bihar flood

बाढ़ पीड़ितों पर SDO के सुरक्षाकर्मियों ने भांजी लाठियां तो गुस्से में टूट पड़े लोग, जान बचाकर भागे अफसर

वहीं, एसडीओ का इस मामले को लेकर कहना है कि नाथनगर और अकबरनगर के बीच दोगच्छी के नजदीक रामचन्द्रपुर नवटोलिया गांव की सड़क पर बाढ़ पीड़ित लोग पेड़ की लकड़ी का बाड़ा लगा कर आने जाने वाले वाहनों से पैसे की वसूली कर रहे थे।

बिहारः सिर पर भागलपुर के नाथनगर उप-चुनाव, जलजमाव के चलते 100 से अधिक बूथ डूबे

ज़िलाधीश ने बताया कि बाढ़ की वजह से अब तक चौदह मौतें हुई है। जिनमें आठ जनों की दीवार गिरने से दब कर जानें गई है। ज़िले के सभी सोलह प्रखंडों की 122 पंचायतों के 419 ग़ांव की 492859 आवादी और 93612 मवेशी बुरी तरह से प्रभावित है।

‘दूध का पैकेट पैर के नीचे दबाए, मांगने पर भी नहीं दिया’ बाढ़ में फंसे लोकगायिका शारदा सिन्हा के बेटे ने राहकर्मियों पर लगाया आरोप

सोमवार को प्रख्यात लोकगायिका और पद्म पुरस्कार से सम्मानित शारदा सिन्हा के अंशुमान सिन्हा ने फेसबुक पर एक वीडियो शेयर किया है। इस विडियो के माध्यम से उन्होंने राहकर्मियों पर उनकी मदद न करने का आरोप लगाया है।

Weather Forecast Today Updates: उत्तर प्रदेश में तेज बारिश से हुए हादसों में कई की मौत, कई स्थानों पर और बारिश की आशंका

Weather forecast Today India News Updates: पिछले सप्ताह से अब तक उत्तर प्रदेश में 111 और बिहार में 28 लोगों की मौत हुई है। मौसम विभाग ने मानसून की देर से वापसी और पटना में और बारिश होने का पूर्वानुमान व्यक्त किया है।

Bihar Flood: बिहार के मंत्री लक्ष्मेश्वर राय बोले- मौत तो हर बार होती है, इस बार बाढ़ जिम्मेदार

Bihar Flood: बिहार में बाढ़ से मारे गए लोगों को लेकर उनका कहना है कि, ”मौत तो मौत है। मौत अपने आप होती है। मौत स्वाभाविक है। चाहे किसी भी कारण से हो, लेकिन मौत स्वाभाविक चीज है।इतना ही नहीं उनका कहना है कि मौत की हर बार कोई ना कोई वजह होती है।

Bihar: बाढ़ और बारिश के बीच आसमानी आफत का कहर, बक्सर में आकाशीय बिजली गिरने से 4 लोगों की मौत

बक्सर में बारिश के साथ आई आसमानी आफत से कई जिंदगियां तबाह हो गईं। यहां आकाशीय बिजली गिरने से 4 लोगों की झुलसकर मौत हो गई।

Bihar flood: बिहार में बाढ़ का कहर जारी, अबतक 102 लोगों की मौत; 72 लाख प्रभावित

बिहार के 12 जिलों में आई बाढ से अबतक 102 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि करीब 72 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। लोगों को अस्थायी आश्रय बनाकर आसमान के नीचे रहना पड़ रहा है।

Assam-Bihar Flood: असम में 47 तो बिहार में अब तक 92 लोगों की बाढ़ से मौत, लाखों लोग हुए बेघर

Bihar, Assam Floods: बिहार में बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 92 तक पहुंच गई है। वहीं असम में बाढ़ में 11 और लोगों की मौत के साथ मृतकों की संख्या बढ़कर 47 हो गई है।

राजनीतिः बिफरती नदियां और खतरे

बगैर सोचे-समझे नदी-नालों पर बांध बनाने के कुप्रभावों के कई उदाहरण पूरे देश में देखने को मिल रहे हैं। वैसे शहरीकरण, वन विनाश और खनन तीन ऐसे प्रमुख कारण हैं जो बाढ़ की विभीषिका में उत्प्रेरक का काम कर रहे हैं। जब प्राकृतिक हरियाली उजाड़ कर कंक्रीट का जंगल सजाया जाता है तो जमीन की जल सोखने की क्षमता तो कम होती ही है, सतही जल की बहाव क्षमता भी कई गुना बढ़ जाती है। फिर शहरीकरण के
कूड़े ने समस्या को बढ़ाया है।