bpcl privatisation

LIC का आईपीओ आने में हो सकती है देरी, बड़ी रकम जुटाने के सरकार के प्लान को लग सकता है झटका

सरकार ने मौजूदा फाइनेंशियल ईयर में 2.1 लाख करोड़ रुपये की रकम विनिवेश से जुटाने का लक्ष्य रखा है। लेकिन एलआईसी का आईपीओ न आने के चलते यह आंकड़ा 1 लाख करोड़ रुपये पर ही अटक सकता है।

भारत पेट्रोलियम के निजीकरण का कंपनी के चेयरमैन ने किया समर्थन, कहा- पेशेवर होगी कंपनी और बढ़ेगा निवेश

कंपनी के चेयरमैन के. पद्माकर ने कहा कि निजीकरण से निवेश और तकनीक में इजाफा होगा। उन्होंने कहा कि निजीकरण की प्रक्रिया से कंपनी में प्रोफेशनलिज्म तेजी से बढ़ेगा।

निजीकरण के खिलाफ BPCL कर्मचारियों की हड़ताल, कंपनी के प्राइवेट होने पर सेवानिवृत्ति लाभ न मिलने का डर

कर्मचारियों की आरोप है कि सरकार ने जून 2020 के बाद कंपनी मैनेजमेंट को 10 साल के कॉन्ट्रैक्ट सेवा की समीक्षा करने का अधिकार दिया है। इसकी मदद से जो भी प्राइवेट मैनेजमेंट कंपनी को अपने अधिकार में लेगा, वह श्रमिकों के सेवा की शर्तों में संशोधन करेगा।

भारत पेट्रोलियम का निजीकरण: हिस्सेदारी खरीदने के लिए बोली की तारीख अब 30 सितंबर तक बढ़ी

Privatisation of Bharat Petroleum: सऊदी अरामको, अबू धाबी नेशनल ऑइल कंपनी, रूस की रोजनेफ्ट और अमेरिका की कंपनी Exxon Mobil बीपीसीएल की हिस्सेदारी खरीदने में रुचि दिखाई है।

विदेशी हाथों में जाएगी सरकारी तेल कंपनी भारत पेट्रोलियम? सऊदी अरामको समेत ये कंपनियां खरीद सकती हैं हिस्सेदारी

सरकारी सूत्रों का कहना है कि सऊदी अरामको, अबू धाबी नेशनल ऑइल कंपनी, रूस की रोजनेफ्ट और अमेरिका की कंपनी Exxon Mobil बीपीसीएल की हिस्सेदारी खरीदने में रुचि दिखाई है। ये सभी कंपनियां बीपीसीएल की हिस्सेदारी की नीलामी में हिस्सा ले सकती हैं।

मोदी सरकार ने BPCL के प्राइवेटाइजेशन की तरफ बढ़ाए कदम, अगले कुछ दिन में बोली लगाने के लिए LOI मंगा सकती है

चालू वित्त वर्ष में सरकार ने विनिवेश से 1.05 लाख करोड़ रुपये मिलने का लक्ष्य रखा था लेकिन इसके पूरा होने की संभावना नहीं है। बजट में इस लक्ष्य को संशोधित कर 65 हजार करोड़ रुपये कर दिया गया है।

IPL 2020 LIVE
X