climate change

उत्तराखंड चमोली हादसा: वैज्ञानिकों ने 8 महीने पहले ही किया था आगाह, तेजी से पिघल रहे ग्लेशियर को लेकर दी थी चेतावनी

जर्नल साइंस एडवांस में 2019 में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार हर साल आधी बर्फ पिघल रही है। भारत महित कई देशों के करोड़ों लोगों के लिए जल का संकट हो सकता है। शोधकर्ताओं को पता चला है कि भारत, चीन, नेपाल और भूटान में जलवायु परिवर्तन ग्लेशियरों को खत्म कर रहा है।

कोरोना काल में ऐसा क्या हुआ जिसे पर्यावरण विशेषज्ञ बता रहे हैं बड़ी उपलब्धि? पढ़ें

पर्यावरण और जलवायु विशेषज्ञों के एक समूह ने अपने एक शोधपत्र के माध्यम से खुशखबरी दी है कि 2020 में सार्वभौमिक गर्माहट (ग्लोबल वार्मिंग) को संचालित करने वाली ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन में रिकॉर्ड गिरावट आई है।

राजनीति: जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभाव

एकल उपयोग वाले यानी सिंगल यूज प्लास्टिक के कारण भी जमीन बंजर हो जाती है। यह कचरे के साथ मिल कर मीथेन गैस बनाता है। यही पर्यावरण के लिए सबसे बड़ा खतरा है। मीथेन गैस कार्बन डाइआक्साइड की तुलना में तीस गुना अधिक खतरनाक है। जलवायु परिवर्तन के लिए भी यही गैस खासतौर से जिम्मेदार मानी जाती है।

संपादकीय: परिवर्तित जलवायु

स्थिति यह है कि विकसित देश जलवायु परिवर्तन का ठीकरा विकासशील देशों पर फोड़ते और उन पर कार्बन उत्सर्जन में कटौती का दबाव तो बनाते रहते हैं, पर वे खुद इस दिशा में संतोषजनक कदम नहीं उठाते।

चौपाल: जलवायु के लिए

पिछले चार वर्षों में जलवायु परिवर्तन के मुद्दे को लेकर भारत ने गंभीरता का परिचय दिया है। स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित किए हैं। साथ ही पेरिस जलवायु समझौते के लक्ष्य को हासिल करने के लिए काम कर रहा है।

रोहित शर्मा ने UN के मंच से नेताओं को ललकारने वाली ग्रेटा थनबर्ग की तारीफ की, कहा- आप सबके लिए प्रेरणा

Greta Thunberg, Rohit Sharma, UN Speech: 16 साल की ग्रेटा थनबर्ग ने 23 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन में एक जोरदार भाषण दिया था, जिसकी चर्चा पूरी दुनिया में हो रही है।

23वां बॉन जलवायु सम्मेलन: राइन नदी किनारे बना विशाल तंबू वाला क्लाइमेट विलेज, साइकिल-कार्बन न्यूट्रल बस का इंतजाम

यह र‍िपोर्ट जनसत्‍ता अॉनलाइन के ल‍िए डॉयचेवेले ह‍िंदी (ड‍िज‍िटल) के अशोक कुमार ने तैयार की है।

भारत ने पेरिस जलवायु करार पर किए हस्ताक्षर

एक सौ इकहत्तर देशों के जलवायु समझौते के हस्ताक्षर समारोह में शामिल होने के साथ ही किसी अंतरराष्ट्रीय समझौते पर एक दिन में ज्यादातर देशों का मौजूद रहना एक रिकार्ड है।

पेरिस समझौते पर कल हस्ताक्षर करेगा भारत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में बुधवार को इस समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने को मंजूरी प्रदान की गई।

TERI के चीफ पचौरी पर महिला ने लगाया Sexual harassment का आरोप, कहा- 19 साल की उम्र में किया था यौन उत्पीड़न

टेरी के पूर्व प्रमुख आरके पचौरी एक और यौन उत्पीड़न के मामले में फंसते नजर आ रहे हैं। इस बार उनकी पूर्व सचिव होने का दावा करने वाली एक यूरोपीय महिला ने उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

पर्यावरण : जलवायु और तकनीक

हाइब्रिड वाहनों से अपेक्षाकृत संतुलित लागत में प्रदूषण को बहुत हद तक कम किया जा सकता है।

Republic Day के चीफ गेस्ट होंगे फ्रांसीसी राष्ट्रपति ओलौंद, आतंक व Climate Change पर करेंगे चर्चा

भारत में फ्रांस के राजदूत फ्रांस्वा रिचियर ने शुक्रवार को यहां कहा कि फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलौंद की आगामी यात्रा के दौरान आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन और स्मार्ट सिटीज पर बातचीत होगी।

भारत नए जलवायु मसौदे पर संतुष्ट नहीं : जावड़ेकर

भारत ने कहा कि जलवायु परिवर्तन पर देशों के स्वैच्छिक संकल्प सहित उसकी कई चिंताओं को उस नए मसौदे में शामिल नहीं किया गया है जो ‘निर्णायक कदम का शुरुआती बिंदु’ है..

जलवायु परिवर्तन पर ओबामा ने दिखाई दिलचस्पी, मोदी को किया फोन

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पेरिस में जलवायु परिवर्तन पर चल रही बातचीत में हुई प्रगति पर चर्चा के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फोन किया।

जलवायु संकट से तबाही का खतरा मंडरा रहा : मून

जलवायु परिवर्तन शिखर सम्मेलन के अंतिम चरण की वार्ता में सोमवार को संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने एक कड़ा बयान दिया..

मूल्यहीनता की देन है जलवायु संकट

जलवायु संकट पर पेरिस में हो रहे सम्मेलन में तमाम देशों के राष्ट्राध्यक्ष, सरकारी प्रतिनिधिमंडल, पर्यावरणविद और कार्यकर्ता भाग ले रहे हैं।

पेरिस पंचायत

वैश्विक तापमान में बढ़ोतरी को लेकर दुनिया भर में छाई चिंता के इजहार के साथ पेरिस सम्मेलन सोमवार को शुरू हो गया। इसमें तमाम देशों के राष्ट्राध्यक्षों, अनेक क्षेत्रों..

जलवायु संकट से निपटने के लिए भारत ने मिलाया ब्रिटेन और आॅस्ट्रेलिया से हाथ

विभिन्न देशों के एक समूह विशेष से जुड़ते हुए भारत ने कहा है कि वह राष्ट्रमंडल के तहत आने वाले कमजोर देशों को 25 लाख डॉलर उपलब्ध करवाएगा..

ये पढ़ा क्या?
X