COVAXIN

कोरोनाः आ रही 1 और वैक्सीन? SII सीईओ को उम्मीद- जून 2021 तक लॉन्च की जा सकती है COVOVAX

देश में अभी चल रहे टीकाकरण अभियान के लिए केंद्र ने ‘कोविडशील्ड’ टीके की एक करोड़ 10 लाख खुराक खरीदी हैं। पूनावाला ने एक ट्वीट में कहा, “नोवावैक्स के साथ कोविड-19 टीके के लिए हमारी साझेदारी ने उत्कृष्ट प्रभावी नतीजे दिए हैं। हमने भारत में परीक्षण शुरू करने के लिए आवेदन किया है।

वैक्सीन पर उठ रहे सवाल, AIIMS के निदेशक बोले- पैंडेमिक के बाद आई ‘इन्फोडेमिक’

अमित शाह ने आज शनिवार को गुवाहाटी में आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि कोरोना टीके पर जो लोग राजनीति कर रहे हैं उन्हें मैं कहना चाहता हूं कि राजनीति करने के लिए कई दूसरे मंच हैं। आप उन पर आ जाना दो-दो हाथ कर लेंगे।

कोरोनाः Bharat Biotech की COVAXIN फायदेमंद- Lancet, SII सीईओ ने बताया था ‘पानी जैसा’

लांसेट में यह बताया गया है कि आमतौर पर किसी भी वैक्सीन को लेने से लोगों में गंभीर साइड इफेक्ट्स देखने को मिलते हैं। लेकिन कोवैक्सीन में ऐसी कोई भी साइड इफेक्ट्स नहीं है। कोवैक्सीन पूरी तरह से मेड इन इंडिया है और इसे भारत बायोटेक ने विकसित किया है।

संपादकीय: भरोसे की खातिर

कोवैक्सीन बनाने वाली संस्था भारत बायोटेक ने एक निर्देश जारी करते हुए कहा कि जिन लोगों की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है या कोई बीमारी है, उन्हें यह टीका नहीं लगवाना चाहिए।

कोरोना टीकाकरणः साइड इफेक्ट्स के सिर्फ 0.18% केस, दोनों वैक्सींस हैं सेफ- केंद्र; 6 देशों को टीका आपूर्ति का ऐलान

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि पहले दिन भारत में 2,07,229 लोगों को टीके दिए गए जबकि अमेरिका में पहले दिन 79,458 लोगों का टीकाकरण हुआ। ब्रिटेन में पहले दिन 19,700 और फ्रांस में केवल 73 लोगों को टीके दिए गए।

कोरोनाः अलर्जी हो तो न लें टीका- SII, Bharat Biotech की भी अपील- बुखार पीड़ित, गर्भवती न लगवाएं वैक्सीन

दोनों कंपनियों ने अपनी वेबसाइट पर ‘फैक्ट शीट’ जारी कर टीका लेने वालों को कोविशील्ड की जोखिम और फायदों से अवगत कराने का प्रयास किया है।

टीकाकरण: भारत बायोटेक ने कहा, प्रतिकूल प्रभाव हुआ तो देंगे मुआवजा

(एम्स) में शनिवार को कोवैक्सीन का टीका लगवाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के लिए एक सहमति पत्र (कंसेंट फॉर्म) बनाया गया था, जिस पर उन्हें हस्ताक्षर करने थे।

लक्ष्य से एक लाख कम लोगों ने लगवाए टीके, पहले दिन 1,91,181 लोग पहुंचे

लगभग सभी राज्यों में टीके के लिए पंजीकृत लोगों से कम लोग टीका लगवाने पहुंचे। मंत्रालय के मुताबिक सबसे अधिक टीका केंद्र आंध्र प्रदेश में बनाए गए।

First Phase Vaccination: पहले दिन सांसद महेश शर्मा भी लगवाएंगे टीका

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक कुछ और विशेष लोग शनिवार को कोरोना का टीका लगवा सकते हैं। हालांकि इन लोगों के नाम का खुलासा नहीं किया गया है।

कोरोना के अंत की शुरुआत: डॉ. हर्षवर्धन; देश में आज से दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान

इस ऐतिहासिक अभियान की औपचारिक शुुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे। टीकाकरण के पहले दिन देश भर में मौजूद 3,006 केंद्रों पर स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जाएगा।

संपादकीय: चुनौती भरा अभियान

टीकों को मंजूरी देने के मुद्दे पर भारत में जैसी राजनीति देखने को मिली और जिस तरह की आशंकाएं पैदा कर लोगों को डराया जा रहा है, उसे कहीं से उचित नहीं कहा जा सकता।

कोरोनाः केंद्र बोला- गर्भवती, दूध पिलाने वाली महिलाएं फिलहाल न लगवाएं टीका; पर क्या बच्चों को दी जा सकती है? जानें

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने वर्तमान में सिर्फ 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को ही टीका देने की योजना बनाई है। इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा है कि 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को कोई टीका नहीं लगेगा क्योंकि अभी तक उनपर कोई क्लिनिकल ट्रायल नहीं किया गया है।

पहले चरण में 3 करोड़ लोगों को लगेगा कोरोना का टीका, दूसरे देशों से काफी सस्ती है देसी वैक्सीन, जानें कीमत

वैक्सीनेशन को लेकर देश के सामने चुनौतियां भी हैं, लेकिन टीकाकरण का अनुभव भी हिंदुस्तान को ही सबसे ज्यादा है। अभी कंपनियों ने अपनी वैक्सीन की कीमत जारी की है, लेकिन वक्त के साथ कीमत को लेकर सरकार का फैसला बदल भी सकता है।

कोरोना टीकाः केंद्र के लिए 1.10 करोड़ की डोज 200 रुपए में, पर निजी बाजार में होगा 1000 रुपए दाम- SII सीईओ का ऐलान

उन्होंने बताया कि कई देशों ने भारत सरकार और पीएमओ को सीरम इंस्टीट्यूट से आपूर्ति के लिए लिखा है। हम सभी को खुश रखने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन हमें अपनी जनसंख्या और राष्ट्र का भी ध्यान रखना होगा।

बाखबरः दिल्ली दर्प दलन

एक देसी टीका ‘एक्सपर्ट’ लगभग रो रहा था और हमारे कुछ एंकर टीका विज्ञानी बन कर तरह-तरह के सवाल तरह-तरह के विशेषज्ञों से उठवा रहे थे और खेद की बात कि सरकार का एक भी बंदा देसी के पक्ष में न दहाड़ा! न कोई एंकर दहाड़ा!

दूसरी नजरः महामारी, टीका और विवाद

दुनिया में छह टीके हैं, जिन्हें मंजूरी मिल चुकी है। रूस और चीन के टीकों के बारे में हम ज्यादा नहीं जानते हैं, हालांकि कई देशों में इन्हें बड़े पैमाने पर भेजा और उपयोग किया जा रहा है।

16 जनवरी से देशभर में शुरू होगा वैक्सीनेशन, पीएम मोदी की हाई लेवल मीटिंग के बाद लिया फैसला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोविड-19 की परिस्थितियों और तैयारियों की समीक्षा किए जाने के बाद यह निर्णय लिया गया।

15 देशों ने दिया 6 vaccine को Approval, जानिए कौन सी है सबसे ज्यादा प्रभावी

एक्पर्ट ये भी मानते है अगर आपके पास विदेश में वैक्सीन लेने का विकल्प है तो आपके लिए फाइज़र की वैक्सीन सबसे बेहतर रहेगी, क्योंकि इसका तीन हफ्तों से ज्यादा समय से इस्तेमाल हो रहा है औऱ हमारे पास रियल वर्ल्ड डाटा मौजूद है। अब सवाल है कि आपके लिए वैक्सीन लेना कितना जरूरी है?

ये पढ़ा क्या?
X