगाया गया था। 21 दिन बाद उनकी मौत हो गई।

15 देशों ने दिया 6 vaccine को Approval, जानिए कौन सी है सबसे ज्यादा प्रभावी

एक्पर्ट ये भी मानते है अगर आपके पास विदेश में वैक्सीन लेने का विकल्प है तो आपके लिए फाइज़र की वैक्सीन सबसे बेहतर रहेगी, क्योंकि इसका तीन हफ्तों से ज्यादा समय से इस्तेमाल हो रहा है औऱ हमारे पास रियल वर्ल्ड डाटा मौजूद है। अब सवाल है कि आपके लिए वैक्सीन लेना कितना जरूरी है?

सपा नेता ने किया था कोरोना वैक्सीन से नपुंसकता का दावा, DCGI ने कहा- ये बकवास बातें, बोले- टीका 110% सुरक्षित

DCGI ने कहा कि अगर वैक्सीन को लेकर जरा भी चिंता होती तो वे इसके इस्तेमाल की इजाजत नहीं देते।

कोरोना वैक्सीन को फाइनल मंजूरी: कोवैक्सीन और कोविशील्ड के आपात इस्तेमाल पर DGCI की हरी झंडी

केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 संबंधी विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) की अनुशंसा के आधार पर भारत के औषध महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने यह मंजूरी प्रदान की है।

कोरोना के नए स्ट्रेन से जीतना बहुत मुश्किल, ब्रिटेन के शोध में खुलासा- मुसीबत में पड़ सकते हैं दुनियाभर के देश

नई स्टडी में कहा गया है कि लॉकडाउन के जरिए कोरोना के पुराने रूप को रोकना काफी हद तक आसान हो गया था, वहीं नए रूप के लिए इस तरह की योजनाएं असफल साबित हो रही हैं।

ये पढ़ा क्या?
X