corona vaccination

24 घंटे में कोरोना के साढ़े 10 हजार नए केस, 86% मामले 5 सूबों से, अमित शाह ने कहा- टीकाकरण को किया जाए तेज

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, बीते 24 घंटों के दौरान देश में 10, 584 नए मामले मिले हैं और 78 लोगों की मौत हुई है। 86 फीसदी नए मामले पांच राज्यों में ही पाए गए हैं, इनमें महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ शामिल हैं।

कोविड: अमित शाह का स्वास्थ्य मंत्रालय को निर्देश- कोरोना टीका लगाने में तेजी लाइए; एक्सपर्ट्स बोले- CoWIN ऐप को छोड़िए, जो आए उसे दीजिए वैक्सीन

गृह मंत्री अमित शाह ने स्वास्थ्य मंत्रालय से कहा है कि कोरोना टीकाकरण में तेजी लाई जाए जिससे जल्द से जल्द 27 करोड़ लोगों के टीकाकरण का टारगेट पूरा किया जा सके।

‘ज्यादा खतरनाक हो सकती है भारत की COVID-19 स्ट्रेन, हर्ड इम्युनिटी की बात मिथक’, बोले AIIMS प्रमुख

डॉक्टर गुलेरिया ने कहा- “महाराष्ट्र में मिली स्ट्रेन काफी संक्रामक और खतरनाक हो सकती हैं, जिससे वे लोग भी संक्रमित हो सकते हैं, जिनमें एंटी-बॉडी डेवलप हो चुकी हैं।”

भारत में टीका लगवाने वालों की संख्या एक करोड़ पार, अमेरिका के बाद दुनिया में दूसरी सबसे तेज गति से टीकाकरण

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक इस संख्या तक पहुंचने में भारत को 34 दिन लगे, जबकि अमेरिका को 31 दिन और ब्रिटेन को 56 दिन लगे।

टीके से डर क्यों

पिछले महीने जब टीकाकरण शुरू हुआ था, तब भी पहले ही दिन दिल्ली के एक सरकारी अस्पताल के रेजीडेंट डॉक्टरों ने कोवैक्सीन टीका लगवाने से इनकार कर दिया था।

बिहार में कोरोना जांच के आंकड़ों में बड़ा हेरफेर, न नाम सही, न नंबर, काग़जों पर हो रही टेस्टिंग

पिछले महीने में तीन दिनों में बिहार के जमुई जिले के तीन स्वास्थ्य केंद्र पर 588 लोगों की कोरोना जांच की गयी जिसमें से सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई। हालाँकि जब इस लिस्ट की जांच की तो इसमें बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया। जमुई जिले के बरहट स्वास्थ्य केंद्र पर 230 लोगों के नाम की लिस्ट थी जिसमें से सिर्फ 12 नाम ही वैध थे।

फाइजर ने वापस लिया मंजूरी का आवेदन, ऐसे ही लगता रहा टीका तो 7 साल में पूरा होगा वैक्सिनेशन

आवेदन वापस लिए जान पर फाइजर के प्रवक्ता ने आगे कहा कि हमारी कंपनी डीसीजेए के साथ बातचीत करती रहेगी और भविष्य में दुबारा से वैक्सीन उपलब्ध करवाने को लेकर आवेदन कर सकती है।

दुनिया में सबसे तेज टीकाकरण करने वाला देश बना भारत, 18 दिन में 40 लाख लोगों का हुआ कोरोना रोधी वैक्सीनेशन

मंत्रालय ने कहा कि कोरोना के खिलाफ भारत की लड़ाई को अन्य मोर्चों पर भी सफलता मिल रही है। मंत्रालय के मुताबिक दो फरवरी तक देश में कुल 41,38,918 लोगों को टीका लगाया गया था।

सरकार ने बताया, पाकिस्तान को नहीं दी कोरोना वैक्सीन, जानें कौन से देश ले रहे भारत से मदद

भारत ने अभी तक पाकिस्तान को कोविड-19 की वैक्सीन नहीं दी है। इस आशय में वहां से कोई डिमांड भी नहीं की गई है। सरकार का कहना है कि भारत ने अपनी वैक्सीन बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार, मालदीव और भूटान को DONATE की है।

कोरोनाः Bharat Biotech की COVAXIN फायदेमंद- Lancet, SII सीईओ ने बताया था ‘पानी जैसा’

लांसेट में यह बताया गया है कि आमतौर पर किसी भी वैक्सीन को लेने से लोगों में गंभीर साइड इफेक्ट्स देखने को मिलते हैं। लेकिन कोवैक्सीन में ऐसी कोई भी साइड इफेक्ट्स नहीं है। कोवैक्सीन पूरी तरह से मेड इन इंडिया है और इसे भारत बायोटेक ने विकसित किया है।

वैक्सीन पर बोले पीएम मोदी- भारत बना आत्मनिर्भर, दो चरण में 30 करोड़ को लगेगा टीका

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज भारत में सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चल रहा है और साथ ही भरत दुनिया के अनेक देशों को सुरक्षा कवच भी दे रहा है। पीएम मोदी ने टीकाकरण अभियान को लेकर कहा कि इसके पहले दो चरणों में 30 करोड़ देशवासियों को टीका लगाया जा रहा है।

संपादकीय: भरोसे की खातिर

कोवैक्सीन बनाने वाली संस्था भारत बायोटेक ने एक निर्देश जारी करते हुए कहा कि जिन लोगों की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है या कोई बीमारी है, उन्हें यह टीका नहीं लगवाना चाहिए।

कोरोना टीकाकरणः साइड इफेक्ट्स के सिर्फ 0.18% केस, दोनों वैक्सींस हैं सेफ- केंद्र; 6 देशों को टीका आपूर्ति का ऐलान

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि पहले दिन भारत में 2,07,229 लोगों को टीके दिए गए जबकि अमेरिका में पहले दिन 79,458 लोगों का टीकाकरण हुआ। ब्रिटेन में पहले दिन 19,700 और फ्रांस में केवल 73 लोगों को टीके दिए गए।

कोरोना टीकाकरण के 3 दिनः 3,81,305 लोगों को मिली वैक्सीन, 580 में साइड इफेक्ट्स- केंद्र

अगनानी ने कहा कि 16 जनवरी को टीकाकरण शुरू होने के बाद प्रतिकूल असर के अब तक 580 मामले आए हैं। दिल्ली में तीन लोगों को अस्पतालों में भर्ती कराया गया जिनमें से दो को छुट्टी मिल चुकी है और एक को मैक्स अस्पताल, पटपडगंज में निगरानी में रखा गया है।

बंगालः फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहले दिन न मिल पाई वैक्सीन, पर ममता के MLAs पा गए टीका; गर्माया विवाद

टीकाकरण अभियान के शुरुआत से पहले ही प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नेताओं से अपनी बारी आने पर ही टीका लगाने की अपील की थी। लेकिन प्रधानमंत्री की इस अपील का असर तृणमूल नेताओं पर नहीं हुआ। पश्चिम बंगाल में सत्तारुढ़ तृणमूल कांग्रेस के दो विधायकों ने नियमों को ताक पर रखते हुए कोरोना की वैक्सीन लगवा ली।

चिंता: नॉर्वे में टीके लगने के बाद 23 बुजुर्गों की मौत

नॉर्वे में नए साल के चार दिन बाद फाइजर का टीका लगाने का काम शुरू किया गया था। वहां अब तक 33 हजार लोगों को टीका लगाया जा चुका है। इस बात की पहले ही घोषणा की जा चुकी थी कि टीके के साइड इफेक्ट होंगे।

टीकाकरण: भारत बायोटेक ने कहा, प्रतिकूल प्रभाव हुआ तो देंगे मुआवजा

(एम्स) में शनिवार को कोवैक्सीन का टीका लगवाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के लिए एक सहमति पत्र (कंसेंट फॉर्म) बनाया गया था, जिस पर उन्हें हस्ताक्षर करने थे।

लक्ष्य से एक लाख कम लोगों ने लगवाए टीके, पहले दिन 1,91,181 लोग पहुंचे

लगभग सभी राज्यों में टीके के लिए पंजीकृत लोगों से कम लोग टीका लगवाने पहुंचे। मंत्रालय के मुताबिक सबसे अधिक टीका केंद्र आंध्र प्रदेश में बनाए गए।

ये पढ़ा क्या?
X